राजनांदगांव सांसद संतोष पांडे भूपेश सरकार पर बरसे,कांग्रेस ने दिखाई तल्खी

प्रदेश और केंद्र को लेकर आरोप प्रत्यारोप जारी

राजनांदगांव|राजनांदगांव लोकसभा के सांसद संतोष पांडे इस बात से जरा भी इत्तफाक नहीं रखते कि कांग्रेस की प्रदेश में साख विधानसभा चुनाव में मिली जीत के बाद अस्थिर बनी हुई है। पांडे का यहां तक कहना है कि एक साल में ही कांग्रेस सरकार अर्श से फर्श तक पहुंच गई है। प्रदेश की जनता कांग्रेस सरकार के शेष चार कार्यकाल कैसे गुजरे इसके इंतजार में हैं। सांसद पांडे ने केंद्र और राज्य सरकार से जुड़े सवालों का बेबाकी से जवाब दिया।

निकाय चुनाव में पिछड़ने की वजह
सांसद संतोष पांडेय का मानना है कि निकाय चुनाव में भाजपा का प्रदर्शन एकदम से निराशाजनक नहीं रहा। पार्षदों की संख्या के आधार आंकलन करें तो कांग्रेस मामूली बढ़त में है। अप्रत्यक्ष प्रणाली से चुनाव कराए जाने के पीछे राज्य सरकार की मंशा को जनता ने भांप लिया। मेरा दावा है कि आज प्रत्यक्ष चुनाव मुकाबले में कांग्रेस भाजपा के सामने टिक नहीं पाएगी।

भूपेश सरकार के एक साल
पांडेय कहते हैं,एक साल में भूपेश सरकार से लोगों की उम्मीदें खत्म हो गई। मेरा मानना है कि राज्य की जनता इस सरकार के अगले बचे हुए चार साल कैसे गुजरे, लोग इसकी राह देख रहे हैं। किसानों के साथ हो रहे बुरे बर्ताव को देखकर दुख होता है। घोषणा-पत्र में बोनस देने के वादे किए गए, अब खरीदी के लिए तरह-तरह के नियम से किसानों को उलझाया जा रहा है।

राष्ट्रीय भावनाओं को भड़काया
केंद्र सरकार पर राष्ट्रीय भावनाओं को भड़काने, अर्थव्यवस्था से मुंह फेरने के आरोप और देश की माली हालत पर उनका जवाब था कि केंद्र सरकार ने राष्ट्रीय मुद्दों के साथ वित्तीय स्थिति को भी बखूबी संभाला है। यह कहना गलत है कि भावनाओं को भड़काया जा रहा है। केंद्र सरकार ने सीएए, विदेशों में भारत का मान, ट्रीपल तलाक जैसे संवेदनशील मसलों पर ध्यान केंद्रित किया। अर्थव्यवस्था बेहतर होने की वजह से देश की आर्थिक स्थिति मजबूत है। वहीँ संसद ने कांग्रेस को सलाह देते हुए कहा कि नागरिकता संशोधन कानून को लेकर भ्रम न फैलाएं। कांग्रेस गांधी के विचारों को मानती है। गांधी ने भी अपने वक्तव्य में कहा था कि भारत से दीगर देशों में बसे अल्पसंख्यकों के वतन लौटने पर सरकार को उनका ख्याल रखना होगा। कांग्रेस पूरे मुद्दे पर देश ध्यान बांट रही है।

चिन्हारी योजना फिसड्डी
प्रदेश सरकार के नरवा-गरवा, घुरवा-बारी योजना पर संतोष पांडेय ने कहा कि मुख्यमंत्री भूपेश बघेल इस योजना को ग्रामीण क्षेत्र के लिए क्रांतिकारी मान रहे हैं। असल में इस योजना के लिए राशि कहां से आ रही है इसका जवाब देना सीएम जरूरी नहीं समझ रहे हैं। यह योजना मनरेगा की राशि से ही नाम बदलकर संचालित हो रही है। योजना से बदलाव नहीं दिख रहा है।

सांसदों की पूछ परख नहीं
प्रदेश के भाजपा सांसद हमेशा से राज्य सरकार के बर्ताव को लेकर सवाल उठाते रहे हैं, छत्तीसगढ़ के सभी 9 भाजपा सांसद भारी मतों से निर्वाचित हुए। राज्य की कांग्रेस सरकार सांसदों के सम्मान को लगातार चुनौती दे रही है। सरकारी कार्यक्रमों में खुलेआम सांसदों की गरिमा को ठेस पहुंचाया जा रहा है। सरकार को समझना होगा कि सांसद के लिए प्रोटोकाल तय है। सरकार के इशारे पर प्रशासन सांसदों को कार्यक्रमों से दूर रख रहा है। यह दोयम दर्जे का व्यवहार उचित नहीं है।

भाजपा गुटबाजी से दूर
भाजपा में गुटबाजी चरम पर है। प्रदेश से लेकर जिलों में विवाद बढ़ा है। आपका क्या देखते हैं, उनका जवाब था-भाजपा के भीतर कहीं भी विवाद की स्थिति नही है। पार्टी की सांगठनिक स्थिति सदैव मजबूत रही है। मामूली विवादों को तूल देना उचित नहीं है।

कांग्रेस ने दिया सांसद संतोष पांडेय को माकूल जवाब
कांग्रेस के प्रदेश प्रवक्ता धनंजय सिंह ठाकुर ने राजनांदगांव के सांसद संतोष पांडे के द्वारा भूपेश सरकार पर लगाए गए आरोप पर अपनी प्रतिक्रिया दी है। प्रवक्ता धनंजय सिंह ठाकुर का साफ तौर पर कहना है कि छत्तीसगढ़ में पिछले 1 साल में भूपेश बघेल की सरकार ने छत्तीसगढ़ वासियों के लिए वह काम किया है, जो 15 साल में पिछली सरकार यानी डॉ रमन सिंह की सरकार ने अब तक नहीं किया है। आज प्रदेश वासी खुशहाल है। पहले प्रदेश के किसान कर्ज के बोझ तले लगातार आत्महत्या कर रही थी, जिसमें अब एक साल में रोक लगी है, क्योंकि भूपेश सरकार ने किसानों का कर्ज माफ किया है और जो कर्ज बाकी है उसे भी जल्द ही पूरा कर दिया जाएगा। साथ ही प्रदेश के किसानों को भूपेश सरकार 2500 रुपये धान का समर्थन मूल्य दे रही है। लेकिन भाजपा के 9 सांसद जो छत्तीसगढ़ के हैं उन्होंने एक बार भी प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी से प्रदेश के किसानों के लिए गुहार नहीं लगाई, जो संशय पैदा करती है।

सांसद संतोष पांडेय को कांग्रेस की सलाह
धनंजय सिंह ने सांसद संतोष पांडे को सलाह देते हुए कहा की वह दिल्ली जाकर प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी और भाजपा के राष्ट्रीय अध्यक्ष और केंद्रीय गृह मंत्री अमित शाह से छत्तीसगढ़ के संबंध में चर्चा करें। छत्तीसगढ़ में जो काम हो रहा है उसे केंद्र तक पहुंचाएं। उन्होंने कहा कि एनपीआर,सीएए और एनआरसी के मद्देनजर जो भारतीयों से प्रमाणपत्र मांगा जा रहा है, वह कदापि उचित नहीं है। संविधान की खिल्ली उड़ाना भाजपा का सिद्धांत और नियम बन चुका है। अब प्रदेश की जनता भाजपा के कथनी और करनी को समझ चुका है, इसलिए विधानसभा चुनाव के ही तरह नगरी निकाय चुनाव में भी कांग्रेस को प्रदेश के लोगों ने साथ दिया और छत्तीसगढ़ के सभी नगर निगम यानी 10 नगर निगम में कांग्रेस के महापौर काबिज हो गए। जिससे साबित होता है कि प्रदेश की जनता भूपेश सरकार के काम से खुश है।

झूठ न बोले भाजपा संसद – धनंजय
धनंजय ने कहा कि भाजपा के सांसदों को प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी और गृहमंत्री अमित शाह के सामने खड़े होने की क्षमता ही नहीं है। वह केवल प्रदेश की जनता के सामने अपना ढोंग रचते हैं। साथ ही उन्होंने कहा की भाजपा के सांसद सरासर झूठ बोलते हैं कि प्रशासन द्वारा उन्हें तवज्जो नहीं दी जाती। भूपेश बघेल की सरकार ने जब जब भी सांसदों को बुलवाया है उस समय भाजपा के एक भी सांसद किसी भी कार्यक्रम में शामिल होने से कतराते रहते हैं ऐसे में साफ लगता है कि भाजपा के सांसद झूठ बोलने के अलावा कुछ नहीं किया करते।