कोरिया जिला पंचायत : भाजपा में सेंध की जुगत में अब कांग्रेस

बदलेंगे कई समीकरण, कांग्रेस का अध्यक्ष, भाजपा का उपाध्यक्ष

चंद्रकांत पारगीर, बैकुंठपुर। जिला पंचायत में भाजपा का दबदबा कायम होने की संभावना है, परन्तु कांग्रेस अब भाजपा के लोगों से संपर्क साधने में जुट गयी है, भाजपा ने 10 में से 5 सीट पर बढ़त मिली है। उसे सिर्फ एक सीट की जरूरत है ताकि वो अपना अध्यक्ष और उपाध्यक्ष बना सके, उसके लिए ये असान भी लग रहा है, पर कांग्रेस अब भाजपा में ही सेंघ लगाने की जुगत में है।

उपाध्यक्ष के लिए 1 सीट लाना होगा
कांग्रेस को 10 में से 3 सीट पर बढ़त मिली है, जिसमें उषा सिंह करीयाम, ज्योत्सना पुष्पेन्द्र राजवाडे और रविशंकर सिंह हैं। वहीं कांग्रेस के बिना समर्थन जीत कर आए वेदांति तिवारी निर्दलीय हैं, जबकि एक सीट जनकपुर से गोंडवाना के पास गई, वहां से फूलमति सिंह नेटी जिला पंचायत पहुंच चुकी है।
इन सभी को मिला कर 5 सीट होती है, अब यदि कांग्रेस को अपना उपाध्यक्ष बनाना है तो भाजपा में किसी एक को अपने पाले में लाना होगा। जो कि आसान काम नहीं है। वहीं निर्दलीय वेदांति तिवारी के खिलाफ कांग्रेस संगठन ने उन्हें हराने के लिए पूरा जोर लगा दिया था, ऐसे में वो कांग्रेस के साथ है या नहीं इसमें अभी तक संशय की स्थिति बनी हुई है।

कई समीकरण और बदलेंगे
इधर, भाजपा की मानें तो जिला पंचायत अध्यक्ष कलावती मरकाम को पछाड़ने वाली चुन्नी पैकरा जिला पंचायत अध्यक्ष पर के लिए सबसे आगे हो सकती है। एक बार फिर से जिला पंचायत के अध्यक्ष का पद बचरापोड़ी जा सकता है। हालांकि अभी इसमें कई समीकरण और बदलेंगे।

कांग्रेस का अध्यक्ष, भाजपा का उपाध्यक्ष
जिला पंचायत अध्यक्ष के लिए कांग्रेस में प्रमुख रूप से राज्य मंत्री की बहन उषा सिंह करीयाम का नाम शुरू से सामने आ रहा है। वहीं भाजपा से उपाध्यक्ष के लिए पूर्व मंत्री राजवाडे के पुत्र विजय राजवाडे का नाम आगे है। वहीं राज्य मंत्री और पूर्व मंत्री राजवाडे के संबंध भी काफी मधुर है। ऐसे में सूत्र बताते है कि यदि ऐसा हो जाए तो कोई हैरानी नहीं होगी और कांग्रेस के अध्यक्ष बनने की मुहर भी लग जाएगी।

दिृगपाल सिंह पर डोरे
वहीं कांग्रेस केल्हारी से दिृगपाल सिंह पर भी डोरे डाल रही है, जबकि भाजपा के सूत्र बताते हैं कि आने वाले विधानसभा चुनाव 2023 के लिए पार्टी उन्हें अभी से विधायक के लिए तैयार करने का मन बना रही है। ऐसे में माना जा रहा है कि वो पार्टी के साथ खड़े रहने से पीछे नहीं हटेगे। इसके अलावा और भी कई भाजपा के सदस्य को भी कांग्रेस टटोलने में जुट गयी है।