रायपुर सराफा एसोसिएशन ने लॉकडाउन से निजात दिलाने लिखा मुख्यमंत्री को पत्र

दो चरणों में व्यापार खोलने मांगी अनुमति

रायपुर। कोरोना संक्रमण से बचाव के लिए प्रभावित जिलों में राज्य सरकार द्वारा 6 अगस्त तक लॉकडाउन लगाया गया है। जिसके चलते संचालित होने वाला व्यापार प्रभावित हुआ है। सोशल मिडिया में लॉक डाउन बढ़ने की तैरती खबर से व्यापारी वार्ड में काफी संशय की स्थिति बानी हुई है। व्यपारी वर्ग का मानना है कि यदि लॉक डाउन की अवधि में शासन इजाफा करता है तो सभी वर्ग को काफी दिक्कतों का सामना करना पड़ेगा। एक तरफ जहाँ आर्थिक मंदी और अधिक बढ़ेगी साथ ही खरीददारों को भी जरुरत के सामान सही समय पर नहीं पाएंगे।

ऐसे में व्यापारी वर्ग ने एक मत होकर मुख्यमंत्री भूपेश बघेल को एक पत्र लिखा है जिसमे उन्होंने लिखा की प्रदेश में सोशल डिस्टेंसिंग के साथ शासन के निर्देशों का पालन करते हुए राज्य सरकार व्यापार की अनुमति प्रदान करें। व्यापारी वर्ग में दो चरणों में यानी सुबह 6 से 12 बजे तक और 12 से 6 बजे तक बाजार खोलने की भी बात कही है। ताकि सोशल डिस्टेंसिंग के साथ व्यापर हो सके और कोरोना संक्रमण के फैलने का खतरा भी न हो। सभी का कहना है की शासन सब्जी बाजार,किराना दुकान,दूध पार्लर,स्टेशनरी दुकान,खाद्य सामग्री सहित अतिआवश्यक सेवाओं वाली दुकानों को सुबह 6 से 12 बजे तक खोलने के लिए अनुमति दी जाये। वहीँ दूसरे चरण में दोपहर 12 से शाम 6 बजे तक कपड़ा, बर्तन, सराफा, इलेक्ट्रॉनिक, इलेक्ट्रिकल, हार्डवेयर आदि बाकी व्यवसायिक प्रतिष्ठानों को खोलने अनुमति देने की मांग की गई है।

रायपुर सराफा एसोसिएशन के अध्यक्ष हरख मालू, लक्ष्मीनारायण लाहोटी, प्रहलाद सोनी व अनिल कुचेरिया ने मुख्यमंत्री भूपेश बघेल से निवेदन करते हुए कहा कि प्रदेश में आर्थिक गतिविधियां काफी कम हो चुकी है जिससे व्यापार जगत के सभी व्यापारियों को काफी नुकसान का सामना करना पड़ रहा है।

रायपुर सराफा एसोसिएशन के अध्यक्ष हरख मालू ने मुख्यमंत्री से अनुरोध किया कि कोरोना संक्रमण का फैलाव कब तक रहेगा यह निश्चित नहीं है,क्योकि अभी तक इस महामारी का एंटी डोज नहीं मिला है। लॉकडाउन के कारण व्यापार जगत की गतिविधियां काफी कमजोर हो चुकी है और इसे गति देने के लिए 6 अगस्त के बाद लॉकडाउन के नियमों में संशोधन करते हुए सभी व्यवसायिक प्रतिष्ठानों को प्रतिदिन खोलने की अनुमति दी जानी चाहिए। ताकि जो गतिविधियां अभी रुकी हुई है उसे थोड़ी बहुत गति मिल सकें। मालू ने कहा कि वर्तमान में सभी व्यवसाय आर्थिक मंदी के दौर से गुजर रहे हैं, ऐसे में यदि समय सीमा पर सख्ती और सावधानी रखते हुए बाजार खोलने की अनुमति दी जाती है तो इससे प्रदेश की अर्थव्यवस्था एवं व्यवसायियों की आर्थिक स्थिति में सुधार होने की संभावना है।

संबंधित पोस्ट

Video:IAS खेतान के ट्वीट पर छत्तीसगढ़ में आया राजनीतिक भूचाल

गिरती-घटती जीडीपी, सिकुड़ता रोजगार और टूटती उम्मीदें

अब सरकारी दर पर ही होगा निजी अस्पतालों में कोविड-19 का इलाज

रक्षाबंधन पर लॉक डाउन में मिली12 बजे तक छूट, खुली रहेंगी राखी और मिठाई दुकान

किराना दुकान खोलने मिली और 2 दिन की राहत,31 जुलाई और 1 अगस्त को छूट

आरएसएस का मुख्यमंत्री भूपेश बघेल के अभिनन्दन के मायने

छत्तीसगढ़ के ठोस अपशिष्ट प्रसंस्करण संयंत्र का मुख्यमंत्री ने किया ई-लोकार्पण

वन विकास निगम ने सीएम भूपेश बघेल को सौपा सवा दो करोड़ का चेक

प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी की बैठक में शामिल हुए सीएम भूपेश

मंत्री और अफ़सरों से बोले सीएम भूपेश, आधे घंटे में हो रजिस्ट्री

छत्तीसगढ़ श्रम विभाग ने जारी किये 7 हेल्पलाईन नम्बर,सभी राज्यों के लिए उपलब्ध

भिलाई स्टील प्लांट ने दी सीएम सहायता कोष में एक करोड़ रूपए