ऑनलाइन दिया जा रहा राज्योत्सव के कामों का टेंडर

राज्योत्सव में फिजूलखर्ची और पारदर्शिता लाने सरकार की पहल

रायपुर। छत्तीसगढ़ में राज्योत्सव के काम के लिए ऑनलाइन टेंडर प्रक्रिया अपनाई है। ऑनलाइन टेंडर प्रक्रिया से सरकार जहाँ भाई भतीजावाद और अपनों को लाभान्वित करने जैसे विवादों से बचना चाहती है, वहीं जनता की गाढ़ी कमाई के खर्च को भी पारदर्शी रखना चाहती है। ऑनलाइन टेंडर प्रक्रिया के ज़रिए अनुभवी कंपनी को ही काम दिया गया। वहीं सूबे के मुखिया ने इस मामले में पूरी पारदर्शिता बरतने कहा है।


सरकार ने सीएसआईडीसी के माध्यम से राज्योत्सव का काम देने के लिए टेंडर निकाला गया। इसमें कई कंपनियों ने भाग लिया। टेंडर के दौरान एलवन के मेंबरों को ही सीएसआईडीसी ने काम सौंपा है। हालांकि इस मामले को लेकर भ्रामक जानकारी फैलाई जा रही है। अनुभवी कंपनियों के नाम को खराब करने के साथ गलत जानकारी दी जा रही है। इस मामले में सीएसआईडीसी के जिम्मेदारों ने बताया कि ऑनलाइन टेंडर होने पर कोई भी गड़बड़ी का अंदेशा नहीं रहता है। ऐसे मामले में पूरी पारदर्शिता बरती गई है। तय मापदण्डों पर जिन जिन कम्पनियों ने भी खरा उतरा उन्हें यह काम दिया गया है। साथ ही यह भी जानकारी दी गई है कि टेंडर से संबंधित जितने भी दस्तावेज मंगाए गए थे, उसका वेरिफिकेशन के बाद ही कंपनियों को काम सौपा गया।