कोरिया पंचायत चुनावः दावेदारी की तैयारी शुरू…

आरक्षण से बदली कई की सीटें, रणनीति बनाने में जुटे दिग्गज

बैकुंठपुर। पंचायत चुनाव का ऐलान हो गया है, बिना सिंबल के होने वाले इस चुनाव में गाहे ब गाहे राजनैतिक दलों की ही आपस में टक्कर होती रही है। राजनीति के कई धुरंधर इस चुनाव में अपनी किस्मत आजमाने इसलिए उतरने वाले हैं, ताकि विधायकी के लिए उनकी दावेदारी तय हो सके, वही आरक्षण से कई नेताओं की सीटों पर बदलाव से नई रणनीति बनाकर उतरने की तैयारी कर रहे हैं।
जानकारी के अनुसार राज्य के चुनाव आयोग ने त्रिस्तरीय पंचायत चुनाव का ऐलान कर दिया है, 30 दिसंबर से शुरू होने वाली इसकी प्रक्रिया में प्रचार और परिणाम के बीच लगभग 1 महिने का समय दिया गया है। इस चुनाव में सबसे बडा घमासान जिला पंचायत अध्यक्ष के साथ सदस्य और जनपदों में अध्यक्ष और उपाध्यक्षों को लेकर रहता है। वर्तमान जिला पंचायत अध्यक्ष और सदस्य एक बार फिर इस चुनाव में हाथ आजमाने के लिए तैयार हैं।
आरक्षण के कारण उन्हें क्षेत्र तो बदलना ही होगा साथ ही नए समीकरण के साथ मैदान में उतारना होगा, अब ग्रामीण उनके कार्यकाल की समीक्षा करने लगे हैं, ऐसे में चुनावी घमासान और संघर्ष बेहद कड़ा होने की उम्मीद है। अभी तक सबसे प्रतिष्ठित और कोरिया जिले की सबसे दिलचस्प सीट बैकुंठपुर विधानसभा की क्षेत्र क्रमांक 7 कुडेली रही है, सामान्य सीट पर यहां जिला पंचायत सदस्य स्व हेमलता पैकरा की असामयिक मौत के बाद 2017 में चुनाव हुआ, जिसमें मंत्री प्रतिनिधि रेवा यादव को कांग्रेस के समर्थित रामकृष्ण साहू ने सीट पर कब्जा जमाया। अब यह सीट एक बार फिर इस सीट पर कड़ी टक्कर होने के आसार नजर आ रहे हैं। कई निर्दलीय भी मैदान में होगे और गोंडवाना गणतंत्र पार्टी ने अभी तक अपने पत्ते नहीं खोले हैं।

कांग्रेस समर्थित दावेदार
वर्तमान में इस सीट पर रामकृष्ण साहू जिला पंचायत सदस्य के रूप में जीत कर आए हैं, इस बार फिर उन्होने इसी सीट पर अपनी दावेदारी तेज कर दी है। अपने छोटे से कार्यकाल में उन्होंने अपनी अलग छाप छोडी, वहीं दो बार विधानसभा चुनाव लड़ चुके कांग्रेस के दिग्गज नेता बेदांति तिवारी भी इस सीट पर उतर सकते है। उनके समर्थकों की मानें तो उन पर जिला पंचायत चुनाव में उतरने का दबाव है, ऐसे में यदि वो मैदान में उतरते हैं तो उनका गृह क्षेत्र होने का उनके लाभ जरूर मिलेगा। इसके अलावा वर्तमान जनपद उपाध्यक्ष अनिल जायसवाल ने भी इस सीट पर अपनी दावेदारी जता रखी है, बीते कई दिनों से वे इस क्षेत्र में भ्रमण कर अपने को जिला पंचायत सदस्य के चुनाव के लिए ग्रामीणों से राय ले रहे है। हालांकि अभी और भी दावेदार सामने आ सकते हैं।

भाजपा समर्थित दावेदार
कुडेली सीट पर बीते कई दिनों से भाजपा के कद्दावर नेता अनिल साहू अपनी दावेदारी ठोंक रहे हैं। सालों से भाजपा संगठन में अपनी पैठ रखने वाले श्री साहू के समर्थकों ने उन्हें मैदान में ला खड़ा किया है, स्वयं अनिल साहू भी ग्रामीणों में जनसंपर्क कर उन्हें मौका देने की मांग करते देखे गए है। दूसरी ओर पूर्व मंत्री प्रतिनिधी रेवा यादव एक बार फिर इस सीट से चुनाव लडने के इच्छुक बताए जा रहे हैं। वे भी वापस इस क्षेत्र में भ्रमण कर अपने पक्ष में हवा बनाने में कोई कसर नहीं छोड़ रहे है। वहीं मंडी अध्यक्ष रह चुके जगदीश साहू भी इस सीट पर अपनी दावेदारी जता रहे हैं। इस सीट पर सबसे ज्यादा साहू समाज के वोटर है, ऐसे मे सामाजिक वोटरों का लाभ लेने कोई भी चुकना नहीं चाहता है। यही कारण है कि इस सीट पर और भी कई दावेदार सामने आ जाए तो कोई बात नहीं।