ओडिशा से 47 मजदूरों को आंध्र ले जा रहा दलाल गिरफ्तार

गरियाबंद से वापस भेजे जाएंगे, देवभोग सीमा से लगा है यह इलाका

रायपुर। छत्तीसगढ़ के गरियाबंद जिला मुख्यालय में आज सुबह श्रम विभाग व पुलिस की टीम ने बस में सवार 43 मजदूरों रोका और दलाल को गिरफ्तार किया। श्रम विभाग को सूचना मिली थी कि गरियाबंद से मजदूरों को रायपुर के रास्ते आंध्रप्रदेश ले जाया जा रहा है। तहकीकात में सभी मजदूर ओडिशा के निकले। ये नवरंगपुर जिले के फलसा पारा, पुजारी पारा पाट फलिया गांव के हैं। मजदूरों के साथ उनके बच्चे भी थे। यह इलाका जिले के देवभोग-मैनपुर क्षेत्र की सीमा से लगा हुआ है। लिहाजा मजदूर दलाल को गिरफ्तार कर उससे पूछताछ की जा रही है। कार्रवाई पूरी कर मजदूरों को उनके गांव वापस भेजा जाएगा। इस संबंध में ओडिशा के अफसरों से संपर्क किया जा रहा है।

मिली जानकारी के अनुसार आज शनिवार सुबह गरियाबंद साई मंदिर के पास देवभोग से रायपुर जाने वाली यात्री बस से ओडिशा के 43 मजदूरों को ईंट भट्ठे में ले जा रहे मजदूर दलाल को श्रम विभाग व पुलिस द्वारा पकड़ा गया। इनमें मैनपुर ओडिशा सीमावर्ती क्षेत्र व ओडिशा प्रान्त नवरंगपुर जिला के बेहारगुड के आस पास के गांव से 16 पुरुष, 20 महिलाएं व 7 बच्चे हैं। दलाल इन मजदूरों को आंध्रप्रदेश के ईंट भट्टे में काम कराने ले जा रहा था। श्रम विभाग अधिकारी डी. एन. पात्र ने बताया कि गरियाबंद के इलाके से मजदूरों को रायपुर के रास्ते आंध्रप्रदेश ले जाए जाने की सूचना मिली थी। लिहाजा सुबह साढ़े सात बजे मां शारदा यात्री बस जिसमें ये मजदूर सवार थे रोका गया। पूछताछ में ये सभी ओडिशा के निकले, इनके साथ मजदूर दलाल भी था। पूछताछ में मजदूरों ने बताया कि देवभोग-मैनपुर क्षेत्र के सीमावर्ती ओडिशा के फलसा पारा, पुजारी पारा, पाट फलिया जो ओडिसा नवरंगपुर जिला अंतर्गत के रहने वाले मजदूर हैं जिन्हें दलाल आंध्रप्रदेश ले जा रहा था।