राहुल गांधी ने किया आदिवासी नृत्य महोत्सव का आगाज़, बोले-जहाँ आदिवासियों की बात वहां मैं…

नृत्य महोत्सव के मंच से देश की अर्थव्यवस्था और CAA, NRC पर भी साधा निशाना

रायपुर। राष्ट्रीय आदिवासी नृत्य महोत्सव के शुभारंभ कार्यक्रम में मुख्य अतिथि के रूप में शामिल होने राहुल गांधी राजधानी रायपुर पहुंचे। जहा मुख्यमंत्री भूपेश बघेल ने की उनकी अगवानी की। राहुल गांधी इस दौरान मंच से अपने उद्बोधन में कहा कि जब बात आदिवासियों की होती है तो मैं तैयार रहता हूँ। राहुल ने कहा कि “भूपेश बघेल जी ने कुछ दिन पहले आकर मुझसे कहा था कि आदिवासियों के नृत्य के कार्यक्रम रायपुर में होने है। आपको बतौर अतिथि आना है, मैंने तुरंत हां कर दिया था। सवाल पूछने की भी जरूरत नहीं थी, क्योंकि जहां आदिवासियों की बात होती है तो वहां मैं तुरंत आ जाता हूं।”

उन्होंने आगे कहा कि “हमें लगता है कि सिर्फ नृत्य के आयोजन में ही आपको शामिल नहीं किया जाना चाहिये, बल्कि आपके विचारों को भी शामिल किया जाना चाहिये। गांधी ने कहा कि मुझे खुशी है कि आदिवासियों की बातों को छत्तीसगढ़ सरकार सुन रही है। छत्तीसगढ़ सरकार तेंदुपत्ता के समर्थम मूल्य, केस वापसी, जमीन लौटाने की बात में आदिवासियों की बात सुनी, ये सरकार ऐसी सरकार है जिसमें आपकी मेरी और हम सब की आवाज सुनाई पड़ रही है।

अर्थव्यवस्था पर साधा निशाना
नृत्य महोत्सव के मंच से राहुल गांधी ने जमकर सियासी तीर भी चलाए है। राहुल ने देश के बाकी राज्यों की अर्थव्यवस्था को छत्तीसगढ़ सरकार से तौलते हुए उन्होंने निशाना साधा। राहुल गांधी ने कहा कि देश में क्या हो रहा है, बाकि प्रदेशों में क्या हो रहा है, वो सब आपको पता है। किसानों की आत्महत्या, कमजोर अर्थव्यवस्था, बेरोजगारी सब की स्थिति सबके सामने है। उन्होंने आदिवासियों को साथ लेकर देश को आगे बढ़ाने की बात कहते हुए कहा कि मैं आज भी कहता हूं कि आदिवासियों, पिछड़े गरीबों को साथ लिये बिना अर्थव्यवस्था नहीं सुधारी जा सकती। जब तक लोगों को जोड़ने की कोशिश नहीं होगी, जब तक उनकी आवाज विधानसभा, लोकसभा में नहीं सुनाई देगी, तब तक अर्थव्यवस्था, बेरोजगारी की समस्या नहीं सुधर सकती।

मोदी सरकार के फैसलों पर तंज़
राहुल गांधी ने केंद्र की मोदी सरकार के कई फैसलों पर तंज़ कसा है। केंद्र की योजनाओं का जिक्र करते हुए राहुल ने कहा कि अगर आप जनता की आवाज नहीं सुनोगे, तो गलत जीएसटी, नोटबंदी लागू करोगे, इससे अर्थव्यवस्था बेहतर नहीं हो सकती। छत्तीसगढ़ की अर्थव्यवस्था दूसरे प्रदेशों से बेहतर है। इसका प्रभाव दिखता है। यहाँ की अर्थव्यवस्था बाकी प्रदेशों से मजबूत है। CAA और NRC पर उन्होंने कहा कि यहां हिंसा कम हुई है, आखिर भाई को भाई से लड़ाकर देश का फायदा नहीं हो सकता है।

संबंधित पोस्ट

सरकारी पैनल करेगी राजीव गांधी फाउंडेशन की जांच,बनाई गई समिति

मोदी से राहुल ने पूछा,बताएं चीनी फौज भारतीय जमीन से कब जाएगी

राहुल ने पर्यावरण दिवस पर संत कबीर के दोहे साझा किए

लॉकडाउन से कोई नतीजा नहीं, बल्कि जनता को हुआ भारी नुकसान : राहुल गांधी

सोनिया-राहुल की मौजूदगी में लांच हुई “राजीव गांधी किसान न्याय योजना”

सीधे गरीबों की जेब में दें पैसा, पैकेज पर दुबारा विचार करें

राहुल गांधी ने समर्थकों की उम्मीदों पर फेरा पानी, वापसी न करने के दिए संकेत

राहुल गांधी ने पेट्रोल, डीजल से कर हटाने की मांग की

कांग्रेस और भाजपा के बीच प्रवासी मजदूरों के किराए को लेकर छिड़ी जंग

आरोग्य सेतु एप्प आउटसोर्स निगरानी प्रणाली, डेटा व नीजता कितना सुरक्षित

राजन ने राहुल गांधी से कहा, गरीबों के भोजन के लिए 65000 करोड़ रुपये की जरूरत

ट्वीटर पर राष्ट्रपति और पीएम को अनफॉलो करना देश का अपमान : – CM भूपेश