भूपेश ने शिक्षाकर्मी से लेकर पत्थलगढ़ी तक दाग़े सवाल


रायपुर। कांग्रेस की तीन मैराथन बैठकों के बीच कांग्रेस के प्रदेश अध्यक्ष भूपेश बघेल ने प्रदेश सरकार पर जमकर निशाना साधा। बघेल ने सरकार को कटघरे में खड़ा करते हुए कई सवाल भी दागे। बघेल ने सरकार से पूछा कि शिक्षाकर्मियों का पद क्यों नहीं भरा जा रहा है ? इतना ही नहीं बघेल ने मुख्यमंत्री की विकास यात्रा को रमन सरकार की विनाश यात्रा बताया है। उन्होंने ने कहा जशपुर में पत्थरगढ़ी की स्थिति रमन सरकार की देन है। गांव वाले बिजली, पुलिया, सड़क, राशन यही तो मांग रहे थे क्यों नहीं दिया गया ? फारेस्ट एक्ट का पालन क्यों नहीं किया जा रहा, पेसा कानून का पालन नहीं किया जा रहा जैसे कई गंभीर आरोप लगाए।
भूपेश बघेल ने कर्नाटक चुनाव में मुख्यमंत्री डॉ. रमन सिंह के उस बयान पर पलटवार किया जिसमें कहा गया था की दो अपवित्र पार्टियों का गठबंधन हुआ है। इसे लेकर बघेल ने कहा- डॉ. रमन सिंह के कदम पड़ते ही कर्नाटक में बीजेपी का बंटाधार हो गया।

महंगाई पर कसा तंज़
पेट्रोलियम उत्पादों के बढ़ते दामों को लेकर भूपेश बघेल ने कहा कि- मोदी सरकार 15 बड़े लोगों को लाभ पहुँचने के लिए बनी है, मोदी देश का नहीं 15 लोगों का प्रतिनिधित्व कर रहे हैं। मिट्टी तेल बाजार से गायब है, सरकार ने बंद कर दिया है। भूपेश ने कहा कि डीजल और पेट्रोल के भाव बढ़ने से ट्रांसपोटिंग में जबरदस्त इजाफा होगा, उसका खामियाजा आम उपभोक्ताओं को उठाना पड़ेगा। किसानों को इसका बड़ा नुकसान होगा। बघेल ने कहा कि पेट्रोल में लग रहे टैक्स को 28 फीसदी के दायरे में सरकार लाएगी, तो जिन्हें फायदा पहुचना चाहते हैं उन्हें नहीं पहुचा पाएंगे।

संबंधित पोस्ट

सचिन पायलट को शांत कराने प्रियंका गांधी ने किया हस्तक्षेप

मप्रः शिवराज मंत्रिमंडल में विभागों के वितरण का काम पूरा हुआ

शरद पवार ने कहा- भारत को एक मनमोहन सिंह की जरूरत

मध्यप्रदेश में असंतुष्टों के सुरों पर भाजपा रख रही पैनी नजर

सचिन पायलट से संपर्क मुश्किल, राजस्थान में सरकार बचाने की जुगत में कांग्रेस 

क्या मध्यप्रदेश की कहानी को दोहराएगा राजस्थान? खिलेगा कमल?

बिहार : चिराग, तेजस्वी के ‘मिले सुर मेरा-तुम्हारा से’ राजग पशोपेश में

भाजपा के संसदीय बोर्ड में खाली 4 पदों पर टिकीं निगाहें, कई नामों पर चर्चा

मध्य प्रदेश में गद्दार बनाम देशभक्त का नैरेटिव सेट करने में जुटे ज्योतिरादित्य सिंधिया

रामविलास पासवान का बड़ा बयान-कहा चिराग जो फैसला लेंगे, हम उनके साथ

मप्र : मंत्रियों के विभाग वितरण का अंतिम फैसला केंद्रीय नेतृत्व के जिम्मे

मप्रः शिवराज मंत्रिमंडल विस्तार के बाद विभाग वितरण पर ‘किच-किच’