जमीन-जायदाद का मोह ऐसा कि माँ-बाप ने बेटे को मार डाला

मामला छत्तीसगढ़ के दुर्ग संभाग के कवर्धा जिले में सामने आया

कवर्धा| कहावतों में जर,जोरू, जमीन को झगड़े का मूल कहा गया है|  ऐसा ही मामला छत्तीसगढ़ के दुर्ग संभाग के कवर्धा जिले में सामने आया है, जहाँ जमीन-जायदाद का मोह ऐसा कि माँ-बाप ने बेटे को मार डाला| आरोपी गिरफ्तार कर लिए गये हैं|

कवर्धा थाना इलाके के रामनगर महराजपूर नहर के पास गत 13 दिसंबर को पुलिस ने एक लाश बरामद की थी| लाश की शिनाख्ती ग्राम कांपा निवासी सुरेश साहू के रूप में की गई थी|

पहली नजर में मृतक के सिर पर गंभीर चोट तथा गर्दन में रस्सी के निशान पाये जाने पर  हत्या का अपराध दर्ज किया गया| मामले की जाँच के लिए विशेष टीम गठित कर आरोपियों की तलाश की गई|

लाश की पहचान के बाद मृतक के मामा ने रिपोर्ट दर्ज कराया कि मृतक सुरेश और उसके पिता मेसराम में  जमीन  बंटवारे को लेकर आये दिन विवाद होता रहता था|

मृतक  अपनी मां के दूसरी जगह शादी कर लिये जाने से  अपने मामा के गाँव  डंगनिया में रहता था|

इसी बीच मृतक के पिता मेसराम साहू ने भी दूसरी शादी कर ली| अपनी 7 एकड़ जमीन को अपनी दूसरी पत्नी तथा बच्चो के नाम कर दिया ।

बताया गया  मृतक द्वारा बंटवारे के नाम से सिविल कोर्ट में केस दायर किया था तो कोर्ट द्वारा आदेश पारित किया गया है कि मृतक अपने पिता के साथ ग्राम कांपा में रहेगा तभी हिस्सा का पात्र है।

इसके बाद करीब  2 साल अपने पिता के साथ ग्राम कांपा में रह रहा था|  उन दोनों में  बंटवारे के नाम से आये दिन विवाद होता रहता था|

विवाद के बाद पिता एवं सौतेली माँ ने मिलकर के बेटे को मार डाला और लाश नाहर के पास फेंक दी थी|

पुलिस ने मौके पर प्राप्त परिस्थितिजन्य साक्ष्य एवं गवाहों के बताये तथ्यों के आधार आरोपी माँ-बाप को गिरफ्तार किया।