नहीं मिली आज़ादी, अब अनशन पर “अंजली”

हाईकोर्ट के आदेश के बाद भी नहीं मिटी दूरिया

रायपुर। सखी सेंटर में कैद अंजली जैन ने अब अनशन शुरू कर दिया है। हाईकोर्ट से अपनी रिहाई का आदेश लेने के तकरीबन 48 घंटे से ज्यादा बीतने के बाद भी अंजली को अब तक रिहाई नहीं मिल पाई है। सखी सेंटर में रह रही अंजली की सिर्फ एक ही जिद है कि उसे अपने पति के साथ जाना है। हाईकोर्ट ने भी इस मामले में अंजली के पक्ष में ही फैसला देते हुए यह आदेश 15 नवंबर को जारी कर दिया था कि अंजलि जैन अपने पति के साथ जाने की आज़ादी है, लेकिन इसकी सूचना अंजली के परिजनों को दी जानी होगी। अब पूरा मसला इस सुचना देने पर जा कर अटका है।

दरअसल अंजली के रिहाई की खबर उनके परिजनों तक पहुंचाने के लिए हाईकोर्ट ने सखी सेंटर के अधिकारी को आदेशित किया था, लेकिन 15 तारीख से 18 तारीख तक अंजली को सखी सेंटर से आजादी नहीं मिल पाई है। तारीख और समय मुकर्रर करने के बावजूद भी सखी सेंटर और जिला पुलिस बल के अधिकारी एक दूसरे के ऊपर इस पूरे मामले में खबर पहुंचाने का हवाला दे रहे है। अंजली जैन के मुताबिक उन्होंने अपने पिता के नंबर पर हाईकोर्ट के आदेश की सूचना देनी चाही लेकिन उनका मोबाइल नंबर बंद आ रहा था। जिसके बाद अंजली ने इस बात की सूचना अपने बड़े पिताजी को फोन करके देने के लिए सखी सेंटर के अधिकारियों को कहा। जिस पर उन्होंने अंजली के बड़े पिताजी को इस बात की खबर दी, लेकिन उन्होंने इस पूरे मामले में पल्ला झाड़ते हुए अंजलि के पिता से बातचीत करने के लिए कह दिया।

शुरू कर दिया अनशन
इधर अंजली ने सूचना नहीं दिए जाने और जबरिया पुलिस पर लेटलतीफी करने का आरोप भी मढ़ा है। साथ ही अंजली ने सखी सेंटर में ही अनशन शुरू कर दिया है। बक़ौल अंजलि आज सुबह से ही उसने सेंटर में कुछ भी नहीं खाया पिया है। वही इस मामले में जिले के आला पुलिस अधिकारी कुछ भी कहने से फिलहाल बच रहे है।