पंचायत चुनाव : तीसरे चरण में भी कांग्रेस ने किया जीत का दावा

महामंत्री बोले- किसानों के कर्जमाफी और सरकार के फैसलों को मिल रहा जनसमर्थन

रायपुर । त्रिस्तरीय पंचायत चुनाव में पहले और दूसरे चरण की ही तरह तीसरे चरण में भी कांग्रेस ने जीत का दावा किया है। प्रदेश कांग्रेस के महामंत्री और संचार विभाग के अध्यक्ष शैलेश नितिन त्रिवेदी ने कहा है कि छत्तीसगढ़ के गरीब मजदूर किसान गांव में रहने वाले लगातार कांग्रेस को अपना समर्थन दे रहे हैं।

त्रिस्तरीय पंचायत चुनाव के पहले चरण में 167 जिला पंचायत क्षेत्रों में से 96 में कांग्रेस के घोषित कांग्रेस समर्थित प्रत्याशी जीत कर आए हैं। दूसरे चरण में 89 जिला पंचायत क्षेत्रों के लिए मतदान हुआ जिनमें से 52 जिला पंचायत क्षेत्रों में कांग्रेस समर्थित उम्मीदवार जीत कर आए हैं।

                  त्रिस्तरीय पंचायती राज संस्थाओं के चुनाव के पहले और दूसरे चरण में कांग्रेस उम्मीदवारों को जिला पंचायत के साथ-साथ जनपद पंचायत और ग्राम पंचायतों में अच्छी सफलता मिली है।

3 फरवरी को होने वाले पंचायत चुनाव के तृतीय और अंतिम चरण में 143 जिला पंचायत क्षेत्रों के लिए मतदान होगा।कांग्रेस ने तीसरे चरण में 120 से अधिक जिला पंचायत क्षेत्रों में जीत का दावा किया है।

मुक्त क्षेत्रों में भी विचारधारा की जीत
त्रिवेदी ने जानकारी दी है कि कांग्रेस समर्थित उम्मीदवारों के अलावा भी कांग्रेसी विचारधारा के जिला पंचायत सदस्य बड़ी संख्या में जीत कर आए हैं। जिन जिला पंचायत क्षेत्रों में किसी एक उम्मीदवार के नाम पर सबकी सहमति नहीं बन पाई थी या जीत की अच्छी संभावना रखने वाले दो या दो से अधिक कांग्रेसी उम्मीदवार थे उन क्षेत्रों को मुक्त क्षेत्र घोषित कर दिया गया था अर्थात किसी एक कांग्रेस समर्थित उम्मीदवार के नाम की घोषणा नहीं की गई थी। ऐसे मुक्त क्षेत्रों से भी बड़ी संख्या में कांग्रेस विचारधारा के उम्मीदवार चुनाव जीत कर आए हैं।

धान बोनस रोकने का हो रहा नुकसान
शैलेश ने कहा है कि पूरे छत्तीसगढ़ के गांव वालों में और खासकर मजदूर किसानों में भाजपा की केंद्र सरकार द्वारा किसानों को ढाई हजार रुपए धान का मूल्य देने से छत्तीसगढ़ की कांग्रेस सरकार को रोकने के कारण भाजपा को पंचायती राज संस्थाओं के चुनाव में बड़ा नुकसान उठाना पड़ रहा है। त्रिवेदी ने कहा कि एक ओर नरवा गरवा घुरवा बारी, 11000 करोड़ की किसानों की कर्जमाफी और ढाई हजार रुपये धान का दाम जैसे किसान हितकारी फैसले लेने वाली छत्तीसगढ़ की भूपेश बघेल की कांग्रेस सरकार है दूसरी ओर भाजपा है जिसने लगातार किसानों और छत्तीसगढ़ के हितों को नुकसान पंहुचाने का ही काम किया है। स्वाभाविक रूप से छत्तीसगढ़ की कांग्रेस सरकार के किसान हितकारी निर्णयों के कारण पंचायती राज संस्थाओं के चुनाव में कांग्रेस के उम्मीदवार पहले और दूसरे चरण में बढ़त बना चुके हैं और तीसरे चरण में भी यह बढ़त और ज्यादा रहेगी।

संबंधित पोस्ट

पंचायत चुनाव: मुलायम की भतीजी को भाजपा का टिकट

सरगुजाः सिक्का उछाल सरपंच चुनाव, नाराज ग्रामीणों ने पंचायत दफ्तर पर ताला जड़ा

नक्सल धमकियां नाकाम, मजबूत हो रही ग्रामीण सरकार की जड़ें

सरगुजा पंचायत चुनावः मतदाताओं का भारी उत्साह, लंबी कतारें

कोरिया पंचायत चुनाव: प्रचार में कांग्रेस ने झोंके अपने मंत्री भी

पंचायत चुनाव : बराबरी पर खड़े कांग्रेस-भाजपा, वनांचल के मतदाता तय करेंगे किस्मत

कोरिया पंचायतः दूसरे चरण में कड़ा संघर्ष

बस्तर में नक्सल फरमान बेअसर

Video : कांग्रेस नेता पर बेटे और साथियों संग बूथ लूटने का मामला दर्ज़

कोरिया : भरतपुर में प्रत्याशी वोटरों को जीप-ट्रैक्टर से लेकर जा रहे बूथों तक

दंतेवाड़ा हॉस्टल अधीक्षिका के सरकारी आवास से साड़ियां बरामद

मुफ्त में मिला चुनावी मुर्गा गले में जा फंसा