रेमडेसिविर इंजेक्शन बेचते पकड़ा गया सरकारी कोविड केअर सेंटर का डॉक्टर

प्रति नग 3,400/-की यह इंजेक्शन 20 से 40 हजार तक में कालाबाज़ारियों के हाथों बिक रही

महासमुंद| रायपुर संभाग के महासमुंद जिले में एक डॉक्टर को रेमडेसिविर इंजेक्शन बेचते 6 नग इंजेक्शन बरामद किया गया| पुलिस ने आरोपी डॉक्टर पर धारा 102 जाफ्ता फौजदारी के तहत कार्रवाई की है। आरोपी डॉक्टर महासमुन्द जिला मुख्यालय के ही एक कोविड केअर सेंटर में मेडिकल ऑफिसर के पद पर पदस्थ है|

बता दें देश भर में रेमडेसिविर इंजेक्शन की मारामारी बनी हुई है| प्रति नग 3,400/-की कीमत की यह इंजेक्शन 20 से 40 हजार तक में कालाबाज़ारियों के हाथों बिकने की खबरें सामने आ रही हैं|

ज्ञात हो कि छत्तीसगढ़ में शासकीय अस्पताल में गंभीर मरीजों को लगाने हेतु शासकीय तौर पर उक्त इंजेक्शन मुहैया कराया जाता है। रेमडेसीवीर इंजेक्शन वर्तमान में मात्र सरकारी अस्पतालों में ही उपलब्ध है।मेडिकल स्टोर्स में इसे  बेचने की अनुमति नहीं है।

करीब महीने भर से प्रदेश में इस इंजेक्शन को लेकर मारामारी की स्थिति बनी है। संक्रमित मरीज के  परिजन 20 से 40  हजार में इंजेक्शन कालाबाज़ारियों से खरीदने मजबूर हो रहे हैं|

 रेमडेसिविर इंजेक्शन बेचते पकड़ा गया डॉक्टर दैत्यनाशन पटेल  MBBS है एवम उसकी पदस्थापना महासमुन्द जिला अस्पताल में विगत वर्ष ही हुई थी। वर्तमान में वह महासमुन्द जिला मुख्यालय के ही एक कोविड केअर सेंटर में मेडिकल ऑफिसर है।

पुलिस को कल मुखबिर से सूचना मिली कि एक व्यक्ति माईलेन कम्पनी का शासकीय इन्जेक्शन बिक्री हेतु ग्राहक तलाश कर रहा है।

एसपी प्रफुल्ल ठाकुर के निर्देश पर पुलिस टीम एवम अधिकारी लगातार सक्रिय थे। बुधवार को मुखबिर की सूचना पर साइबर सेल और महासमुंद पुलिस की संयुक्त टीम ने राजिम मोड महासमुंद के पास एक संदिग्ध व्यक्ति को पकड़ कर पूछताछ की।

पूछताछ में उसने अपना नाम डॉक्टर दैत्यनाशन पटेल पिता ऋषि कुमार पटेल जिला अस्पताल महासमुंद का रहने वाला बताया। जिसकी तलाशी लेने पर रेमडेसिविर इंजेक्शन 100 एमजी मायलेन कंपनी का 6 नग मिला. जिसे मौके पर जब्त कर आगे की कार्रवाई के लिए ड्रग कंट्रोल विभाग को प्रकरण सौंप दिया गया है।

इस महत्वपूर्ण कार्यवाही के बाद माना जा रहा है कि उक्त डॉ द्वारा  शासकीय कोविड सेंटर से ही उक्त इंजेक्शन चोरी कर बाहर जरूरतमंदों को ऊंची दर पर बेचे जा रहे थे ।

देखें वीडियो- महासमुन्द जिला मुख्यालय के ही एक कोविड केअर सेंटर में भारी लापरवाही सामने आ चुकी है|