राज्य सरकार के साथ बैठक मे पहुंचे केवल कांग्रेस के सांसद,भाजपा नदारद

सर्वदलिय बैठक मे सभी ने समर्थन मूल्य पर जताई सहमति

रायपुर | छत्तीसगढ़ में समर्थन मूल्य पर धान खरीदी के संबंध में आज प्रदेश के सांसदों के साथ मुख्यमंत्री ने बैठक ली। हालांकि बैठक में केवल कांग्रेस के ही सांसद मौजूद रहे। बस्तर से सांसद दीपक बैज, कोरबा से सांसद ज्योत्सना महंत और राज्यसभा सांसद छाया वर्मा ने बैठक में हिस्सा लिया। वहीं प्रदेश के 9 भाजपा सांसदों ने बैठक में मुख्यमंत्री के साथ उपस्थित नहीं हुए। भाजपा के सांसदों का सीधे तौर पर मानना है कि उन्हें बैठक की सूचना नही मिली। इधर मुख्यमंत्री ने साफ तौर पर बैठक की सूचना डाक के माध्यम से भेजे जाने और सांसदों के निज सचिवों द्वारा पत्र मिलने की पावती भी मौजूद होने की बात कही।
धान खरीदी के मुद्दे पर सांसदों के साथ मुख्यमंत्री ने चर्चा में कहा कि प्रदेश के किसानों को धान के समर्थन मूल्य 2500 दिए जाने के बात राज्य सरकार ने कही है जो किसानों के हित में है। ऐसे में केंद्र सरकार द्वारा 2500 में धान खरीदी को नकारा जाना किसानों के लिए अहित साबित होता दिखाई दे रहा है। ऐसे में प्रदेश के सांसदों को छत्तीसगढ़ के हित को देखते हुए प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी से चर्चा करनी चाहिए। मुख्यमंत्री ने कांग्रेस के सांसदों को प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी से चर्चा करने की बात कही।

सर्वदलीय बैठक में समर्थन मूल्य पर सहमति
मुख्यमंत्री भूपेश बघेल ने तीनों सांसद से धान खरीदी पर चर्चा करने के बाद मंत्रालय में प्रदेश की किसान संघ और सभी दलों के नेताओं के साथ भी समर्थन मूल्य पर धान खरीदी के संबंध में चर्चा की। इस अवसर पर बड़ी संख्या में किसान संघों के पदाधिकारी शामिल हुए। किसान संघ के अलावा बैठक में सीपीआई,सीपीएम, जनता कांग्रेस छत्तीसगढ़,बहुजन समाज पार्टी और कांग्रेस के नेता और पदाधिकारी भी सीएम की बैठक में शामिल हुए। सभी नेता और पदाधिकारियों ने 2500 में धान खरीदी पर सहमति जताई। जनता कांग्रेस छत्तीसगढ़ के 5 विधायक अपने एक माह की तनख्वाह किसानों के देने की भी बात बैठक मे कही।

CM भूपेश ने लगाया भाजपा पर आरोप
मुख्यमंत्री द्वारा बुलाए गए बैठक में भाजपा के सांसदों के शामिल ना होने पर मुख्यमंत्री भूपेश बघेल खफा नजर आए। उन्होंने भाजपा के सांसदों से 2 सवाल पूछे -जिनमें पहला सवाल किसानों को 2500 प्रति क्विंटल धान का समर्थन मूल्य मिलना चाहिए या नहीं यह भाजपा के सांसद बताएं। दूसरा सवाल उन्होंने किया है कि पिछली बार सेंट्रल पूल में खरीदी की इजाजत को लेकर केंद्र ने जो नियमों को शिथिल किया था क्या इस बार इस नियम को फिर से षिथिल होना चाहिए या नहीं। इन दो सवालों के जवाब मुख्यमंत्री ने भाजपा के सांसदों से मांगा है। मुख्यमंत्री भूपेश बघेल ने प्रदेश के विपक्षी दल भारतीय जनता पार्टी पर किसानों पर राजनीति करने का आरोप भी लगाया है। मुख्यमंत्री ने कहा कि इस बार कांग्रेस की सरकार किसानों का धान 2500 में खरीदने की बात कह रही है इसलिए केंद्र सेंट्रल पूल में खरीदी नहीं करना चाह रहा है। जो किसान हित में नही है।