महासमुंद: महुआ पास और शराब लेकर थाने पहुँच गए गांववाले

पिथौरा विकासखण्ड का यह दूसरा ग्राम बना किशनपुर जहां शराबबंदी

रजिंदर  खनूजा, पिथौरा| रायपुर संभाग के महासमुंद जिले के पिथौरा विकासखण्ड क्षेत्र अंतर्गत ग्राम किशनपुर में भी ग्रामीणों ने आपसी बैठक कर शराबबंदी लागू कर दी। पिथौरा विकासखण्ड का यह दूसरा ग्राम है जहां शराबबंदी की गई है।दोनों ग्रामो की शराबबंदी में अंतर यह है कि बुंदेली में चौकी प्रभारी द्वारा शराबबंदी की पहल की पढ़ें  https://deshtv.in/chhattisgarh/raipur-division/mahasmund/of-complete-prohibition-in-this-village-of-mahasamund-if-the-decision-is-sold-its-photo-will-be-displayed-on-the-square/जबकि किशनपुर में ग्रामीणों ने पहल कर पुलिस को बैठक में बुलाया।

छत्तीसगढ़ में चुनाव के पूर्व शराबबंदी के वायदे को सरकार भले ही पूरा नही कर पा रही है।परन्तु ग्रामीण क्षेत्रो में अब शराब से टूटते घरो एवम बर्बाद होते ग्रामीणों को बचाने ग्राम स्तर के जनप्रतिनिधि प्रयास करने जुटे है।कुछ ऐसा ही निर्णय बुंदेली के ग्रामीणों के बाद अब विकासखण्ड के ग्राम किशनपुर में भी शराबबंदी के सख्त निर्णय लिया गया है।

इस सम्बंध में शराबबंदी समिति के संरक्षक राधेश्याम साहू ने बताया कि विगत सप्ताह ग्राम में बढ़ रहे अपराध के ग्राफ को रोकने ग्रामीणों द्वारा एक बैठक आहूत की गई।इस बैठक में पिथौरा थाना प्रभारी को भी बुलाया गया था।बैठक में सर्वसम्मति से ग्राम में शराबबंदी के निर्णय लिया गया।निर्णय के अनुसार अब ग्राम में कोई भी शराब नही बनाएगा,ना ही बेचेगा और ना ही पियेगा।

इस समिति का अध्यक्ष ग्राम के प्रमुख राजकुमार बरिहा को बनाया गया एवम समिति में शराबबंदी पर नियंत्रण हेतु ग्राम के 20 प्रमुख ग्रामीणों को सदस्य बनाया गया।

इधर अचानक शराबबंदी से अवैध शराब बना कर बेचने वालों पर जैसे आफत का पहाड़ टूट पड़ा।अब ये ग्राम में अपने घर से दूर जंगल मे महुआ शराब का निर्माण करने लगे। ग्रामीणों के अनुसार अवैध शराब एवम शिकार का गढ़ माना जाने वाला किशनपुर में पुलिसिया दबाव नही के बराबर था।

लिहाजा बीती रात ग्रामीणों को खुद ही सामने आना पड़ा और सरपंच प्रतिभा कमलेश बारीक के नेतृत्व में ग्रामीण शराबबंदी समिति ने अन्य ग्रामीणों के साथ मिलकर समीप के जंगल मे महुआ शराब बनाने के लिए बनाए गए कोई 18 बोरी महुआ पॉस एवम 35 से 40 लीटर महुआ की शराब पकड़ने में सफलता हासिल की परन्तु ग्रामीणों की योजना की भनक मिलते ही अरोपी घटनास्थल से पहले ही भाग निकले।
पुलिस पहुची कार्यवाही जारी
ग्रामीणों के अनुसार शराबबंदी समिति की पहली कार्यवाही में ही अवैध रूप से शराब बनाने हेतु तैयार किये गए महुआ पास (सड़ाया गया महुआ) एवम शराब भारी मात्रा में पकड़ कर पुलिस के हवाले किया गया।बहरहाल पुलिस अधिकारी एवम आबकारी विभाग के अधिकारी किशनपुर पहुच कर कार्यवाही में जुट गए है।
अधिकारी मोबाइल नही उठा रहे
घटना की जानकारी लेने इस प्रतिनिधि ने स्थानीय थाना प्रभारी से जानकारी लेने का प्रयास किया परन्तु किसी भी अधिकारी ने मोबाइल  रिसीव नहीं किया |

संबंधित पोस्ट

महासमुंद: खरीदी केंद्र बदलने से नाराज किसानों ने ताला जड़ा, अफसर बंधक  

महासमुंद : फिर दीगर राज्यों को जा रहे 200 मजदूर गाँव लौटाए जा रहे

पिथौरा इलाके से एक बार फिर दलालों के चंगुल में फंसे मजदूरों का पलायन शुरू

महासमुंद जिले में अलग-अलग सड़क हादसों में 3 बाइक सवार की मौत

महासमुंद: स्कूली छात्रा से स्कूल में ही बलात्कार, मामला दर्ज

महासमुंद: सरायपाली के इस गाँव में मृतकों के नाम से भी राशन वितरण

महासमुंद: ट्रक में चेम्बर बनाकर और लग्जरी कार से शराब की तस्करी, 7 गिरफ्तार  

महासमुंद : खेत में काम कर रहे किसान को हाथी ने पटक मारा

महासमुंद: पिथौरा ईंट व्यवसायी के घर कट्टे के बल पर लूट की कोशिश, 1 गिरफ्तार

महासमुंद: सरायपाली में जुआ खेलते 3 गिरफ्तार, ताश पत्ती और नगदी जब्त

महासमुंद : सेंधमारी-चोरी के चार आरोपी गिरफ्तार, सामान बरामद

झोला छाप डाक्टर सामान्य बुखार में दे रहे हाई डोज इंटीबायोटिक इंजेक्शन