पासपोर्ट में “कमल निशान” पर बवाल…सिंहदेव बोले- What’s next ?

भारतीय पासपोर्ट पर कमल के निशान पर संसद में उठे थे सवाल

रायपुर। भारत के पासपोर्ट पर छप रहे कमल निशान पर संसद भवन में भी जमकर हंगामा मचा। इस हंगामे के बाद देशभर से कांग्रेस नेता इस मसले पर तल्ख़ तेवर दिखाकर भाजपा सरकार पर हमला कर रहे है। छत्तीसगढ़ में भी इस मामले पर सियासी घमासान मचा हुआ है। प्रदेश के स्वास्थ्य मंत्री टी एस सिंहदेव ने भी इस मुद्दे पर ट्वीट कर इस मामले पर भारतीय जनता पार्टी की सरकार से जवाब मांगा है। सिंहदेव ने ट्वीट करते हुए लिखा कि ” क्या भाजपा का पार्टी चिन्ह पासपोर्ट पर राष्ट्रीय प्रतीक की जगह लेने लगा है ? अब देश में आगे क्या होगा ? व्हाट नेक्स्ट लिखते हुए उन्होंने कहा रिपब्लिक ऑफ आर एस एस लिखकर एक प्रश्न चिन्ह लगाकर इसे छोड़ दिया। अब उनका यह ट्वीट सोशल मीडिया पर लगातार वायरल हो रहा है। वही सूबे की सियासत में भी यह मुद्दा गरमा चुका है।

दरअसल लोकसभा में शून्यकाल के दौरान भारतीय पासपोर्ट पर कमल निशान छपने से यह मामला गरमाया। शून्यकाल के दौरान केरल के कोझिकोड में कमल के निशान वाले पासपोर्ट बांटे जाने का मामला कांग्रेस के सांसद एमके राघवन ने उठाया था। राघवन ने इस मामले में वर्तमान सरकार पर यह आरोप लगाया था कि सरकार सरकारी संस्थानों का भी भगवाकरण करने में लगी हुई है। भाजपा का चुनाव चिन्ह भी कमल है, इसलिए इस मामले में कांग्रेसी पुरजोर विरोध कर रही है। इधर इस मामले को लेकर भारत के विदेश मंत्रालय का कहना है कि सुरक्षा मानकों को मजबूत करने के लिए यह कमल का निशान भारतीय पासपोर्ट पर लगाया गया है। इसके अलावा अन्य राष्ट्रीय प्रतीकों का भी इस्तमाल सुरक्षा के दृष्टिकोण से पासपोर्ट पर किया जाएगा।