छत्तीसगढ़ विधानसभा में दी गई दिवंगत मोतीलाल वोरा को श्रद्धांजलि

सभी सदस्यों ने याद किया बाबूजी के साथ बिताए पल

रायपुर | छत्तीसगढ़ विधानसभा के शीतकालीन सत्र के दूसरे दिन अविभाजित मध्यप्रदेश के मुख्यमंत्री रहे मोतीलाल वोरा के निधन पर सदन के सदस्यों ने बाबूजी को याद किया और उन्हें भावपूर्ण श्रद्धांजलि अर्पित की। दूसरे दिन सदन की कार्यवाही शुरू होते ही विधानसभा उपाध्यक्ष मनोज मंडावी ने सभी सदस्यों को मोतीलाल वोरा के निधन की जानकारी दी और साथ ही मोतीलाल वोरा के कार्यकाल और उनके राजनीतिक जीवन पर उपाध्यक्ष मंडावी ने प्रकाश डाला।

विधानसभा उपाध्यक्ष मनोज मंडावी ने कहा कि मोतीलाल वोरा को सभी बाबूजी के नाम से पुकारते थे आज हमारे बीच नहीं हैं लेकिन उनकी यादें हमेशा हमारे साथ रहेगी। उपाध्यक्ष ने कहा कि बाबूजी दो बार मध्य प्रदेश के मुख्यमंत्री रहे केंद्र सरकार में भी उन्होंने कई मंत्रिमंडल की जिम्मेदारी संभाली। उनके आदर्श और सिद्धांत में उनका पूरा जीवन समर्पित रहा।मंडावी ने कहा मोतीलाल वोरा जी के निधन से न केवल देश बल्कि छत्तीसगढ़ के लिए भी बड़ी क्षति हुई है।

सदन के नेता मुख्यमंत्री भूपेश बघेल ने श्रद्धांजलि के दौरान सदन को संबोधित करते हुए कहा कि उनके निधन से एक दिन पहले ही हम सभी ने उनके जन्मदिन पर उन्हें बधाई दी थी, लेकिन हमें मालूम नहीं था कि विधाता हमें यह दुखद दिन भी दिखाएगा। मुख्यमंत्री भूपेश बघेल ने मोतीलाल वोरा यानी बाबूजी के साथ बिताए पलों को सदन के सदस्यों के साथ साझा किया। उन्होंने कहा कि बाबूजी का सारा जीवन कांग्रेस नेतृत्व के प्रति समर्पित रहा। मुख्यमंत्री ने कहा बाबू जी के निधन से एक ऐसी शून्यता आई है जिसे भर पाना नामुमकिन है हमने उनसे बहुत कुछ सीखा उनकी सीख को याद रखते हुए हम उनके बताए रास्ते पर चलेंगे।

वहीं नेता प्रतिपक्ष धरमलाल कौशिक ने कहा कि मोतीलाल वोरा राजनीति के अजातशत्रु थे। उनका पूरा जीवन ही एक पाठशाला था। बेहद सरल और मृदुभाषी बताते हुए उन्होंने कहा कि छत्तीसगढ़ में उनकी कमी हमेशा खलेगी।

संसदीय कार्यमंत्री रविंद्र चौबे ने अपने अनुभव को साझा करते हुए कहा कि वो स्कूटर में चलकर पूरे विधानसभा का दौरा करते थे, ऐसा व्यक्तित्व शायद ही राजनीति में दिखता है। उन्होंने कहा कि राष्ट्रीय संगठन में रहने के बावजूद वो अपना छत्तीसगढ़ से लगाव नहीं खत्म कर पाये। वो हमेशा पर्व त्योहार और आयोजनों में छत्तीसगढ़ आते थे।

वहीं पूर्व मुख्यमंत्री डॉ रमन सिंह मोतीलाल वोरा को याद करते हुए उन्हें सादर नमन किया और उनके साथ बिताए पलों को साझा किया। रमन ने कहा कि मोतीलाल वोरा जी एक उदारवादी नेता थे और वे हमेशा दलगत राजनीति से ऊपर रहे। उन्होंने कहा की उनसे काफी आत्मीय संबंध रहा, हमने बहुत कुछ सीखा। उनका सरल,सहज और सादगी पूर्ण जीवन हमारे लिए प्रेरणादायक रहेगी।

संबंधित पोस्ट

Video:मुख्यमंत्री कन्या विवाह समारोह में शामिल हुए मुख्यमंत्री भूपेश बघेल

Cabinet:भूपेश मंत्रिमंडल की बैठक में लिए गए हैं कई अहम निर्णय

बजट सत्र का तीसरा दिन:शराब बिक्री को लेकर विपक्ष ने सरकार को घेरा

बजट सत्र के दूसरे दिन छत्तीसगढ़ में बढ़ते अपराधों पर विपक्ष का हंगामा

छत्तीसगढ़ की पंचम विधानसभा का दशम सत्र हुआ शुरू,बजट सत्र 26 मार्च तक चलेगा

छत्तीसगढ़ की पंचम विधानसभा का दशम सत्र आज से हुआ शुरू ,बजट सत्र आज से 26 मार्च तक चलेगा,जिसमे 24 बैठकें होंगी,सत्र से पहले विधानसभा अध्यक्ष ने ली कार्य मंत्रणा समिति की बैठक,बैठक में मुख्यमंत्री,नेताप्रतिपक्ष सहित अन्य सदस्य शामिल हुए

मुख्यमंत्री भूपेश ने धान को बारिश से बचाने कलेक्टरों को दिए सख्त निर्देश

सीएम बघेल के बाद पूर्व मुख्यमंत्री रमन ने वित्त मंत्री सीतारमण को लिखा पत्र

राज्यपाल के अभिभाषण पर शनिवार को भूपेश कैबिनेट लगाएगी मुहर

मैनपाट महोत्सव का आगाज,मुख्यमंत्री भूपेश ने की अनेक महत्वपूर्ण घोषणाएं

Video:छत्तीसगढ़ विधानसभा में 2387 करोड़ रूपए का द्वितीय अनुपूरक बजट पारित

बाबूजी का पार्थिव देह पहुंचा रायपुर,कांग्रेस मुख्यालय में दी गई श्रद्धांजलि