स्वच्छता सर्वेक्षण 2020 : जोन को सेक्टर में बांटा, अच्छे नंबर लाने की कवायद में निगम

सौ फ़ीसदी नंबर लाने होटलों को करने होंगे सफाई के पूरे प्रबंध

रायपुर। नगर निगम कमिश्नर शिव अनंत तायल के निर्देश पर रायपुर शहर को कचरा मुक्त शहर की श्रेणी में स्टार रैंकिंग दिलाने संचालित अभियान ‘मिलकर बनाएंगे रायपुर को नंबर वन” की शुरुआत हो चुकी है। नगर निगम व रायपुर स्मार्ट सिटी लिमिटेड ने पूरे नगरीय क्षेत्र को अलग-अलग सेक्टर में बांट कर इस अभियान से हर नागरिक को जोड़ने की तैयारी की है।

अपर आयुक्त पुलक भट्टाचार्य के अनुसार शहर के घटकों को 8 सेक्टर में विभाजित किया गया है, और जोन, स्वच्छता अमले व वार्ड प्रभारियों से कहा गया है कि उनके क्षेत्र के सभी सेक्टर जैसे होटल, रेस्टोरेंट, बाजार, मोहल्ला, अस्पताल, स्कूल आदि शहर को स्वच्छ बनाने की बुनियादी जरूरतों को पूरा कर रहे हैं या नहीं, इसकी बारीकी से जांच करें। नगर निगम की टीम सभी सेक्टर से जानकारी जुटाकर इस अभियान हेतु इन सभी को पंजीकृत कर रही है। सभी जोन एक निर्णायक कमेटी के माध्यम से सभी सेक्टर के शीर्ष संस्थाओं की जानकारी मुख्यालय को भेजेगी। मुख्यालय स्तर की ज्यूरी इनमें से स्वच्छतम सेक्टर का चयन करेगी, जिसे 30 जनवरी 2020 को एक भव्य समारोह में सम्मानित किया जाएगा। इस बार बेहतर कार्य करने वाले नागरिकों व संगठनों की जानकारी ली जा रही है, इन्हें भी सम्मानित किया जाएगा।

हर सेक्टर के लिए मापदंड निर्धारित
अपर आयुक्त पुलक भट्टाचार्य ने बताया कि हर सेक्टर के लिए स्वच्छता सर्वेक्षण में मापदंड निर्धारित है। होटल, रेस्टोरेंट सेक्टर में स्रोत से पृथक्करण पर अंक निर्धारित है सौ फ़ीसदी पृथक्करण पर 10 अंक, 75 प्रतिशत से अधिक पर 8, 50 प्रतिशत से अधिक पर 5 और पृथक्करण नहीं किए जाने पर शून्य अंक दिए जाएंगे। गीले कचरे की कंपोस्टिंग स्वयं के परिसर में किए जाने पर 10 अंक, कंपोस्टिंग हेतु नगर निगम को दिए जाने पर 7 अंक, कंपोस्टिंग की व्यवस्था ना होने पर शून्य अंक दिए जाएंगे। इसी तरह होटल, रेस्टोरेंट में पूरे तरह सफाई पर 10 अंक ,60 प्रतिशत से अधिक पर 8 अंक, 59 प्रतिशत तक 6 अंक और 39 प्रतिशत से कम होने पर शून्य अंक दिए जाएंगे। सूखे कचरे का निपटान यदि होटल स्वयं करें तो 10 अंक, नगर निगम को दें तो 7 अंक, कबाड़ी को दें तो 5 अंक और बाहर फेंकने पर शून्य अंक मिलेंगे।

बाथरूम में भी मिलेंगे पॉइंट
इन होटल एवं रेस्टोरेंट के शौचालय में महिला, बच्चों एवं दिव्यांगों के लिए पृथक सुविधा होने पर 10 अंक, दो के लिए सुविधा होने पर 8 अंक, 1 के लिए सुविधा पर 5 और कोई सुविधा ना होने पर शून्य अंक मिलेंगे। टॉयलेट माय राईट के तहत सार्वजनिक शौचालय घोषित होने पर होटल, रेस्टोरेंट को 10 अंक, घोषित है पर बोर्ड का उपयोग नहीं करने की स्थिति में 7 अंक, बोर्ड नहीं यूज करने पर 5 अंक, घोषित नहीं बोर्ड नहीं और यूज़ नहीं तो शून्य अंक होंगे। यहां के शौचालयों में बिजली एवं पानी की व्यवस्था होने पर 10 अंक, केवल एक की सुविधा होने पर 5 अंक, दोनों की सुविधा ना होने पर शून्य अंक मिलेंगे।

एप पर भी करेंगे फ़ोकस
होटल, रेस्टोरेंट के सौ फ़ीसदी कर्मचारी स्वच्छता ऐप डाउनलोड करते हैं तो 10 अंक, 99 प्रतिशत करते हैं तो 8 अंक, 79 प्रतिशत करते हैं तो 6 अंक, 40 प्रतिशत करते हैं तो 4 अंक दिए जाएंगे। होटल रेस्टोरेंट परिसर में 10 स्थानों पर स्वच्छता संबंधी नारे लिखे होने पर 10 अंक, 7 स्थानों पर 8 अंक, 5 स्थानों पर 5 अंक और 4 से कम पर शून्य अंक दिए जाएंगे। नगर निगम इन सभी मानकों से संबंधित दस्तावेज भी होटल व रेस्टोरेंट से लेगा और स्वच्छता टीम के समक्ष प्रस्तुत करेगा। साफ-सफाई न रखने वाले, सड़कों पर गंदगी फेंकने वाले रेस्टोरेंट होटल पर निगम इस बार कड़ी कार्यवाही करेगा, साथ ही स्वच्छतम होटल को उनकी जागरूकता के लिए सम्मानित करेगा।