EXCLUSIVE : आईजी आनंद छाबड़ा ने पकड़ा अवैध धान, लगाई फटकार…

लगभग साढ़े तीन हज़ार बोरी अवैध धान किया जप्त

रायपुर। प्रदेश में चल रही धान खरीदी के लिए राज्य सरकार ने तमाम अफसरों को औचक निरीक्षण करने के निर्देश दिए है। इसी के तहत रायपुर रेंज आईजी आनंद छाबड़ा ने महासमुंद से लगे कई इलाकों का दौरा किया। उन्होंने सराईपाली, बसना और बालोद से लगे गांव का निरीक्षण किया और अवैध धान का जखीरा भी पकड़ा।
निरीक्षण के दौरान रायपुर आईजी आनंद छाबड़ा ने बसना के ग्राम पोटापारा में अवैध धान का जखीरा पकड़ा है।

बसना के पोटापारा निवासी बृजलाल साव के घर में बगैर टोकन के अवैध रूप से 525 बोरी धान रखा था, जिसे आईजी आनंद छाबड़ा ने अपने निरीक्षण के दौरान पकड़ा है। ठीक ऐसे ही थाना सराईपाली के ग्राम बोंदा में राजेश अग्रवाल संचालक साईं कृपा ट्रेडर्स के गोदाम में भी अट्ठारह सौ बोरी धान अवैध रूप से रखा हुआ मिला। वही बानीगीरोला में मानिक अग्रवाल के गोदाम से 535 बोरी धान बरामद किया गया है। इन धानों को जप्त कर आईजी आनंद छाबड़ा ने मंडी सचिव को अग्रिम कार्रवाई हेतु निर्देशित किया है। वही थाना कोमाखान पुलिस टीम द्वारा 165 कट्टा अवैध धान जप्त किया गया है। बलौदा चौकी में गजपति साहू से 90 पैकेट धान बगैर किसी वैध कागजात के ट्रैक्टर सहित जप्त किया गया है।

अफसरों को फटकारा
आईजी रायपुर रेंज आनंद छाबड़ा ने इस दौरान धान खरीदी केंद्र और विभागीय अफसरों को भी जमकर फटकार लगाई है। उन्होंने मौके पर मौजूद अफसरों को हिदायती लहज़े में कहा कि प्रदेश के किसानों के धान की बिक्री सुचारु रूप से हो और अवैध धान को रोकने सभी मुस्तैद रहे।

संबंधित पोस्ट

महासमुंदः आधा दर्जन गांजा पौधे जब्त, गिरफ्तार

बलौदाबाजार : हजारों की सागौन चिरान और चीतल सिंग जब्त

महासमुंदः क्वारेंटाइन सेंटर में प्रसव, गुहार करते रहे मदद के लिए कोई नहीं

पिथौरा-महासमुंद में दम तोड़ने वाले दोनों मजदूरों की रिपोर्ट निगेटिव

महासमुंद : करंट से चीतल का शिकार, 1 गिरफ्तार

Exclusive : ओडिशा के ईंटभट्टे में फंसे छत्तीसगढ़ के 60 मजदूर

महासमुंद : घर की बाड़ी से गांजा के डेढ़ दर्जन से ज्यादा हरे भरे पेड़ बरामद

महासमुंद : सास से कहासुनी, 2 बच्चों संग महिला ने खाया जहर

महासमुंद के रैपिड टेस्ट में पॉजिटिव मिले मरीजों की रिपोर्ट आई निगेटिव

तहसील दफ्तर में एक दिन में दर्जनों की पेशी, सोशल डिस्टेंस तार-तार

महासमुंद : बिना सुविधा चल रहे पंचायतों के क्वारंटीन सेंटर

छत्तीसगढ़ में नमक की किल्लत की अफवाह