सोशल मीडिया की सुर्खियों आबकारी मंत्री कवासी लखमा

भाजपा नेता के विवादित पोस्ट से मचा सियासी बवाल

रायपुर | छत्तीसगढ़ शासन के मंत्री कवासी लखमा एक बार फिर सोशल मीडिया के सुर्खियों में बने हुए है। फेसबुक पेज पर आबकारी मंत्री का विवादित पोस्ट वायरल किया गया है। जिसमें कवासी लखमा करवा चौथ के अवसर पर छलनी और बोतल हाथ मे लिए दिखाई दे रहे है। साथ ही पोस्ट में शराब बंदी का स्लोगन भी दिया गया है। इस पोस्ट को भाजपा के नेता गौरी शंकर श्रीवास ने अपने फेसबुक पेज मे पोस्ट किया है, जिसके बाद ही सोशल वार के साथ ही इस पर विभिन्न कमेंट भी लगातार मिल रहे है। कवासी लखमा पर सोशल वार ऐसे समय हुआ जब चित्रकोट उपचुनाव के मतदान में महज तीन दिन ही बचा हुआ है। ऐसे में माना जा रहा कि ये हमला सिधे तौर पर कवासी लखमा के छवि को व्यक्तिगत नुकसान पहुंचाने की है। इधर इसी पोस्ट में कांग्रेस नेता संजीव अग्रवाल पर भी कमीशन की दलाली का आरोप भाजपा नेता गौरीशंकर श्रीवास ने लगाया है। बता दें कि संजीव अग्रवाल अभी कुछ महिने पहले ही जनता कांग्रेंस छततीसगढ़ से इस्तीफा देकर दुबारा कांग्रेस प्रवेश किया है। संजीव अग्रवाल को मंत्री कवासी लखमा के काफी करीबी माना जाता है। ऐसे मे इस पोस्ट पर विवाद की स्थिति बनती दिखाई दे रही है।

संजीव अग्रवाल करेंगे कानूनी कार्रवाई
कांग्रेस नेता संजीव अग्रवाल ने सिधे तौर पर भाजपा नेता गौरीशंकर को कानूनी चेतावनी भी दे डाली है। संजीव अग्रवाल ने कहा कि यदि आज शाम तक गौरी शंकर श्रीवास सार्वाजनिक माफी नही मांगते तो वे कानून का दरवाजा खटखटाएंगे। उन्होने कहा कि गौरीशंकर श्रीवास ने हिन्दु देवी देवताओं आर रिवाजों का खुले आम मजाक उड़ाकर प्रदेशवासियों को ठेस पहुचाई है। साथ ही मंत्री कवासी लखमा पर चित्र के माध्यम किए गए कटाक्ष को निंदनिय करार दिया है।

भाजपा नेता का पोस्ट
भाजपा के नेता गौरीशंकर श्रीवास ने अपने पोस्ट मे लिखा कि जिस शराबबंदी के नाम से आप लोग सत्ता मे आये है उस पर आपकी सरकार का वास्तविक चेहरा दिखाने से इतनी बैचेनी क्यो होती है ? वो इसलिये क्योंकि ओवररेट से कमीशन जो मिल रहा है। और कमीशन की इस बात को स्वयं आपके पार्टी के नेता स्वीकार कर रहे है। हो सकता है दलबदल के लिये मशहूर संजीव अग्रवाल जी को कमीशन नही मिल रहा हो इसलिये स्वामिभक्ति मे वो लग गये ताकि कुछ उद्धार हो जाये। जो व्यक्ति तीन साल मे जोगी पार्टी मे जाकर कांग्रेस का जड खोदता रहा वो अब खुद को कांग्रेसी साबित करने के लिये सहारा लेना पड रहा है, ये बडे ही दुख की बात है। जो व्यक्ति अपने पार्टी का नही हुआ वो किसी का नही हो सकता। कमीशन ना मिलने पर हो सकता है संजीव जी कल फिर कहि और भाग जाये तो कोई अतिश्योक्ति नही होगी।