Video:मंत्रियों ने भाजपा को दी नसीहत,कांग्रेस का भाजपा से पांच सवाल

झूठी बयान बाजी झूठे आरोप को ही भाजपा विपक्ष का धर्म समझ बैठी है - सुशील आनंद शुक्ला

रायपुर | छत्तीसगढ़ में कोरोना संकटकाल के बीच राजनीतिक उठा पटक रुकने का नाम नहीं ले रहा है। भाजपा ने वैक्सीनेशन को लेकर मुख्यमंत्री भूपेश बघेल से वर्चुअल के बदले फेस टू फेस चर्चा करना चाह रही है। वहीँ मुख्यमंत्री भूपेश ने भाजपा को वर्चुअल बैठक में भाग लेने बुलाया है। 

बस इसी बात को लेकर भाजपा ने अपना अपमान मान लिया और राजभवन कूच कर गए। जहां राज्यपाल से राज्य सरकार के कार्य योजना पर ही सवाल दाग दिया। यहीं नहीं बाकायदा मीडिया से चर्चा के दौरान भाजपा के कद्दावर नेताओं ने भूपेश सरकार को डरपोक और सत्ता में रहने का अधिकार नहीं होने की भी बात कही। 

मंत्री चौबे और सिंहदेव की भाजपा को दो टूक  

प्रदेश के दो वरिष्ठ मंत्री रविंद्र चौबे और टीएस सिंहदेव ने भाजपा नेताओं को उनके अधिकार की पहचान करवा दी। कृषि मंत्री रविंद्र चौबे ने तो छत्तीसगढ़ भाजपा की नीति को पश्चिम बंगाल से जोड़कर रख दिया। चौबे की माने तो जनता की चुनी हुई सरकार पर भाजपा सवाल उठा रही है। भाजपा को जनादेश का सम्मान करना सीखना चाहिए। चौबे ने कहा कि छत्तीसगढ़ में भी भाजपा छोटे छोटे बात पर राजभवन पहुँच जाते हैं। उन्होंने भाजपा को सीख देते हुए कहा कि भाजपा को चाहिए की राजभवन को राजनीति से दूर रखे। साथ ही उन्होंने प्रदेश सरकार के काम काज को सराहनीय कहा।

वहीँ स्वास्थय मंत्री टीएस सिंहदेव ने कहा की भाजपा को मुद्दा नहीं बना चाहिए। बाकायदा सिंहदेव ने तो वर्चुअल कैबिनेट का उदाहरण देते हुए कहा कि मुख्यमंत्री हमसे भी वर्चुअल चर्चा करते हैं। ऐसे में यदि फेस टू फेस चर्चा होगी तो मनभेद को ध्यान में रखते हुए वर्चुअल बैठक की बात कही गई है, जो गलत नहीं है। सिंहदेव ने भाजपा को वर्चुअल बैठक करने की भी सलाह दे डाली।   

देखिये ये वीडियो – 

कांग्रेस का भाजपा पर निशाना 

मामला यही शांत नहीं हुआ। कांग्रेस संगठन ने भी भाजपा द्वारा किये जा रहे राजनीति पर निशाना साधा है। प्रदेश कांग्रेस के प्रवक्ता सुशील आनंद शुक्ला ने कहा कि झूठो बयान बाजी और झूठे आरोप लगाने को ही भाजपा विपक्ष का धर्म समझ बैठी है।यह दुःखद है की वैश्विक महामारी के इस दौर में भी प्रदेश की विपक्षी पार्टी  सिर्फ राजनैतिक प्रोपोगंडा में लगी है। कोरोना के दूसरी लहर की शुरुआत  में राज्य में कोरोना का संक्रमण तेजी और भयावह रूप से बढ़ा ।राज्य सरकार और मुख्यमंत्री भूपेश बघेल की सूझ बूझ से आज छत्तीसगढ़ में टेस्टिंग से ले कर इलाज तक की सारी सुविधाएं व्यवस्थित है ।राज्य में ऑक्सीजन बेड से ले कर वेंटिलेटर पर्याप्त उपलब्ध है ।रिकवरी दर बढ़ी है संक्रमण दर घटी है ।देश भर के अन्य राज्यो के भयावह हालात की तुलना में राज्य अपने नागरिकों को बेहतर चिकित्सा उपलब्ध करवा रहा है। ऐसे समय भी भाजपाई आरोप लगाने की घटिया राजनीति से ऊपर नही उठ पा रहे है।

कांग्रेस के प्रवक्ता सुशील आनंद शुक्ला ने भाजपा से पांच सवाल पूछा है –

1-पूर्व मुख्यमंत्री रमन सिंह राज्य सरकार से पूछते है हर महीने 25 लाख वेक्सीन कहा से आएगी ?राज्य सरकार ने तो दोनों ही कम्पनियों को 75 लाख डोज का ऑर्डर दे दिया है ।और ऑर्डर देने की तैयारी  है ।15 करोड़ का अग्रिम भुगतान भी हो गया है।रमन सिंह राज्य सरकार से सवाल तो पूछ रहे लेकिन केंद्र से उन्होंने राज्य को वैक्सीन दिलवाने में के लिये पत्राचार फोन आदि कोई प्रयास क्यो नही किया ?

रमन सिंह जब भाजपा नेताओं के साथ राज्यपाल से मिलने गए तो उन्होंने राज्यपाल महोदया से प्रदेश के द्वारा ऑर्डर की गई 75 लाख वैक्सीन की डिलवरी जल्दी करवाने की केंद्र से पहल करने का अनुरोध क्यो नही किया ?

2 भाजपा के नेता मुख्य मंत्री से वर्चुवल मीटिंग करने क्यो तैयार नही हुये ? यदि उनके पास वास्तव में कोरोना से निपटने के कोई ठोस महत्वपूर्ण सुझाव थे उसे नही दे कर क्या भाजपा अपनी  विपक्ष की जिम्मेदारी से भाग नही रही ? भाजपा ने प्रेस कांफ्रेंस ले कर जो सुझाव दिया उन सुझावो को केंद्र को क्यो नही देते ?

3 कोरोना काल मे जब सोशल डिस्टेंसिग महत्व पूर्ण और आवश्यक है तब सोशल डिस्टेंसिग के बजाय प्रत्यक्ष मीटिंग करके भाजपा क्या संदेश देना चाहती थी ?

मुख्य मंत्री द्वारा वर्चुवल मीटिंग का प्रस्ताव यदि विपक्ष का अपमान है तो क्या मोदी जी लगातार जो मुख्यमंत्रियों से वर्चुवल मीटिंग कर रहे। केंद्रीय मंत्री मंडल की वर्चुबल बैठक लिए क्या यह सब उन सबको अपमानित करने के लिए कर रहे है ?

4 राज्य में कोरोना वैक्सीन की  कमी है इस कारण वेक्सिनेशन प्रभावित हो रहा भाजपा के लोकसभा के 9 सांसदों राज्य सभा के 2 सांसदों और केंद्रीय राज्यमंत्री ने छत्तीसगढ़ को वैक्सीन की आपूर्ति दिलवाने के लिए क्या प्रयास किये ?राज्य को सस्ता वैक्सीन दिलवाने के लिए कब क्या प्रयास किया ।

5-नेता प्रतिपक्ष धरमलाल कौशिक  कहते है छत्तीसगढ़ ने पीएम केयर से खराब वेंटिलेटर खरीदे है ।राज्य के स्वास्थ्य मंत्री ने स्पष्ट कर दिया कि छत्तीसगढ़ ने पीएम केयर से कोई वेंटिलेटर नही खरीदा ।केंद्र ने पीएम केयर के फंड से  वेंटिलेटर भेजे थे  जिनमें से 70 खराब  को बनवाया गया  उनमें से 4 सुधर भी नही पाए ।जब कि यह स्प्ष्ट हो गया केंद्र ने छत्तीसगढ़ को घटिया वेंटिलेटर भेजे थे  ।राज्य पर आरोप लगाने वाले नेता प्रतिपक्ष ने केंद्र से पूछा कि राज्य को इस आपदा के समय घटिया वेंटिलेटरो की सप्लाई कर राज्य की जनता के प्राणों को संकट में क्यो डाला गया ?

कोरोना काल मे सिर्फ झूठे बयान बाजी को अपना कर्तव्य समझने वाले भाजपा नेताओ में साहस हो तो राज्य की जनता को इन सवालों के जबाब दें।

 

संबंधित पोस्ट

Video:बृजमोहन के अन्न जल त्यागने वाले बयान पर राजनीति शुरू,मंत्री चौबे ने कसा तंज

भाजपा में संगठनात्मक नियुक्ति की डेड लाइन पर कांग्रेस ने साधा निशाना

Video:पीएम मोदी के 7 साल के कार्यकाल पूरा होने पर भाजपा चलाएगा अभियान

Video:सांसद सोनी का आरोप,प्रदेश सरकार प्रचार की भूख में वैक्सीनेशन अभियान हुई चौपट

भाजपा बंगाल में हिंदू वोटों को मजबूत करने में क्यों विफल रही

छत्तीसगढ़ में सोमवार से घर-घर पहुंचेगी शराब,CSMCL ने फिक्स किया दुकान

बंगाल भाजपा के नेता का चुनाव करने के लिए 2 केंद्रीय पर्यवेक्षक नियुक्त

भाजपा को ममता को कम नहीं आंकना चाहिए था’ : चंद्र कुमार बोस

पश्चिम बंगाल में ‘दीदी’ की वापसी के संकेत : सर्वे

ममता के कथित ऑडियो क्लिप को लेकर भाजपा, तृणमूल में तकरार

भाजपा ने बंगाल के लिए किया घोषणापत्र जारी, सीमा सुरक्षा पर विशेष फोकस

भाजपा ने तमिलनाडु में पूर्व आईपीएस और अभिनेत्री खुशबू को दिया टिकट