Video:किसान आंदोलन को लेकर भाजपा और कांग्रेस में वाक् युद्ध जारी

भाजपा की चेतावनी,सरकार किसान आंदोलन की बात न करे-डी.पुरंदेश्वरी

रायपुर | भाजपा संगठन को मजबूत करने पहुंची भाजपा प्रदेश प्रभारी डी.पुरंदेश्वरी ने छत्तीसगढ़ की बघेल सरकार पर आरोपों की बौछार कर दी है। राजधानी से लौटते वक्त उन्होंने भूपेश सरकार को किसान आंदोलनों के बारे में ब्यान बाजी करने से बचने की हिदायत दी है। साथ ही उन्होंने छत्तीसगढ़ में किसानों के द्वारा की जा रही आत्महत्या को लेकर बघेल सरकार को आड़े हाथों भी लिया। इधर भाजपा प्रदेश प्रभारी का बयां वायरल होते ही सत्ताधारी दल ने अपना कैसा हुआ बाण छोड़ दिया और नवनियुक्त भाजपा प्रदेश प्रभारी को छत्तीसगढ़ की परिस्थितियों से वाकिफ ना होने की बात कही। साथ ही कांग्रेस ने पिछले भाजपा शासनकाल में 18600 किसानों द्वारा आत्महत्या को भी गिनाया।

दरअसल, छत्तीसगढ़ की सत्ताधारी कांग्रेस सरकार पर भाजपा प्रदेश प्रभारी डी.पुरंदेश्वरी ने जमकर हमला बोला है। उनका सीधा आरोप है कि बघेल सरकार को किसानों के आंदोलन पर बयानबाजी नहीं करना चाहिए। उल्लेखनीय है कि किसान आंदोलन और किसानों द्वारा की जा रही आत्महत्या को लेकर प्रदेश के मुख्यमंत्री भूपेश बघेल ने किसान आंदोलन के लिए भाजपा के द्वारा पेश किए गए कानून को जिम्मेदार ठहराया है और किसान आंदोलन द्वारा किये जा रहे आंदोलन के लिए केंद्र सरकार को जिम्मेदार ठहराया है। इस बात को लेकर भाजापा प्रदेश प्रभारी डी.पुरंदेश्वरी ने मुख्यमंत्री के किसान आंदोलन और आत्महत्याओं को लेकर की जा रही ब्यान बाजी को लेकर कड़ी आपत्ति जताई है।

वहीँ भाजपा प्रदेश प्रभारी के बयान को लेकर कांग्रेस ने पलटवार किया है। कांग्रेस के प्रदेश प्रवक्ता सुशिल आनंद शुक्ल का कहना है कि भाजपा प्रदेश प्रभारी को छत्तीसगढ़ की परिस्थितियों के बारे में कटी जानकारी नहीं है। प्रभारी बनते ही उन्हें प्रदेश के भौगोलिक और राजनितिक विषयों पर अध्ययन कर लेना चाहिए। शुक्ल ने यह भी कहा कि रमन राज के 15 साल में 18600 किसानों ने आत्महत्या की थी। उन आत्महत्या की तुलना में प्रदेश की बघेल सरकार के कार्यकाल में काफी कमी आई है। उन्होंने प्रदेश के मुख्यमंत्री भूपेश बघेल की सराहना करते हुए भूपेश सरकार को किसान हितैषी करार दिया है।

लगता है अभी से ही राजनीतिक दलों के नेताओं खासकर प्रदेश के वर्तमान प्रमुख विपक्षी दल ने विधानसभा चुनाव 2023 के लिए रणनीति बनाना शुरू कर दिया है। यही कारण है की हमेशा की तरह अब भी देश के अन्नदाता ही राजनैतिक धुरी पर केंद्रित हैं। किसान आंदोलन हो या MSP देने का मुद्दा हो, सभी में किसान को लेकर अब वार-पर -वार किए जा रहे हैं। अब देखना होगा की राजनीतिक दलों के नेताओं की ब्यानबाजी का किसानो और आम लोगों पर क्या प्रभाव डालता है।

संबंधित पोस्ट

भाजपा किसान मोर्चा की बैठक में बनाई गई किसान हित में आगामी रणनीति

Video:मुख्यमंत्री कन्या विवाह समारोह में शामिल हुए मुख्यमंत्री भूपेश बघेल

Cabinet:भूपेश मंत्रिमंडल की बैठक में लिए गए हैं कई अहम निर्णय

बजट सत्र का तीसरा दिन:शराब बिक्री को लेकर विपक्ष ने सरकार को घेरा

बजट सत्र के दूसरे दिन छत्तीसगढ़ में बढ़ते अपराधों पर विपक्ष का हंगामा

छत्तीसगढ़ की पंचम विधानसभा का दशम सत्र हुआ शुरू,बजट सत्र 26 मार्च तक चलेगा

छत्तीसगढ़ की पंचम विधानसभा का दशम सत्र आज से हुआ शुरू ,बजट सत्र आज से 26 मार्च तक चलेगा,जिसमे 24 बैठकें होंगी,सत्र से पहले विधानसभा अध्यक्ष ने ली कार्य मंत्रणा समिति की बैठक,बैठक में मुख्यमंत्री,नेताप्रतिपक्ष सहित अन्य सदस्य शामिल हुए

मुख्यमंत्री भूपेश ने धान को बारिश से बचाने कलेक्टरों को दिए सख्त निर्देश

सीएम बघेल के बाद पूर्व मुख्यमंत्री रमन ने वित्त मंत्री सीतारमण को लिखा पत्र

राज्यपाल के अभिभाषण पर शनिवार को भूपेश कैबिनेट लगाएगी मुहर

मैनपाट महोत्सव का आगाज,मुख्यमंत्री भूपेश ने की अनेक महत्वपूर्ण घोषणाएं

किसान आंदोलन के लंबा खिंचने से भाजपा की बढ़ रही चिंता