अप्रत्यक्ष प्रणाली के खिलाफ सड़क पर उतरेगी जनता कांग्रेस

विरोध प्रदर्शन के साथ हाईकोर्ट में लगाएगी याचिका

रायपुर । नगर पालिक निगम(संशोधन)-2019 कैबिनेट में पास होने के बाद प्रदेश के राजयपाल द्वारा भी अनुमोदित कर दिया गया है। लेकिन अभी भी विपक्ष इस संशोधन के खिलाफ लाम बंद है। भारतीय जनता पार्टी के अल्वा पहली बार निकाय चुनाव में हिस्सा लेने उतर रही जनता कांग्रेस छत्तीसगढ़(जे) भी संशोधन का विरोध शुरू से कर रही है। अब सरकार विधानसभा के शीतकालीन सत्र में नगर पालिक निगम(संशोधन)-2019 विधेयक पास करवाएगी। जिसे लेकर भी जनता कांग्रेस छत्तीसगढ़(जे) सदन में विरोध जताने तैयार है। हलाकि विधानसभा में जनता कांग्रेस छत्तीसगढ़(जे) के मात्र 7 विधायक ही हैं,इसके बावजूद विरोध जताने की बात पार्टी कर रही है।

सड़क से सदन और कोर्ट तक पहुंचेगी जनता कांग्रेस
जनता कांग्रेस छत्तीसगढ़(जे) के प्रदेश अध्यक्ष अमित जोगी ने देश टीवी से चर्चा के दौरान कहा की नगर पालिक निगम(संशोधन)-2019 अध्यादेश लाना सरकार द्वारा लोकतंत्र का हत्या करना बताया। अमित जोगी की माने तो 10 महीनो में राज्य सरकार ने कोई ऐसा काम नहीं किया है जिससे लोग सरकार की वाहवाही करे। पार्टी का कहना है की सरकार को पारित अध्यादेश तुरंत वापस लेना चाहिए ताकि आम जनता महापौर और अध्यक्ष के लिए चुनाव अपने मतों से कर सके और स्वस्थ लोकतंत्र को बहाल हो।

अमित जोगी ने साफ़ तौर पर कहा की जनता कांग्रेस छत्तीसगढ़(जे) अध्यादेश के खिलाफ सड़क से लेकर सदन तक लड़ाई लड़ेगी। इसके बाद पार्टी की और से अनुच्छेद 227 के अंतर्गत प्रदेश के उच्च न्यायालय में याचिका भी दायर किये जाने की बात उन्होंने कही। अमित का मानना है की प्रदेश में दलबदल कानून को लागू नहीं करने के पीछे के पार्षदों का खुलेआम खरीद फरोख्त करना है। जोगी दल आने वाले 10 दिनों के भीतर पुरे प्रदेश में जिलेवार प्रदर्शन करेगी। जिसके लिए अंतिम रुपरेखा तैयार की जा रही है।