ज्योत्सना और शिवाली, विंध्यवासिनी और सुशीला, कोरिया का सोनहत जिपं- चार महिलाओं की दावेदारी

जिला पंचायत सोनहत अनारक्षित महिला के लिए आरक्षित

बैकुंठपुर। कोरिया जिले की दूसरी प्रतिष्ठित जिला पंचायत सीट सोनहत पर कांग्रेस, भाजपा, गोंडवाना समर्थित 4 महिलाओं ने अपनी दावेदारी पेश कर रखी है, ये महिलाएं बीते कई माह से ना सिर्फ लोगों के पास जाकर उनकी समस्याएं सुन रही है, बल्कि अपने पक्ष में माहौल भी बनाने से पीछे नहीं हैं।

जानकारी के अनुसार कोरिया जिले की जिला पंचायत सोनहत सीट हुए आरक्षण में अनारक्षित महिला घोषित हुई हैं, जिला प्रचयत सदस्य क्षेत्र क्रमांक 5 इस सीट में पूरा सोनहत तहसील आता है, इसमे गेाइनी से लेकर कटगोडी, बेलार्ड, पत्थरगवां से लेकर तर्रा बसरे तक फैले इस क्षेत्र में राजवाडे, गोंड, चेरवा समाज की बाहुल्यता है, वहीं अन्य समाजिक वोटों के समीकरण से जीत हार तय होती है, त्रिस्तरीय पंचायत चुनाव की अधीसूचना जारी होने के बाद सोनहत सीट पर घमासान तेज हो गया है, इस सीट पर वर्तमान में भाजपा समर्थित जिला पंचायत सदस्य देवेन्द्र तिवारी का कब्जा है।

कांग्रेस समर्थित ज्योत्सना प्रचार में आगे
कांग्रेस समर्थित ज्योत्सना पुष्पेन्द्र राजवाडे बीते 3 माह से सोनहत के कई क्षेत्रों में धुंआधार प्रचार कर रही है, केमिस्ट्री में पोस्ट ग्रेज्येट श्रीमती राजवाडे सुबह से लेकर देर रात तक लोगो के बीच जबरदस्त प्रचार मे जुटी हुई है। ग्रामीणों से सीधा संवाद कर उनकी समस्याओं की सुन उसे हल करने का आश्वासन भी दे रही है। इसके पूर्व उनके पति पुष्पेन्द्र राजवाडे ने 2014 में हुए जिला पंचायत चुनाव में हाथ आजमाया था, उन्हें भाजपा समर्थित देवेन्द्र तिवारी से हार का सामना करन पड़ा था, इस बार महिला सीट होने के कारण उन्होंने अपनी पत्नी को मैदान में उतार दिया है, वे लम्बे समय से सोनहत के दूरस्थ क्षेत्रों में लोगों की समस्याओं के निदान की पहले करने और कई जनहित की मांगों को लेकर आंदोलन में शामिल रहे है। सोनहत में राजवाडे समाज की बहुल्यता देखते हुए कांग्रेस ज्योत्सना के नाम पर मुहर लगा सकती है, वहीं इसके अलावा कांग्रेस की ओर कोई और महिला दावेदार ने अभी तक सामने नहीं आई है।

भाजपा समर्थित में दो प्रमुख दावेदार
जिला पंचायत क्षेत्र क्रमांक 5 पर अब तक भाजपा का कब्जा रहा है, वर्तमान में देवेन्द्र तिवारी इस सीट पर है, होने वाले चुनाव में भाजपा की ओर से दो महिलाओं ने अपनी दावेदारी जताई है, इसमें पहला नाम सुशीला राजवाडे का है, युवा मोर्चा और महिला मोर्चा में सक्रिय रूप से कार्य कर चुकी है। राजवाडे समाज की पदाधिकारी भी है। साक्षता में प्रेरक एवं प्रधानमंत्री उज्जवला योजला में भी जनजागरण फेलाने का काम कर चुकी है। श्रीमती राजवाडे गायन के साथ हरमोनियम वादन भी अच्छा करती है, सामजिक और धार्मिक कार्यों में भी ये बढ़ चढ़कर हिस्सा लेती है। श्रीमती राजवाडे भी मैदान में उतर कर लोगों के बीच पहुंच रही है। लोगों की समस्या सुन कर उसे हल करने की दिशा में काम करने में जुटी हैं। दूसरी ओर महिला दावेदार विध्यंवासिनी जायसवाल ने भी मोर्चा संभाल लिया है, श्रीमती जायसवाल भाजपा की महिला मोर्चा में मंडल महामंत्री के पद पर है, विधानसभा और लोकसभा चुनाव में उन्होंने काफी काम किया।

गोडवाना समर्थित भी मैदान में
गोडवाना गणतंत्र पार्टी ने बीते 2014 के चुनाव में हर किसी को हैरान कर दिया था, जिला पंचायत का उपाध्यक्ष पद पर पार्टी की सरोजनी कमरो आसिन है, तो सोनहत के चुनाव में भाजपा के देवेन्द्र तिवारी को गोंडवाना के इस्तियाक अहमद ने कड़ी टक्कर दी थी, महिला सीट होने के बाद गोंडवाना समर्थित शिवाली सिंह मैदान में देखी जा रही है, चेरवा और गोंड समाज की बाहुल्यता वाले इस क्षेत्र में गोडवाना गणतंत्र पार्टी की गहरी पैठ है, विधानसभा चुनाव में गोंडवाना गणतंत्र पार्टी ने इस क्षेत्र से काफी मत बटोरे थे। जिसका फायदा लेने में पार्टी कोई कसर नहीं छोड़ना चाहती है।