EXCLUSIVE : आईजी आनंद छाबड़ा ने पकड़ा अवैध धान, लगाई फटकार…

लगभग साढ़े तीन हज़ार बोरी अवैध धान किया जप्त

रायपुर। प्रदेश में चल रही धान खरीदी के लिए राज्य सरकार ने तमाम अफसरों को औचक निरीक्षण करने के निर्देश दिए है। इसी के तहत रायपुर रेंज आईजी आनंद छाबड़ा ने महासमुंद से लगे कई इलाकों का दौरा किया। उन्होंने सराईपाली, बसना और बालोद से लगे गांव का निरीक्षण किया और अवैध धान का जखीरा भी पकड़ा।
निरीक्षण के दौरान रायपुर आईजी आनंद छाबड़ा ने बसना के ग्राम पोटापारा में अवैध धान का जखीरा पकड़ा है।

बसना के पोटापारा निवासी बृजलाल साव के घर में बगैर टोकन के अवैध रूप से 525 बोरी धान रखा था, जिसे आईजी आनंद छाबड़ा ने अपने निरीक्षण के दौरान पकड़ा है। ठीक ऐसे ही थाना सराईपाली के ग्राम बोंदा में राजेश अग्रवाल संचालक साईं कृपा ट्रेडर्स के गोदाम में भी अट्ठारह सौ बोरी धान अवैध रूप से रखा हुआ मिला। वही बानीगीरोला में मानिक अग्रवाल के गोदाम से 535 बोरी धान बरामद किया गया है। इन धानों को जप्त कर आईजी आनंद छाबड़ा ने मंडी सचिव को अग्रिम कार्रवाई हेतु निर्देशित किया है। वही थाना कोमाखान पुलिस टीम द्वारा 165 कट्टा अवैध धान जप्त किया गया है। बलौदा चौकी में गजपति साहू से 90 पैकेट धान बगैर किसी वैध कागजात के ट्रैक्टर सहित जप्त किया गया है।

अफसरों को फटकारा
आईजी रायपुर रेंज आनंद छाबड़ा ने इस दौरान धान खरीदी केंद्र और विभागीय अफसरों को भी जमकर फटकार लगाई है। उन्होंने मौके पर मौजूद अफसरों को हिदायती लहज़े में कहा कि प्रदेश के किसानों के धान की बिक्री सुचारु रूप से हो और अवैध धान को रोकने सभी मुस्तैद रहे।

संबंधित पोस्ट

जशपुर के कांसाबेल में ट्रक से 200 क्विंटल धान जप्त

धान खरीदी : 2 और 3 जनवरी को जारी टोकन का पुनर्व्यवस्थापन

किसानों को धान का 2500 रूपए मूल्य देने मुख्यमंत्री ने गठित की समिति

पिथौरा के कटेल जंगल में प्राचीन प्रतिमा बरामद

भाजपा ने जलाई उत्पादन प्रमाण पत्र के आदेश की प्रतियां

अवैध धान परिवहन में अब तक 2438 प्रकरण पर कार्रवाई

मुख्यमंत्री के निर्देश पर धान खरीदी की लिमिट व्यवस्था शिथिल

कोरिया : सख्ती ऐसी कि खरीदी केंद्रों से बरामद होने लगे लावारिश धान

अफसरों के साथ सीएस आरपी मंडल पहुंचे धान खरीदी केंद्र

धान खरीदी : 2,270 मामलों में 29 हज़ार 170 टन अवैध धान जप्त

बिना पंजीयन वाले छोटे किसान नहीं बेच पा रहे धान

शिक्षक की दीवानगी ऐसी, शतरंज पर लिखी एक दर्जन किताबें