धान खरीदी : 2 और 3 जनवरी को जारी टोकन का पुनर्व्यवस्थापन

बारिश के कारण किसानों को दी गई व्यवस्था

रायपुर। प्रदेश में खरीफ विपणन वर्ष 2019-20 में किसानों से अब तक 32.63 लाख मेट्रिक टन धान का उपार्जन किया जा चुका है। गत दिनों प्रदेश के कुछ हिस्सों में आकस्मिक बारिश की स्थिति उत्पन्न हुई है। इसके कारण कुछ खरीदी केन्द्रों के फड़ के गीले होने की स्थिति निर्मित हुई है।

इस स्थिति से निपटने के लिए किसानों को 2 और 3 जनवरी को धान बेचने हेतु जारी टोकन के पुनर्व्यवस्थापन की व्यवस्था की गई है। शासन द्वारा पंजीकृत किसानों के धान की निर्धारित पात्रता अनुसार खरीदी की समुचित व्यवस्था की गई है। किसान अपना धान पुनः टोकन जारी कराकर खरीदी केन्द्रों में लाकर विक्रय कर सकते हैं।

संबंधित पोस्ट

धान ख़रीदी : 20 दिन में 23 लाख मीट्रिक टन धान की हुई कस्टम मिलिंग

जशपुर के कांसाबेल में ट्रक से 200 क्विंटल धान जप्त

किसानों को धान का 2500 रूपए मूल्य देने मुख्यमंत्री ने गठित की समिति

EXCLUSIVE : आईजी आनंद छाबड़ा ने पकड़ा अवैध धान, लगाई फटकार…

बाजार में बिक नहीं रहा, सोसायटी खरीद नहीं रही, क्या होगा कर्ज का…

भाजपा ने जलाई उत्पादन प्रमाण पत्र के आदेश की प्रतियां

बारदाने में स्टम्पिंग ठीक नही होने पर भड़के मुख्य सचिव मंडल

कोरिया : सख्ती ऐसी कि खरीदी केंद्रों से बरामद होने लगे लावारिश धान

बिना पंजीयन वाले छोटे किसान नहीं बेच पा रहे धान

भाजपा का हल्ला बोल, रमन बोले “गंगाजल की कसम भी भूल गए”

छत्तीसगढ़ में धान खरीदी शुरू, 85 लाख मैट्रिक टन का लक्ष्य

धान का रक़बा घटाने पर गर्भगृह में पंहुचा विपक्ष, निलंबन…