ऑनलाइन गेम की लगी लत, दोस्त के हाथों जान गंवाई

रायगढ़| ऑनलाइन पढाई के लिए मोबाईल हाथ में आते ही बच्चे ऑनलाइन गेम का शिकार होते जा रहे हैं| ऐसे ही एक मामले में एक किशोर ने दोस्त के हाथों जान गंवाई | घटना बिलासपुर संभाग के रायगढ़ जिले के सारंगढ़ थाना इलाके की है|

पुलिस के मुताबिक ऑनलाइन पढाई के दौरान 17 बरस के लक्षेंद्र नामक किशोर को मोबाइल पर ऑनलाइन गेम की लत हो गई थी| वह पड़ोसी दोस्त चवन खूंटे से उधार लेकर गेम के फीचर्स खरीदने लगा| साल भर में वह अपने इस दोस्त से 75 हजार रूपये उधार ले लिए थे| इधर मोबाइल पर घंटो लगे बेटे को देख माँ समझती रही कि वह पढाई कर रहा है|

अब इधर जब चवन पैसे मांगता, तो  टालने लगा| बीते 10 मार्च को चवन और लक्षेंद्र  घूमने के लिए निकले और दोनों ने जमकर शराब पी। जब उधर की रकम को लेकर दोनों में  बात हुई तो  तो लक्षेंद्र ने देने से मना कर दिया। इससे वह गुस्से में आकर लक्षेंद्र की हत्या कर दी|

हत्या के बाद चवन ने लक्षेंद्र के घरवालों से रकम वसूलने अपहरण की कहानी बना डाली|   लाश को जंगल में छिपाकर लक्षेंद्र के मोबाइल से उसके पिताजी को अपहरण होने और 5 लाख की फिरौती का मैसेज भेजा। फिर वही मैसेज अपने मोबाइल पर भेजा और गांव जाकर लक्षेंद्र के अपहृत होने की सूचना फैला दी।

मामला पुलिस तक पहुंचा| चार दिनों तक तलाश करने के बाद आखिर पुलिस ने आसपास के सीसीटीवी खंगाले तो लक्षेंद्र चवन के साथ दिखा।

शक के आधार पर चवन को हिरासत में लिया गया| हिरासत में अपहरणकर्ताओं के मैसेज उस तक आने बंद हो गये| पुलिस ने तब सख्ती दिखाई उसने जुर्म कबूल करते  घटना का पूरा ब्यौरा दिया|

बता दें ऑनलाइन पढाई करते बच्चे ऑनलाइन गेम  ही नहीं सोशल मीडिया पर ज्यादा वक्त बिताने लगे हैं जिससे  पढाई पर सीधा असर हो रहा है|