कोरिया जिला पंचायत अध्यक्ष और उपाध्यक्ष के लिए भारी जोड़तोड़

संख्या में ज्यादा फिर भी भाजपा को मशक्कत

चंद्रकांत पारगीर, कोरिया। सरगुजा संभाग के कोरिया जिले में जिला पंचायत अध्यक्ष और उपाध्यक्ष पद के लिए भारी जोड़तोड़ जारी है। वही कांग्रेस के पास 2 जिला पंचायत सदस्य है, जबकि 1 एकता परिषद, 1 निर्दलीय, 1 गोंगपा और 5 भाजपा के पास है। ज्यादा संख्या होने के बाद भी भाजपा को बड़ी मशक्कत करनी पड़ रही है।

जानकारी के अनुसार जिला पंचायत अध्यक्ष और उपाध्यक्ष पद के लिए कांग्रेस को तब झटका लगा जब 15 हजार से ज्यादा मतो से जीतकर आये रविशंकर सिंह ने अपने को एकता परिषद का प्रत्याशी बता दिया। रविशंकर सिंह खुलकर कहते है कि उन्होंने कांग्रेस का कोई समर्थन नहीं लिया। उन्हें जनता का अपार समर्थन मिला है।

इधर भाजपा हर हाल में अध्यक्ष और उपाध्यक्ष बनाने की कोशिश में है। उसके पास 5 सदस्य तो है उसे और कम से कम 1 सदस्य का समर्थन चाहिए। ऐसे में उसकी राह बड़ी कठिन होती जा रही है। दूसरी ओर जीत कर सदस्य पार्टी से हटकर भी गुणाभाग लगाने में जुटे है। यदि ऐसा हुआ तो कोई नया फार्मूला देखने को मिल सकता है।

सिर्फ वोट बैंक नहीं, भरतपुर करेगा नेतृत्व

खुद को एकता परिषद का जिला पंचायत सदस्य बताने वाले रविशंकर सिंह का कहना है कि वो अब वोट बैंक बनकर नही रहना चाहते। भरतपुर अब नेतृत्व करने के लिए तैयार है, तभी इस क्षेत्र का विकास होगा। उनका कहना है कि हमारा क्षेत्र काफी पिछड़ा है, यहां के लोगो की कहीं सुनवाई नहीं होती है। सालो से लोग इस दंश को झेल रहे है।

पहले जहर उगला, अब रिश्तेदारी?

जिला पंचायत उपाध्यक्ष के पद के लिए भारी जोड़ तोड़ जारी है। ऐसे में एक दावेदार ने पंचायत चुनाव में जिसके खिलाफ जमकर जहर उगला, उसे बड़ी मुश्किल से जीत मिली। अब उपाध्यक्ष बनाना है तो रिश्तेदारी निकाल सगे संबंधियों को भेज अपने पक्ष में उनका बहुमूल्य 1 वोट मांग रहे है। जबकि उधर से किसी भी प्रकार की हरी झंडी मिलते नहीं दिख रही है।

डीजल पर्ची ही दे दो

पंचायत चुनाव के खत्म होने के बाद चुनावी चंदे को लेकर चर्चा आम है। अम्बिकापुर से लेकर बैकुंठपुर तक के कुछ अधिकारियों की माने तो एक नेता अपने करीबी के चुनाव लिए चंदा मांगने कई अधिकारियों के कार्यालय पहुंचे। अधिकारी कार्यालय नहीं मिले तो घर पहुंच गए। जब चंदे की रकम पर कड़की बताई तो 100 ली 50 ली डीजल पर्ची ही मांग ली। अधिकारी भी क्या करते, डीजल पर्ची देकर ऐसे नेता को ठंडा कर दिया।

भरतपुर में कांग्रेस साफ

जिले के भरतपुर की दोनों जिला पंचायत सीट पर कांग्रेस को एक भी सीट नहीं मिली है। वहीं कांग्रेस समर्थित पंच से लेकर जिला पंचायत सदस्यों तक को हार का सामना करना पड़ा है। कांग्रेस के ब्लॉक अध्यक्ष रविंप्रताप सिंह को एकदम नए चेहरे चंद्र प्रताप बालंद में हराकर तीसरे स्थान पर ला खड़ा कर दिया। यहां विधानसभा चुनाव के जीत के बाद कांग्रेस का लगातार ग्राफ गिरता दिख रहा है।

वादाखिलाफी और रवैये से नाराज शरण सिंह

पूर्व जिला पंचायत सदस्य शरण सिंह ने अपनी हार के बाद बयान जारी कर बताया है कि कांग्रेस पार्टी के वो वफादार कार्यकर्ता है। लंबे समय राजीव गांधी पंचायती राज संगठन के जिला समन्यवक साथ कांग्रेस के किसान मोर्चा के जिला उपाध्यक्ष के पद रहते हुए उन्होंने हमेशा पार्टी के लिए बेहतर परिणाम ला कर दिए है। उनका कहना है मुझे विधानसभा चुनाव में कांग्रेस के बड़े नेताओं ने आश्वासन दिया था कि आप पार्टी का काम करो आपको सम्मान दिया जाएगा। पर ऐसा हुआ नहीं। संगठन की कार्यशैली से मैं काफी आहत हूँ यहां संगठन का नीति नियम न चलकर क्षेत्रीय विधायक का नियम चलाया गया और मुझे कांग्रेस का समर्थित प्रत्याशी नहीं बनाया गया।

उन्होंने बताया कि वे जनता मेें उनके विकास के मुद्दे पर मैदान में उतरे थे। चुनाव में आये जनादेश को स्वीकार करते हुए जागरूक मतदाताओं, मेरे शुभचिंतक, भाइयों, बहनोँ, माताओ सभी का आभार व्यक्त करता हूँ और भविष्य में आम जनमानस का निःस्वार्थ भाव से सहयोग कर निष्पक्ष भाव से कार्य करता रहूंगा।

संबंधित पोस्ट

कोरिया : नाले पर बना दिया गोठान

लॉकडाउन से पस्त पान विक्रेता संघ कलेक्टर से मिला, मांगी इजाजत

कोरियाः एडवेंचर पार्क से पहले स्वास्थ्य

छत्तीसगढ़ : हजारों बरस पहले कोरिया के इस पहाड़ पर गिरे थे दो तारे

कोरिया का एकपंगुनी घाट, जहां हर कदम मौत को दावत

कोरिया : घासीदास राष्ट्रीय उद्यान बैकुंठपुर में दिखा लुप्तप्राय इजिप्तीयन गिद्ध

छत्तीसगढ़ : साजा पहाड़ पर बने एडवेंचर पार्क, बच जाएंगे करोड़ों

कोरिया : सोशल मीडिया पर सियासी घमासान

कोरिया : मयखाना खुलने के पहले ही टूट पड़े पीनेवाले

सरगुजा में बारिश-ओले गिरने का तीसरा दिन

जैन समाज जशपुर ने मुख्यमंत्री राहत कोष में दिए 2.5 लाख रुपये

जशपुर में एक 12 वर्षीय हाथी की मौत