महासमुंद जिले में मजदूरों की बगैर कोरोना टेस्ट के घर वापसी,23 मई से वैक्सीनेशन भी बंद

महासमुंदजिले के विभिन्न ग्रामों  से हजारों  की संख्या में पलायन कर अन्य प्रांतों में गए मजदूर अब तेजी से वापस लौटने लगे हैं

रजिंदर खनूजा, महासमुंद| महासमुंद जिले भर में अन्य प्रान्त गए मजदूरों की बगैर कोरोना टेस्ट के घर वापसी एवम कोरोना महामारी की सबसे बड़ी काट वैक्सीन की कमी से अब तक कोरोना से बचे लोगो को  चिंता में डाल दिया है । ज्ञात हो कि जिले भर में विगत 23 मई से 18+ एवम 45+ वैक्सीनेशन पूरी तरह बन्द कर दी गयी है।जिले के कुछ विकासखंडों में ही 45+ कोविशिल्ड वालो को ही दूसरी डोज लगाई जा रही है।
ग्रामीण सूत्रों से मिली जानकारी के अनुसार महासमुंदजिले के विभिन्न ग्रामों  से हजारों  की संख्या में पलायन कर अन्य प्रांतों में गए मजदूर अब तेजी से वापस लौटने लगे हैं ।विभिन्न साधनों से पहुच रहे मजदूर ग्रामों  में कोरोना टेस्ट नही हो पाने से सीधे अपने घर जा रहे हैं ।इसके बाद ग्रामीणों को पता लगने के बाद उन्हें स्वास्थ्य केंद्र भेज कर टेस्ट करवा रहे हैं ।इस लापरवाही से कभी भी क्षेत्र में कोरोना विस्फोट से इनकार नही  किया जा सकता।

 भट्ठा मजदूरों का टेस्ट ग्राम में नहीं -सरपंच
महासमुंद जिले के ग्राम मुढ़ीपार के सरपंच देवसिंह दीवान ने बताया कि  अभी प्रतिदिन किस्तों में उत्तरप्रदेश  भट्ठा से लौट  रहे  मजदूरों का आना जारी है।ग्राम में कोरेन्टीन सेंटर बनाया गया है।परन्तु मजदूर किसी न किसी रास्ते से अपने घर पहुच रहे है बाद में पता चलते ही उन्हें कोरोना टेस्ट कराने की हिदायत दी जाती है परन्तु मुढ़ीपार स्वास्थ्य केंद्र में सुविधा नही है और पिथोरा के सामुदायिक स्वास्थ्य केंद्र में अव्यवस्था के कारण लेट होने से मजदूर पिथौरा शहर में घूम कर अपना काम निपटा रहे है।जिससे कोविड का खतरा अत्यधिक बढ़ गया है।

स्वास्थ्य केंद्रों में किट  नहीं 
उक्त सम्बन्ध में जिले के ग्राम मुढ़ीपार में एक स्टाफ नर्स चंद्रकला सोना ने बताया कि उनकी मुढ़ीपार में वेक्सीन लगाने में ड्यूटी है।परन्तु वैक्सीन विगत 10 दिनों से नही है लिहाजा वे यहां कोई काम नही कर पा रही है।इसके अलावा कोरोना किट भी उपलब्ध नही कराया गया है जिससे टेस्ट करवाने वालो को पिथौरा स्वास्थ्य केंद्र भेज जाता है।

वैक्सीनेशन 23 से बन्द- डॉ गुप्ता
इधर जिला टीकाकरण अधिकारी डॉ अरविंद गुप्ता ने बताया कि जिले में 18+ टीकाकरण सभी वर्ग के लिए 23 मई से बन्द है।परन्तु 45+ सेकंड डोज का वैक्सीनशन किया जा रहा है।इसमें भी अधिकांस केंद्रों पर कोविशिल्ड ही मौजूद है।सभी वर्गों के टीकाकेरण के सम्बन्ध में श्री गुप्ता ने बताया कि प्रतिदिन राज्य से सम्पर्क में है।वैक्सीन कब आएगी ये निश्चित नही है परन्तु वैक्सीन आते ही वैक्सीनशन प्रारम्भ कर दिया जाएगा।

बहरहाल कोविड की दूसरी घातक लहर में देखते ही देखते महासमुंद जिले में सैकड़ा भर से अधिक जाने माने लोकप्रिय लोग कोरोना से जंग हार चुके है।परन्तु उक्त असमय मौतों से भी आम लोग सबक लेने की बजाय अब भी पूर्व की तरह सरकारी गाइड लाइन को धता बताते हुए बाजारों में बैंकों में और अन्य स्थानों पर भी बगैर मास्क एवम सामाजिक दूरी के लोग कोरोना की तीसरी लहर को आमंत्रण देते दिख रहे है।

लौट रहे मजदूरों से पुनः कोरोना संक्रमण का खतरा मंडरा रहा