धरने पर बृजमोहन-मूणत, हाईकोर्ट पहुंचे सूर्यकांत राठौर

चुनाव प्रक्रिया को बताया गलत, फिर से प्रक्रिया अपनाने की मांग

रायपुर। रायपुर नगर निगम के मेयर चुनाव के लिए भाजपा के वरिश्ठ नेता और पर्यवेक्षक बृजमोहन अग्रवाल ने महापौर,सभपति और अपील समिति की चुनाव प्रक्रिया पर सवाल उठाते हुए धरने पर बैठ गए है। इधर भाजपा पार्षद और पूर्व नेता प्रतिपक्ष सूर्यकांत राठौर ने हाईकोर्ट में इस मामलें के खिलाफ याचिका दाखिल कर दी है। इस याचिका में चुनाव प्रक्रिया स्थगित करने की मांग की गई है।

बृजमोहन ने सीधेतौर पर ये कहा है कि छत्तीसगढ़ की सरकार ने निकाय चुनाव की प्रक्रिया को तार तार कर दिया है। उन्होंने इस चुनाव में नगर पालिक अधिनियम 1956 के प्रावधानों के उल्लंघन का आरोप लगाया है। बकौल बृजमोहन निगम आयुक्त ने 4 जनवरी को संसोधित अधिसूचना जारी की है जिसके 7 दिन बाद ही चुनाव होने चाहिए थे। इसके पहले 28 दिसम्बर को अधिसूचना जारी की गई थी। इसके अलावा अधिसूचना आयुक्त ने जारी की है जो कि कलेक्टर को करनी थी।
उन्होंने राज्य निर्वाचन अधिकारी पर सरकार के दवाव में काम करने का गंभीर आरोप भी लगाया। इसी के साथ आज महापौर चुनाव की चल रही प्रक्रिया के बीच भाजपा का एक प्रतिनिधि मंडल पर्यवेक्षक बृजमोहन अग्रवाल की नेतृत्व मे छग राज्य निर्वाचन आयेाग के आयुक्त ठाकुर राम सिंह से इस सबंध मे शिकायत की और महापौर निर्वाचन को और 7 दिन पिछे करने की ज्ञापन भी सौपा। इसके बाद भाजपा के नेताओं ने आयेग के बाहर धरना प्रदर्शन पर बैठ गए। इनका कहना है कि जब तक चुनाव प्रक्रिया पर रोक नही लगती तब तक भाजपा के पदाधिकारी धरने में बैठे रहेंगे। पूर्व मंत्री राजेश मूणत ने निर्वाचन आयुक्त पर भी निशाना साधते हुए पुरी प्रक्रिया पर खिल्ली उड़ाने की बात कही। साथ ही राज्य सरकार को भी प्रशासन तंत्र का खुला प्रयोग का आरोप लागया। उन्होंने कहा कि सरकार के दबाव में राज्य निर्वाचन आयोग नियमों का उल्लंघन कर रहा है।