नहीं रहे पूर्व मंत्री डी.पी.धृतलहरे, राज्यपाल एवं मुख्यमंत्री ने दी श्रद्धांजलि

रायपुर। छत्तीसगढ़ के राज्यपाल अनुसुईया उइके एवं मुख्यमंत्री भूपेश बघेल ने पूर्व मंत्री डी.पी.धृतलहरे के निधन पर गहरा शोक व्यक्त किया है। उन्होंने स्वर्गीय डी.पी.धृतलहरे के शोक संतप्त परिवारजनों के प्रति संवेदना प्रकट करते हुए उनकी आत्मा की शांति के लिए ईश्वर से प्रार्थना की है।

बता दे की डी.पी. धृतलहरे अविभाजित मध्यप्रदेश और छत्तीसगढ़ सरकार में मंत्री रहें है। वे चार बार मारो (नवागढ) विधानसभा क्षेत्र से विधायक रहे हैं। डी.पी.धृतलहरे का आज राजधानी रायपुर के एक निजी अस्पताल में निधन हो गया।

छग के प्रथम मुख्यमंत्री अजीत जोगी के शासन काल में डीपी घृतलहरे मंत्री रह चुके हैं। इससे पहले अविभाजित मध्यप्रदेश में भी कैबिनेट मंत्री रह चुके हैं। डीपी घृतलहरे का अंतिम संस्कार उनके गृहग्राम बेमेतरा जिले के ग्राम चक्रवाय (नवागढ़ विधानसभा) में किया जाएगा।

राज्यपाल ने ट्वीट कर शोक व्यक्त किया 

राज्यपाल अनुसुईया उइके ने ट्वीट कर शोक व्यक्त किए हैं। इसके साथ ही राज्यपाल ने स्वर्गीय डी.पी. धृतलहरे के शोक संतप्त परिवारजनों के प्रति संवेदना प्रकट करते हुए उनकी आत्मा की शांति के लिए ईश्वर से प्रार्थना की है।

मुख्यमंत्री भूपेश बघेल ने ट्वीट कर दी श्रद्धांजलि

वही डीपी धृतलहरे की निधन की खबर मिलते ही छत्तीसगढ़ के मुख्यमंत्री भूपेश बघेल ने ट्वीट कर श्रद्धांजलि अर्पित की हैं। उन्होंने डीपी धृतलहरे के निधन को अपूरणीय क्षति बताते हुए अपने ट्वीट में लिखा हैं की

“मेरे साथ अविभाजित मप्र में विधायक और फिर छत्तीसगढ़ में मंत्री रहे वरिष्ठ नेता डेरहू प्रसाद धृतलहरे जी का जाना बहुत दुखद है।

वे सतनामी समाज के बड़े नेता थे। उनके जाने से छत्तीसगढ़ की अपूरणीय क्षति हुई है।”