कुत्तों से जान बचाने चीतल तालाब में कूदा, डूबने से मौत  

महासमुन्द| महासमुन्द जिले में गुरुवार की सुबह पिथौरा परिक्षेत्र अंतर्गत बुंदेली वृत में एक और चीतल मारा गया। इस चीतल को ग्राम के आवारा कुत्ते दौड़ा रहे थे।जिससे भागता हुआ चीतल बगारपाली के तालाब में कूद गया जिससे डूब कर उसकी मौत हो गयी| चीतल नर था एवम उसकी उम्र 6 से 7 वर्ष बताई जा रही है।

स्थानीय परिक्षेत्र अधिकारी से मिली जानकारी के अनुसार जंगलो के जलस्त्रोत सूख  जाने की वजह से कुछ वन्य प्राणी पानी की तलाश में जंगल से लगे ग्रामो के समीप पहुँच जाते है।जिससे कभी कभी ये प्राणी हादसे का शिकार हो जाते है।

ऐसा ही एक हादसा पिथौरा वन परीक्षेत्र के बुंदेली वृत में घटित हुआ।बुंदेली के समीप लगे जंगल से कुछ चीतल पानी की तलाश में प्रातः कोई 5 वजे बगारपाली ग्राम के पास कक्ष क्र 211 पहुच गए।यहां सुबह कुछ कुत्तों की नजर चीतलों पर पड़ी तो कुछ चीतल तो वापस जंगल भाग गए| परन्तु एक नर चीतल बड़ा सिंग होने के कारण तेज भाग नहीं सका और ग्राम के मुहाने पर स्थित एक तालाब में कूद पड़ा।तालाब में कूदने के बाद चीतल ने बाहर आने का प्रयास किया परन्तु नही आ पाया जिससे उसकी तालाब में ही डूबने से मौत हो गयी।

सुबह कुछ ग्रामीण ज़ब तालाब गए तब उन्होंने चीतल को तालाब में मृत देखकर घटना की सूचना वन विभाग को दी।

बहरहाल वन विभाग ने ग्रामीणों के सहयोग से मृत चीतल को बाहर निकलवा कर उसके पोस्टमॉर्टम के बाद अंतिम संस्कार कर दिया है।

बता दें जंगली जानवर जैसे हिरन ,चीतल , सुअर ,भालू, पानी की तलाश में शिकारियों के हाथों मारे जा रहे हैं| करंट से शिकार करना शिकारियों का आसान हथियार बंन गया है| ( देखें विडिओ )वहीँ हाथी, बायसन जैसे जानवर भी इसके शिकार हो रहे हैं|इतना ही नहीं खुद  शिकारी भी करंट से जान  गँवा रहे हैं| दो दिन पहले देवपुर में ऐसी घटना सामने आ चुकी है|