कोरिया में मुख्यमंत्री सुपोषण अभियान में मुनगा कारगर हथियार

नतीजे बेहतर, 1894 बच्चों में कुपोषण खत्म, अभिभावक भी सजग

बैकुंठपुर। कोरिया जिले में चलाए जा रहे मुख्यमंत्री सुपोषण अभियान के तहत काफी अच्छे परिणाम सामने आ रहे है। कुपोषण दूर करने बच्चों को अंडा, बादाम पट्टी, गर्म भोजन के साथ दूध भी दिया जा रहा है, इस अभियान ने अब तक 1894 बच्चे मध्यम कुपोषण से सुपोषित हुए है।
इस संबंध में महिला बाल विकास अधिकारी चंद्रबेश सिंह सिसोदिया का कहना है कि इस योजना पर निरंतर विभाग का पूरा अमला पूरी ताकत से लगा हुआ है, जिसके बेहतर परिणाम सामने आ रहे है दूरस्थ क्षेत्रों के आंगनबा़डी कैन्द्रों के बच्चों की सेहत में भी ना सिर्फ सुधार देखा जा रहा है, बल्कि ज्यादा बच्चे और उनके माता-पिता इस अभियान मे बढ़चढ़कर अपनी भागीदारी दे रहे है।

जानकारी के अनुसार कोरिया जिले सें 8197 बच्चों को सामान्य श्रेणी में आने का लक्ष्य रखा गया, जिसमें बैकुंठपुर में 1430, भरतपुर में 1583, मनेन्द्रगढ़ में 1693, सोनहत में 1151, खडगवां में 1887 और चिरमिरी मे 453 का लक्ष्य रखा गया, इसमें से 7306 बच्चे रोजाना अंडा खा रहे है, जबकि बादाम पट्टी खाने वाले 891 बच्चे है। इससे 1894 बच्चें मध्यम कुपोषण से सामान्य में पहुंच गए है। इसके अलावा गंभीर रूप से कुपोषित 968 बच्चें मध्यम में आए है इसके अलावा 105 गंभीर कुपोषित बच्चे सामान्य श्रेणी में आ चुके हैं। वर्तमान में 3659 मध्यम श्रेणी और 773 बच्चें गंभीर कुपोषण की श्रेणी में है। अभियान की सफलता में सुपोषण ट्री मुनगा का बेहद लाभ मिलता दिख रहा है, जिले भर में 22689 मुनगा के पॆड़ लगाए गए है, जिसकी भाजी आंगनबा़डी केन्द्रों के साथ हर पालक को बच्चों को खिलाने के लिए प्रेरित किया गया है। बैकुठपुर में 5953, भरतपुर में 7700, मनेन्द्रगढ़ में 2644, सोनहत में 2697, खड़गवां में 1679 और चिरमिरी में 2016 पेड़ लगाए गए हैं जो हर आंगनबाड़ी केन्द्रों के बाहद देखे जा सकते हैं।

दर्जनों बच्चे हुए सुपोषित
मुख्यमंत्री सुपोषण अभियान से दर्जनों बच्चे सामान्य की श्रेणी में पहुंच चुके हैं। जिसमें बैकुंठपुर के खुटहनपारा का सत्यम यादव, खोगापानी के वार्ड नंबर 11 की सौम्या और रक्षित, मनेन्द्रगढ के वार्ड नंबर 10 का सुमेर, खडगवां शिवपुर के पटेलपारा का अशीष सिंह, बरदर धनपुर जामपारा का दिलेश्वर, गिद्धमुडी नादियापारा की भारती, जनकपुर बैगापारा की सुभी मौर्य, कमर्जी मुर्किल का हसदेव, बहरासी मोहनटोला का अजय, चिडौला की आयुषी सिंह, भरतपुर की वैष्णवी, चिरमिरी वार्ड नं 24 की सूर्यवंशी और संकल्प पटेल, हल्दीबाडी का जय, आमानाला की राखी, हल्दीबाडी का मुकेश, आत्या, नावेद, फैजल, मांडीसरई के बसोरपारा आंगनबाडी केन्द्र का सत्यम, खमरौद के हथवारीपारा का अतुल सिंह, जनकपुर के भरतपुर आंगनबा़डी केन्द्र का अमित पांडेय, बहरासी के टिकुरीटोला की सरोज सिंह शामिल है। माता-पिता भी काफी खुश है।

लगातार जांच शिविर का आयोजन
कलेक्टर के निर्देश पर हर शुक्रवार को जिले भर के 42 स्वास्थ्य केन्द्रों जिसमें जिला अस्पताल, सामुदायिक स्वास्थ्य केन्द्र, प्राथमिक स्वास्थ्य केन्द्र और उपस्वास्थ्य केन्द्रों में जांच की जा रही है, आंगनबा़डी कार्यकर्ता बच्चों को लेकर आती है जहां उनकी सभी तरह की जांच की जाती है। जांच से यह बात सामने आई है कि 157 कुपोषित बच्चों के हेमोग्लोबिन और वजन में काफी सुधार आया है।