महासमुंद की महिला समूह के बनाये फूलों से हर्बल गुलाल में खुशबू भी

रजिंदर खनूजा, पिथौरा | महासमुंद जिले में इस वर्ष एक महिला समूह ने हर्बल गुलाल तैयार किया है।महिला समूह का दावा है कि उनके द्वारा निर्मित गुलाल पूरी तरह हर्बल है जो फूलों से बनाया गया है।इसमें खुशबू  के लिए भी सुगन्धित फूलों का ही इस्तेमाल किया गया है।

बताया जाता है कि इस बार जिले की एक महिला स्व सहायता समूह के स्वरोजगार से जुड़ी महिलाएं दिन-रात हर्बल गुलाल तैयार करने में जुटी है। समूह की महिलाओं का दावा है कि इस गुलाल को लगाने से चेहरे पर या  सेहत पर कोई साइड इफेक्ट नहीं होता है।

महिला स्वसहायता समूह के द्वारा तैयार किए जा रहे उक्त हर्बल गुलाल और हर्बल रंग की कई विशेषताएं हैं। इसमें फूलों के रंग का इस्तेमाल किया जाता है। इतना ही नहीं गुलाल और रंग में सुगंध  के लिए भी फूलों का ही इस्तेमाल किया जा रहा है। इसमें किसी भी तरह का केमिकल नहीं मिलाया जा रहा है। जो नुकसान करे। इसी कारण इस गुलाल और रंग की मांग ज़िले ही नही प्रदेश के अन्य हिस्सो से भी आ रही है। वहीं, महिलाओं को घर बैठे स्वरोजगार भी उपलब्ध हो रहा है।

महासमुन्द विकासखण्ड के ग्राम पंचायत बिरकोनी के माया महिला स्व सहायता समूह द्वारा इस वर्ष की होली के लिए जड़ी, बुटी व फूलों से हर्बल गुलाल बनाने का कार्य कर रही है। संस्था से जुड़ी 10 ग्रामीण महिलाओं के द्वारा होली के लिए हर्बल गुलाल बनाया जा रहा है।

समूह की डैडी इन्द्राणी कश्यप ने बताया कि सिर्फ़ एक दिवसीय प्रशिक्षण पाकर महिलाओं के द्वारा प्राकृतिक साग-भाजी, टेसू फूल आदि से हाथों से इस हर्बल गुलाल को तैयार किया जा रहा है। उन्होंने दावा किया है कि इस गुलाल का कोई साइड इफेक्ट नहीं है। महिलाएं घर बैठे इस अबीर को तैयार कर रही है ताकि उन्हें आर्थिक लाभ के साथ-साथ स्वरोजगार मिल सके।

महिलाओं को मिला स्वरोजगार

हिन्दू पर्व होली में केमिकल मिश्रित रंग गुलाल से आंखों में एवम शरीर के नाजुक अंगो में इसका कुप्रभाव देखने मिलता रहता है।परन्तु इस बार प्रदेश में महिला समूहों का गठन कर महे स्वरोजगार के अवसर देने से अब महिलाएं स्वयम का रोजगार कर अपना घर परिवार आसानी से चल रहा है।

इसके अलावा विभिन्न अवसरों पर समूह द्वारा पूरी तरह हर्बल वस्तुओं से दैनिक उपयोग की सामग्री बना कर आम उपभोक्ताओं की गाढ़ी कमाई बचा रही है वही रासायनिक पदार्थो से बने उत्पादों को भी टक्कर देकर देशी अपना कर स्वस्थ रहने सेहत का मंत्र भी दे रही है।

माया समूह की महिलाओं ने बताया कि अभी वे पीला, संतरा, लाल एवं चंदन रंग के गुलाल का निर्माण कर रही है। जिसका विक्रय स्व-सहायता समूह की महिलाओं द्वारा गौठान परिसर बिरकोनी के दुकान के माध्यम से किया जा रहा है। जल्दी ही आसपास के जंगलो-में जाकर टेसू फूल चुनकर उनका भी हर्बल गुलाल बनाया जाएगा।

इंद्राणी ने बताया कि हर्बल गुलाल का आर्डर स्व-सहायता समूह के मोबाईल नम्बर 93400-00982 में काॅल करके भी ले सकते है। हर्बल गुलाल बनाने में हल्दी, ईत्र, पलास का फूल एवं खाने का चुना आदि का उपयोग किया गया है। 100 ग्राम हर्बल गुलाल की क़ीमत मात्र 10 रुपए है ।

वर्तमान में समूह द्वारा 06 किलोग्राम गुलाल निर्मित किया जा चुका है और हर्बल गुलाल बनाने का कार्य किया जा रहा है। समूह की महिलाओं को हर्बल गुलाल बनाने का प्रशिक्षण गत 25 फरवरी को बिरकोनी के गौठान में कृषि महाविद्यालय कांपा के प्रशिक्षकों के द्वारा दिया गया था।

मुख्य कार्यपालन अधिकारी ज़िला पंचायत डॉ. रवि मित्तल ने बताया कि समूह से जुड़ी महिलाओं को उनकी अभिरुचि और स्थानीय बाज़ार माँग और समय को देखते हुए विभिन्न कार्यों के प्रशिक्षण की व्यवस्था की गई है । इसके अलावा कई तरह के प्रशिक्षण  दिया गया है ताकि महिलाएं घर बैठे ही स्वरोजगार से जुड़ सके हैं और उसका लाभ ले सकें। कुटीर उद्योग को बढ़ावा देने और महिलाओं को आत्मनिर्भर बनाने के लिए प्रशिक्षण दिए जा रहे है। उन्होंने कहा कि गोधन योजना के तहत ज़िले की गौठानो में मल्टीएक्टिविटी भी की जा रही है ।

उन्होंने बताया की अभी होली आने वाली है इसलिए महिलाओं को हर्बल गुलाल बनाने का प्रशिक्षण दिया गया है। महिलाएं अपने गांव में घरों में एक साथ बैठकर आरारोट और नेचुरल रंग से हर्बल गुलाल तैयार कर रहे हैं।

इस हर्बल गुलाल को बाजार में बिक्री के बाद महिलाओं को काफी फायदा होगा और उन्हें घर बैठे स्वारोजगार भी मिलेगा, जिससे महिलाएं आत्मनिर्भर बनेगी। राज्य ग्रामीण आजीविका मिशन के तहत स्वयं सहायता समूह की महिलाओं को प्रशिक्षित करके इस स्तर पर लाया जाता है कि उनके द्वारा तैयार किए गए समान को बाजार में एक अच्छी क्वालिटी के साथ उपलब्ध कराया जा सके।

 

संबंधित पोस्ट

खलिहान पर रखा 30 कट्टा धान चट कर गया हाथी

महासमुंद जिले के हर ब्लॉक में 100 बिस्तर कोविड केयर सेन्टर

महासमुंद: घर घुसकर महिला की गला रेतकर हत्या

देशव्यापी चक्का जाम को महासमुंद के किसानों का मिला समर्थन

महासमुंद : होटल में सेक्स रैकेट , गिरफ्तार ग्राहकों में भाजपा नेता भी

महासमुंद: तेंदुआ व हिरण के खाल के साथ 3 आरोपी गिरफ्तार

महासमुंद: खरीदी केंद्र बदलने से नाराज किसानों ने ताला जड़ा, अफसर बंधक  

महासमुंद : फिर दीगर राज्यों को जा रहे 200 मजदूर गाँव लौटाए जा रहे

पिथौरा इलाके से एक बार फिर दलालों के चंगुल में फंसे मजदूरों का पलायन शुरू

महासमुंद जिले में अलग-अलग सड़क हादसों में 3 बाइक सवार की मौत

महासमुंद: स्कूली छात्रा से स्कूल में ही बलात्कार, मामला दर्ज

महासमुंद: सरायपाली के इस गाँव में मृतकों के नाम से भी राशन वितरण