Video : पूर्व मंत्री अजय चंद्राकर ने गोबर से की राजकीय चिन्ह की तुलना

सोशल मीडिया पर बयान पर मचा बवाल

रायपुर | छत्तीसगढ़ में राज्य सरकार द्वारा ‘गोधन न्याय योजना’ की शुरुआत करने के ऐलान के बाद गोबर को लेकर सियासत गरमा चुकी है। भाजपा के वरिष्ठ विधायक और पूर्व मंत्री अजय चंद्राकर ने छत्तीसगढ़ के राजकीय प्रतीक चिन्ह को गाय के गोबर से तुलना कर राजनीतिक गलियारों में बवाल मचा दिया है।

बीती रात भाजपा विधायक अजय चंद्राकर ने अपने ट्विटर के माध्यम से प्रतीक चिन्ह के चित्र के बगल में गोबर को दर्शाकर राज्य सरकार को सुझाव दिया कि अब वर्तमान सरकार राजकीय चिन्ह को बदलकर गोबर का प्रतीक चिन्ह लगा दे।

इतना ही नहीं भाजपा के नेता अजय चंद्राकर ने ट्विटर और फेसबुक पर यह पोस्ट करने के बाद उन्होंने सरकार के चार चिन्हारी नरवा, गरवा, घुरवा और बारी को असफल भी करार दिया है। उनकी माने तो अब छत्तीसगढ़ की अर्थव्यवस्था में गोबर का विशेष महत्व दिखाई देने लगा है।

अजय चंद्राकर के पोस्ट को सोशल मीडिया में वायरल होने के बाद उनके कई समर्थक और भाजपा के कई कार्यकर्ता भी इसे गलत ठहरा रहे हैं। हालांकि मीडिया के सामने कोई बयान देने के लिए नहीं आ रहा है।

बहरहाल सोशल मीडिया पर राजकीय चिन्ह बनाम गोबर पर राजनीति चरम पर पहुंच चुकी है। अब इस विषय पर दोनों ही राजनीतिक दल एक दूसरे पर आरोप-प्रत्यारोप करते नजर आ रहे हैं।

संबंधित पोस्ट

पंजाब स्थानीय निकाय चुनावों में सत्तारूढ़ कांग्रेस को बड़ी बढ़त

मरवाही उप निर्वाचन में कौन बनेगा विधायक,उलटी गिनती शुरू

Video:गोधन न्याय योजना: गोबर विक्रेताओं को 8.97 करोड़ रूपए का हुआ ऑनलाइन भुगतान

गोबर विक्रेताओं को आठ करोड़ रूपए का हुआ आज ऑनलाईन भुगतान

Video:कांग्रेस का तंज,भाजपा सांसद छत्तीसगढ़ की जमीनी हकीकत से कोसों दूर

छत्तीसगढ़ में पढ़ना-लिखना अभियान में ढाई लाख लोगों को साक्षर करने का लक्ष्य

डॉ.रमन सिंह को प्रदेश के बेरोजगारों से माफी मांगनी चाहिये न कि ट्वीट-विकास तिवारी

Video:फीस नियामक विधेयक पर विपक्ष के विरोध पर कांग्रेस का तीखा हमला

छत्तीसगढ़ मे बेकाबू कोरोना संक्रमण पर बेलगाम हुई राजनीति

राजीव गांधी किसान न्याय योजना के 19 लाख किसानों को मिली दूसरी किश्त

Video : कांग्रेस का आरोप,भाजपा में चरमसीमा पर पहुंची गुटबाजी

Video-सीएस का फरमान, गोबर विक्रेताओं को 5 अगस्त को हो पहला भुगतान