कोरियाः एडवेंचर पार्क से पहले स्वास्थ्य

मनेन्द्रगढ़ में मेडिकल कॉलेज की मांग, फ्रेंड्स ग्रुप ने लिखा कोरबा सांसद को पत्र

चंद्रकांत पारगीर, कोरिया। एक ओर चिरमिरी में एडवेंचर पार्क के निर्माण के लिए स्थल चयन को लेकर बवाल मचा हुआ है तो दूसरी ओर मनेन्द्रगढ के साथ हो रहे भेदभाव को लेकर अब लोग मुखर होने लगे है।

लोगों का कहना है कि मनेन्द्रगढ में मेडिकल कालेज हो या पुलिस जिला हमेशा मनेन्द्रगढ के लोगों को ठगा ही गया हैं, अब उन्हें हर हाल में मेडिकल कॉलेज की स्थापना चाहिए क्योंकि यहां हर कोई स्वास्थ्य सुविधाओं की बदहाली की मार झेल रहा है।

शहर का सामाजिक संगठन मनेन्द्रगढ़ फ्रेंड्स ग्रुप के अध्यक्ष अंकुर जैन का कहना है कि मेडिकल कॉलेज की घोषणा के बाद से हमारा शहर इसके स्थापना की राह देख रहा है। अब हम सब मनेंद्रगढ़वासी इसे खोले जाने की मांग के लिए संकल्पित है। मनेंद्रगढ़ मेडिकल कॉलेज शहर में रोजगार के लिए एवं चिकित्सा के लिए नितांत आवश्यक है। उनके संगठन ने  समय-समय पर मेडिकल कॉलेज की मांग उठाई जाती रही है। वर्ष 2011 से लेकर अभी तक हर कही पत्र व्यवहार किए गए है।

कांग्रेस की सरकार बनने के बाद इस महाविद्यालय के खोले जाने को लेकर हम सब को बहुत सी आशाएं है, परन्तु बीते डेढ वर्षो में इस पर कोई खास पहल नहीं देखी गई है।

दरअसल, वर्ष 2011 में तत्कालीन केंद्रीय मंत्री डॉ चरणदास महंत ने मनेंद्रगढ़ में मेडिकल कॉलेज की स्थापना हो, इसके संबंध में तत्कालीन कोयला मंत्री को पत्र लिखा, जिसमें कोयला मंत्रालय द्वारा एसईसीएल बिलासपुर को आगे की कार्यवाही के लिए आदेशित किया गया था जिसके लिए रिपोर्ट बनाने के लिए एक टीम भी आई थी और मनेंद्रगढ़ केंद्रीय चिकित्सालय के पास रिक्त पड़ी जमीन को भी चयन किया गया।

उस दौरान यह उम्मीद बंधी थी कि उनका यह वादा पूरा होने वाला है। लेकिन समय के साथ केंद्र राज्य और एसईसीएल प्रबंधन की औपचारिकताओं और बाधाओं के बोझ तले मनेंद्रगढ़ मेडिकल कॉलेज फाइल में दब कर रह गया।

मनेन्द्रगढ़ फ्रेंड्स ग्रुप के अध्यक्ष अंकुर जैन, आशीष मजूमदार, श्याम सुंदर पोद्दार, हरी जाधव के साथ सभी मनेन्द्रगढवासी अब इस मुददे को लेकर संजीगदी से रणनीति तैयार कर हर तरह के प्रयास में जुट गए है।

ब्लड बैंक के लिए पहल

सामाजिक मुद्दों के साथ गांव गरीब के लिए काम करने वाली संस्था मनेन्द्रगढ फेंडस् क्लब ने कई मुद्दों पर आवाज बुलंद करती रही है। पूर्व में ब्लड बैंक की मांग को लेकर एक बडा सफल आंदोलन देखने का मिला था। जिसका श्रेय फ्रेंड्स ग्रुप को जाता है और अब ब्लड बैंक शुरू होने की औपचारिकताएं लगभग पूरी होती दिख रही है और बहुत जल्द मनेन्द्रगढ में ब्लड बैंक खुलने वाला है।

पार्क से पहले स्वास्थ्य

जिले की बदहाल स्वास्थ्य सेवाओं को लेकर लोग काफी परेशान है, जिले में ना तो डायलेसिस की सुविधा है, और ना ही सरकारी अस्पतालों में सीटी स्कैन की, इसके अलावा मेडिकल को कोई भी डिपार्टमेंट पूरा नहीं है, कीडनी, हार्ट, से लेकर कई गंभीर बीमारियों के लिए लोगों को रायपुर या बिलासपुर का रूख करना पडता है।

यही कारण है कि लोग चिरमिरी में पार्क से ज्यादा हर स्थान पर स्वास्थ्य सुविधाओं की बढोतरी की  मांग कर रहे है, ताकि लोगो को बीमारियों के इलाज के लिए यहा वहां भटकना नहीं पडे।

संबंधित पोस्ट

कोरिया : नाले पर बना दिया गोठान

कोरिया जिले में दलाल सक्रिय, सरपंचों पर बना रहे दबाव- देवेन्द्र तिवारी

छत्तीसगढ़ : जशपुर में बनेगा पुरातात्विक संग्रहालय

छत्तीसगढ़ : कोरिया जिले में दाखिल हुआ टिड्डियों का दल

छग : नकली दरोगा बन हाईवे में वसूली करते दो युवक गिरफ्तार

बस्तर के नारायणपुर में CAF कमांडर की जवानों पर फायरिंग, 2 की मौत, 1 जख्मी

लॉकडाउन से पस्त पान विक्रेता संघ कलेक्टर से मिला, मांगी इजाजत

बस्तरः पुणे से लौटा मजदूर कोरोना संक्रमित, कोविड अस्पताल में भर्ती 

नहीं.., पापा…

गोदाम में रखा 35 लाख का बारदाना खाक

राजनांदगांवः महीनों से बेकाम बस चालकों ने किया हंगामा

छत्तीसगढ़ में 5 नए मरीजों की पहचान, सक्रिय मरीजों का आंकड़ा 321 पर