फेल करने की धमकी देकर छात्राओं से जिस्म मांगने वाला शिक्षक निलंबित

जशपुर जिला पंचायत सीईओ ने की कार्रवाई

जशपुरनगर। गंझियाडीह में स्थिति शासकीय उच्चतर माध्यमिक विद्यालय में पदस्थ रसायन शास्त्र के व्याख्याता पंचायत राजेश भारद्वाज को शिकायत जांच पश्चात जिला पंचायत सीईओ के द्वारा तत्काल प्रभाव से निलंबित कर दिया गया है। शिक्षक राजेश भारद्वाज पर छात्राओं ने गंभीर आरोप लगाया था। छात्राओं का आरोप था कि उनके साथ अनैतिक संबंध बनाने के लिए व्याख्याता पंचायत राजेश कुमार भारद्वाज के द्वारा दबाव बनाया जाता है। उक्त शिक्षक पर पुलिस मामला दर्ज कर चुकी है।
जिला पंचायत सीईओ ने मामले में कार्यवाही करते हुए आदेश में बताया है कि संबंधित का कृत्य छग पंचायत सेवा आचरण नियम 1998 के सर्वथा विपरीत है। अधिनियम के तहत उक्त व्याख्याता पंचायत केा तत्काल प्रभावित से निलंबित कर दिया गया। निलंबन अवधि में मुख्यालय विकासखंड शिक्षा अधिकारी कार्यालय फरसाबहार नियत किया गया है।

पुलिस की कार्यवाही
अपनी ही बेटी, बहन जैसी छात्राओं को अच्छे अंक देने के बदले शारीरिक शोषण के लिए प्रताड़ित करने वाले शिक्षक के विरूद्ध पुलिस ने जुर्म दर्ज कर लिया है। कहीं भय दिखाकर तो कहीं अच्छे अंक का लालच देकर छात्राओं से शारीरिक संबंध बनाने का दबाव डालने के मामले ने शनिवार को तब तुल पकड़ना शुरू कर दिया, जब मीडिया के सामने छात्राओं ने आपबीति सुनाई। इधर सोमवार को जब मामले की जांच के लिए पहुंची शिक्षा विभाग की टीम के सामने नाराज अभिभावकों ने संस्था के चार शिक्षक और प्राचार्य को हटाए जाने की मांग कर दी। वहीं पीड़ित छात्र—छ़ात्राओं के बयान के आधार पर तुमला पुलिस ने आरोपी शिक्षक राजेश भारद्वाज के खिलाफ अपराध पंजिबद्व कर लिया ।

शिक्षा विभाग ने बिठाई जांच
शिक्षा विभाग के इस जांच टीम मेें टीम में बीईओ बरसाय पैंकरा सहित एबीओ, बीआरसी मण्डल संयोजक सहित प्राचार्य सिंगीबहार श्रीमती शशिदास शर्मा,श्रीमती दिपिका पैंकरा व्याख्याता कन्या हाई स्कूल पंडरीपानी की संयुक्त टीम ने स्कूल पहुंच कर छात्र छात्राओं के बयान लेकर मामले की जाँच की है। मामले की जाँच पुरी होने के बाद बीईओ बरसाय पैंकरा ने बताया कि छात्र छात्राओं द्वारा की गई शिकायत सही पाई गई है जाँच प्रतिवेदन तत्काल आवश्यक कार्यवाही हेतु उच्चाधिकारी को प्रेषित कर कड़ी कार्यवाही करने की अनुशंसा की गई है।

क्या है छात्राओं का बयान
जाँच में छात्राओं ने दिए बयान में कहा कि शिक्षक हमें मानसिक रूप से प्रताड़ित करता था। शारीरिक संबंध बनाने के लिए दबाव बनाता था और किसी को बताओगे तो प्रेक्टिकल एग्जाम में फेल करने की धमकी देता था। साथ ही क्लास में अपमानित कर पीछे के डेस्क में भेज देता था। छात्राओं ने बताया कि आरोपित शिक्षक दूसरे शिक्षक के साथ भी गाली गलौज करते थे। वही अन्य छात्रों ने अपने बयान में बताया कि प्रेक्टिकल परीक्षा में अच्छे अंक के बदले मुर्गा मंगवाते थे । प्रेक्टिकल परीक्षा में नकल करा कर अच्छे अंक देने की बात कह कर 50-50 रुपये की भी मांग करते थे । नही देने पर फैल करने की धमकी देकर मानसिक रूप से प्रताड़ित करते रहते हैं। आरोपो को जाँच टीम ने सही बताया है और उच्च अधिकारियों को प्रतिवेदन प्रस्तुत कर कड़ी से कड़ी कार्यवाही करने की अनुशंसा भी की है।

रविवार की सुबह तुमला थाना प्रभारी ने टीम गठित कर बागबहार के महिला पुलिस को साथ लेकर पीड़ित छात्राओं के घर जा कर उनके व उनके परिजनों के बयान लेने की प्रक्रिया पूरी करने के बाद देर शाम मामले में एफआईआर दर्ज कर ली गई है। घटना की जानकारी देते हुवे थाना प्रभारी गोविंद राम साहू ने बताया कि पीड़ित बच्ची को अकटुबर माह में राजेश कुमार भारद्वाज शिक्षक ने एक बालक के जरिये मौखिक रूप से शारीरिक संबंध बनाने के लिए मिलने के लिए बुलवाता था। साथ ही स्कूल में भी कई बार शारीरिक संबंध बनाने के लिए दबाव दे कर मानसिक रूप से प्रताड़ित करता था।मामले में पीड़ित पक्ष व अन्य स्कूली बच्चों से मिले बयान के आधार पर धारा 354 क (1)(2) 354 घ (1) 120 ipc 12 पास्को एक्ट के तहत अपराध होना पाया गया । मामले में अपराध दर्ज कर जाँच विवेचना की जा रही है । मामले में फरार चल रहे है शिक्षक की तलाश सरगर्मी से की जा रही है जल्द ही गिरफ्तार कर लिया जाएगा।