भाजपा का हल्ला बोल, रमन बोले “गंगाजल की कसम भी भूल गए”

प्रदेश भर में धान खरीदी केंद्रों के सामने भाजपा का धरना

रायपुर। भारतीय जनता पार्टी ने धान खरीदी पर सरकार पर निशाना साधा है। भाजपा ने धान खरीदी के मुद्दे को लेकर रायपुर के नगपुरा में धरना प्रदर्शन किया। खरीदी केंद्र के ठीक बाहर पंडाल लगाकर धरना प्रदर्शन में प्रदेश के पूर्व मुख्यमंत्री और भाजपा के राष्ट्रीय उपाध्यक्ष डॉ रमन सिंह की अगुवानी में प्रदर्शन किया गया। इस मौके पर समर्थन मूल्य पर धान नहीं खरीदने को लेकर भारतीय जनता पार्टी ने भूपेश सरकार पर सीधे हमला बोला है।

पूर्व मुख्यमंत्री ने मुख्यमंत्री भूपेश बघेल के और उनकी पार्टी के उस वादे को याद दिलाया है, जो उन्होंने गंगाजल हाथों में लेकर किए थे। डॉ. रमन ने कहा कि पूरे प्रदेश में धान खरीदी को लेकर भारतीय जनता पार्टी खरीदी केंद्रों के समक्ष धरना दे रही है। यह सरकार किसानों का अपमान कर रही है। उन्होंने कहा कि मुख्यमंत्री भूपेश बघेल हमें बार-बार चिट्ठी लिखते थे कि 1 नवंबर से धान खरीदी करें, आज वह खुद 1 महीने देरी से प्रदेश में धान खरीदी की शुरुआत कर रहे है। सरकार पर हमला बोलते हुए उन्होंने कहा कि आज यह सरकार वादाखिलाफी कर रही है, इस सरकार की नीति को लेकर भी जनता में आक्रोश व्याप्त है। रमन ने कांग्रेस की कसम को याद दिलाते हुए कहा कि इन लोगों ने घूम-घूम कर गंगाजल लेकर वादा किया था कि 2500 में धान खरीदेंगे, पर अब प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी को कोस रहे है कि केंद्र धान नहीं खरीद रहा। किसानों को वादा करने से पहले आपने उनसे पूछा था क्या ?

भाजपा के प्रदर्शन पर कांग्रेस का पलटवार
इधर भाजपा के आंदोलन पर कांग्रेस की प्रतिक्रिया देते हुये प्रदेश कांग्रेस के महामंत्री एवं संचार विभाग के अध्यक्ष शैलेश नितिन त्रिवेदी ने कहा है कि 2500 रू. धान का मूल्य देने वाली कांग्रेस सरकार को रोकने वाली भाजपा की केंद्र सरकार है और भाजपा के नेता ही आंदोलन कर रहे है। इससे भाजपा का दोहरा चरित्र उजागर हुआ। भाजपा किसान विरोधी थी है और रहेगी। 2018-19 में चुनाव के पूर्व 2500 रू. में धान खरीदी करने की घोषणा की थी, समर्थन मूल्य 1750 और 1780 में धान खरीदी प्रारंभ हो चुकी थी। कांग्रेस का सरकार बनने के बाद कांग्रेस ने अपने वादों के अनुरूप किसानों को अंतर की राशि सभी किसानों को प्रदय किया था। इसी प्रकार इस वर्ष केन्द्र की मोदी सरकार की किसान विरोधी नीति के चलते केन्द्र के आदेश पर समर्थन मूल्य 1815 व 1835 में किसानों का धान खरीदी 1 दिसंबर से प्रारंभ हो रही है। कांग्रेस की सरकार किसानों को 2500 रू. देने प्रतिबद्ध है और मंत्रियों की उपसमिति बनाकर इसमें शीघ्र निर्णय लेकर किसानों को 2500 रू. में धान दिया जायेगा।

संबंधित पोस्ट

ओपी धनखड़ को प्रदेश अध्यक्ष बनाकर भाजपा ने हरियाणा में चलाया जाट कार्ड

भाजपा के संसदीय बोर्ड में खाली 4 पदों पर टिकीं निगाहें, कई नामों पर चर्चा

जगन्नाथ पुरी रथयात्रा पर सुप्रीम कोर्ट के फैसले से बीजेपी ने क्यों ली राहत की सांस?

मप्र उपचुनाव में ‘दगाबाजी’ और ‘दलित उपेक्षा’ को मुद्दा बनाने की कोशिश

मप्र में भाजपा विधायक कोरोना पॉजिटिव, सियासत में उबाल

राजनांदगावः भाजपा छोडऩे के बाद गोस्वामी ने रमन को लिया आड़े हाथ

भाजपा की नई टीम का एलान जल्द, नए चेहरों को मिल सकता है मौका

मप्र विस उपचुनाव में भाजपा कमल नाथ के छिंदवाड़ा प्रेम को मुद्दा बनाने की तैयारी में

फेसबुक पर चिरमिरी ब्लाक कांग्रेस सचिव की महिलाओं पर अश्लील टिप्पणी से बवाल

कोरोना मरीजों के शवों से भर गया दिल्ली का पंजाबी बाग श्मशान घाट, वीडियो वायरल

गुजरात : कांग्रेस को एक और झटका, मोरबी विधायक ने इस्तीफा दिया

भाजपा की कुदृष्टि किसानों की खेती पर, कारपोरेट के जाल में फंसेंगे खेत : अखिलेश