कोरिया : बडकाघाघी डायवर्सन को लेकर फूटा ग्रामीणों का ग़ुस्सा

घटिया निर्माण और गुणवत्ता को लेकर अफसरों तक पहुंचे स्थानीय निवासी

बैकुंठपुर। कोरिया जिले के जनपद पंचायत मनेंद्रगढ अंतर्गत ग्राम पंचायत पहाड हंसवाही में जल संसाधन विभाग द्वारा बनवाये जा रहे बडकाघाघी व्यपवर्तन में जारी निर्माण को लेकर ग्रामीणों का विरोध शुरू हो गया है। ग्राम पंचायत के सरपंच और ग्रामीणों के बुलावे पर जिला पंचायत सदस्य शरण सिंह मौके पर पहुंचें और उन्होने अधिकारियों पर सही मॉनिटरिंग नहीं करने का आरोप लगाते हुए आचार संहिता तक कार्य पर रोक लगाने की मांग की। सहित ग्रामीणों ने गुणवत्ता युक्त कार्य नही कराये जाने का आरेाप लगाते हुए बांध निर्माण कार्य पर रोक लगाये जाने की मांग की।
इस संबंध में जल संसाधन विभाग के कार्यपालन अभियंता वीके साहू और एसडीओ जेपी राय का काल कर उनके निर्माण के संबंध में जानकारी चाही गयी, परन्तु दोनों ने फोन रिसीव नहीं किया। मौके पर उपस्थित जिला पंचायत सदस्य शरण सिंह का कहना है कि एसडीओ मनेन्द्रगढ का रिटायरमेंट नजदीक है, ऐसे में फटाफट जैसे तैसे कार्य कराकर राशि के निकाले जाने की संभावना से इंकार नहीं किया जाा सकता है, व्यपवर्तन का फाउंडेशन बहुत कम खोदा गया है, अधिकारी तो चले जाएगे, नुकसान ग्रामीणोे और किसानों का होगा, वर्तमान में चुनाव चल रहा है, जिसके बाद कोई भी अधिकारी इसकी सुघ लेने नहीं आता है, हमारी मांग है कि चुनाव तक इस कार्य पर रोक लगे ताकि सही मॉनिटरिंग के कार्य हो।
जानकारी के अनुसार जनपद पंचायत मनेंद्रगढ के ग्राम पंचायत पहाड हंसवाही में कुछ दिनों पूर्व खटंबर नदी के बडकाघाघी नामक स्थल पर 299.71 लाख की लागत से व्यपवर्तन का निर्माण कार्य कराया जा रहा है। ग्रामीणों का कहना है कि अधिकारियों के निर्देश पर कार्य शुरू होने के साथ ही गुणवत्ताहिन कार्य शुरू हो गया है। ग्रामीणों के साथ ग्राम पंचायत के सरपंच कामेश कुमार तिर्की ने बताया कि उक्त स्थान पर बनाये जा रहे डैम का फाउंडेशन बहुत कम रखा गया है जिससे कि बांध का टिक पाना मुश्किल है। वही उन्होने बताया कि निर्माण कार्य घटिया तरीके से कराया जा रहा है। संबंधित इंजीनियर कार्य को देखने कभी नही आते ठेकेदार के ंभरोसे ही कार्य कराया जा रहा है, और ठेकेदार भी क्या करे, उसे जैसे निर्देश अधिकारियों का मिल रहा है वो काम कर रहा है। जिससे कि बांध का लंबे समय तक टिक पाना संभव नही लग पा रहा है। उन्होने कहा कि यदि कार्य कराया जा रहा है तो गुणवत्ता के साथ कार्य कराया जाये ताकि हमारे क्षेत्र में बन रहे उक्त बांध का लाभ क्षेत्र के ग्रामीणों को मिल सके। सरपंच ने कहा कि बांध निर्माण कार्य के लिए स्थल पास के दर्जनों हरे भरे पेडों की कटाई कर दी गयी।

कलेक्टर की जायेगी शिकायत
ग्राम पंचायत पहाड हंसवाही के खटंबर नदी के पास बडकाघाघी स्थल पर बांध निर्माण कार्य मंे गडबडी किये जाने की शिकायत सरपंच के द्वारा जिला पंचायत सदस्य शरण सिंह को दी गयी तो वे भी मौके का निरीक्षण करने पहुंचे इस दौरान ग्रामीण भी उनके साथ में थे। उन्होने बन रहे बांध का निरीक्षण किया तो पता चला कि बांध का फाउंडेशन बहुत कम रखा गया है जबकि बांध में पानी का फोर्स अधिक होने के कारण बांध का टिक पाना संभव नही होगा। वहीं स्टील की मात्रा भी काफी कम लगाई जा रही है। श्री सिंह ने बताया कि इसकी शिकायत कलेक्टर कोरिया से की जायेगी। दूसरी ओर ग्रामीणों का कहना है कि इस नदी से गिरने वाले झरने को घाघी कहते है, मिट्टी खोद कर झरने का पाट दिया जा रहा था, जिसका विरोध करने पर उसे हटाया गया है, जिससे बाद में झरने का प्राकृतिक रूप को नुकसान हो सकता है।

विभागीय तौर पर खरीद लिए पाईप
सूचना के अधिकार से मिली जानकारी के अनुसार बडकाघाघी व्यपवर्तन में बीते जनवरी 2018 को जल संसाधन विभाग ने 876 मिटर पाइप 2 करोड 45 लाख 40 हजार 228 मूल्य के खरीद लिए। ऐसा तब जब ना तो योजना का टेंडर हुआ था और ना ही वन विभाग द्वारा इस कार्य की एनओसी प्रदान की गई थी, विभागीय खरीदी को लेकर कई सवाल खडे हो रहे है। बताया जाता है कि भोपाल की जिस कंपनी से इसकी खरीदी की गई है, उसकी कीमत बाजार भाव से कही ज्यादा है और जितना खर्च पाइप की खरीदी में किया गया है उससे आधे खर्च में पक्की नहर का निर्माण कराया जा सकता था। खरीदी की हडबडी को लेकर बडे भ्रष्टाचार के कयास लगाए जा रहे है।