पंचायत चुनावः अफसर हैरान-परेशान, निकल रहा पसीना

शौचालय पर एक-दूसरे के कपड़े उतार रहे, खुल रही हकीकत

बैकुंठपुर जशपुर| सरपंची के लिए गांव-गांव में इन दिनों जोश दिख रहा है। गांवों की चौपालें गहमागहमी से भरी रहती हैं। राजनीतिक दलों के सामने आ जाने से अब नजारा ज्यादा दिलचस्प होता जा रहा है। इसी के साथ फार्म भरने का सिलसिला जारी है। जहां सरपंची करने के उम्मीदवारों के तर्क से अफसर हैरान-परेशान हैं। स्कूटनी के वक्त पसीने निकल रहे हैं।वहीं मजेदार मामले सामने आ रहे हैं, उम्मीदवार एक-दूसरे के कपड़े उतार रहे हैं और जमीनी हकीकत सामने आने लगे हैं।

दरअसल जशपुर के बगीचा में कल स्कूटनी के समय काफी विवाद देखने को मिला । विवादित फार्म को निपटाने में अधिकारियों के पसीने छूट गए। एक मामले में सरपंच ने प्रत्याशी पर आरोप लगाया कि शौचालय नहीं है जिसके तहत वह नामांकन नहीं जमा कर सकता तथा नामांकन निरस्त कर दिया जाए। प्रत्याशी ने भी त्वरित जवाब दिया और कहा कि पंचायत को तो आपने निर्मल ग्राम बनाया था इसके लिए कौन है जिम्मेदार, प्रत्याशी ने सरपंच से कहा कि तुम ही जिम्मेदार हो तुम्हारे रिकॉर्ड में तो शौचालय बना हुआ है।

इसी तरह विवादों में देर रात को सभी फार्म का निपटारा हो सका । वहीं कुछ फार्म में अधिक विवाद को लेकर आज 12 बजे तक का समय दिया गया है । प्रत्याशियों द्वारा तरह तरह के निरस्तीकरण के आवेदन लागए गई। कई आवेदनों पर जमकर बहस भी हुई। यहां तक कि जाति मामले पर रिटर्निंग अधिकारी से प्रत्याशी भिड़ गए। दरअसल कल स्कूटनी का दिन था पक्षी विपक्षी अपने विरोधी के प्रत्याशी फार्म को निरस्त करने का कवायद ढूंढ रहे थे।

ऐसे में एक मामला बीडीसी प्रत्याशी के मकान में शौचालय नहीं होने का आरोप लगाया जिसकी समीक्षा कर आवेदक का आवेदन निरस्त कर दिया गया। कहीं जाति पे आवेदन तो कहीं स्थाई न होने का आरोप भी लगता रहा बहरहाल सभी आवेदनों को संज्ञान में लेते हुए मुख्य रिटर्निंग अधिकारी तहसीलदार बगीचा श्री मरकाम द्वारा तहकीकात और साक्ष्य के आधार पर निराकरण किया गया।

वहीं सरपंच द्वारा एक प्रत्याशी के ऊपर शौचालय न होने का आरोप लगाया तो वह आरोप सरपंच पर ही भारी पड़ गया। विपक्ष के प्रत्याशी ने कहा आप ही तो बिना शौचालय बनवाये निर्मल ग्राम का दर्जा दिये हो । अब आप कैसे कह रहे हो कि शौचालय नहीं बना है।