Video:बीजापुर में कथित एयर स्ट्राइक पर तीन जिलों के ग्रामीणों ने दिखाई एकजुटता

अब जनता नक्सलियों के झांसे में नहीं आएगी-आईजी

धर्मेंद्र महापात्र,बीजापुर| बीजापुर में कथित एयर स्ट्राइक की घटना के बाद सुरक्षाबल और माओवादियों के बीच टकराहट की स्थिति काफी बढ़ गई है। एक तरफ जहां नक्सली एयर स्ट्राइक या ड्रोन हमले को पुलिस की सोची समझी साजिश करार दे रहे हैं, तो वही बस्तर आईजी ने इसे पूरी तरह से अंदरूनी क्षेत्र की जनता को गुमराह करने की रणनीति बताया है।

गौरतलब है कि 19 अप्रैल को बीजापुर के पामेड़ और सुकमा जिले के सरहदी दो गांव में तड़के हुए एयर स्टाइक को नक्सलियों ने सुनियोजित सरकारी हमला करार दिया है। नक्सलियों ने ड्रोन हमले का प्रमाण देने बाकायदा शुक्रवार को स्थानीय ग्रामीणों और मीडिया को बुलाया। नक्सली नेता विकास जो साउथ स्पेशल जोनल कमेटी का सदस्य होने के साथ माओवादी संगठन दण्डकारण्य स्पेशल जोनल कमेटी का शीर्ष नेता है, ने मीडिया से रूबरू चर्चा करते हुए ड्रोन हमले सुनियोजित बताया। हालांकि ग्रामीणों ने भी एयर स्ट्राइक को सही माना है। 

प्रशासन के खिलफ लामबंद ग्रामीण 

इधर एयर स्ट्राइक की घटना के बाद आसपास के ग्रामीणों में भी सरकार और पुलिस प्रशासन के खिलाफ काफी नाराजगी देखी जा रही है। बीजापुर सहित अगल बगल के तीन जिलों के ग्रामीण अब एक जुट हो गए हैं। यही नहीं ग्रामीणों ने अपनी एकजुटता की मिसाल भी कायम किया है। तीन जिलों के ग्रामीण जिनमे महिला और पुरुष दोनों ही केंद्र और राज्य सरकार के खिलाफ मोर्चा खोल दिया है। इस दौरान कारण एक हजार से भी जयादा की संख्या में जुटे ग्रामीणों ने पुलिस प्रशासन पर ही एयर स्ट्राइक को लेकर सवाल खड़ा कर दिया है। साथ ही बेगुनाह आदिवासियों को जेल से रिहा करने की मांग फिर उठने लगी है। साथ ही कारपोरेट घरानों के द्वारा जमीन हड़पने को भी प्रशासन की गलत मंशा करार दिया है। ग्रामीणों ने प्रदर्शन में केंद्रीय गृह मंत्री अमित शाह का नाम लेकर नीतियों के खिलाफ भी जमकर नारेबाजी की। इन सभी मांगों पर स्थानीय लोगों भी हामी भरी है।

ग्रामीणों का कहना है कि पुलिस प्रशासन के द्वारा एयर स्ट्राइक किया गया जिसका सबूत धमाके से होता है। ग्रामीण कहते हैं कि हवाई हमले के धमाके से आसपास का पूरा क्षेत्र बर्बाद हो जाता है। जमीं की उर्वरा शक्ति भी काम हो जाती है जिससे यहाँ के किसानों को काफी नुकसान भी होता है। ग्रामीण चाहते हैं की क्षेत्र में शांति होना चाहिए लेकिन इस तरह के वारदातों से नहीं।     

नक्सली कर रहे हैं स्वार्थ पूर्ति-आईजी 

इधर पुलिस प्रशासन की ओर से एयर स्ट्राइक को सिरे से नाकारा जा रहा है। बस्तर रेंज के आईजी सुंरराज पी. ने साफ तौर पर कहा की विगत कुछ दिनों से लगातार सीपीआई माओवादी संगठन द्वारा सुरक्षा बल सहित शासन-प्रशासन के विरूद्ध दिग्भर्मित एवं गलत जानकारी देकर अंदरूनी क्षेत्र की जनता को गुमराह किया जा रहा है।

आई जी ने कहा कि यह कार्य आज से नहीं, विगत 40 वर्षो से  धन हिंसा और निर्दोष ग्रामीणों की जान के ये लुटेरे एवं हत्यारे बाहरी माओवादी कैडरों द्वारा अपनी व्यक्तिगत आवश्यकता एवं स्वार्थो को पूर्ति करने के लिये क्रांतिकारी आंदोलन के नाम पर स्थानीय युवाओं को गुमराह कर अपने स्वार्थ की पूर्ति कर रहे हैं । मुठभेड़ में माओवादी खुद की सुरक्षा और मृत्यु के भय से खुद फोर लेयर के घेरे में रखते हैं एवम फोर्स के भारी पड़ने पर सुरक्षित भाग निकलते हैं। लेकिन उनके इन सभी दुष्प्रचारों से क्षेत्र की जनता एवं सुरक्षा बल के ऊपर कोई विपरीत असर नहीं पडे़गा, बल्कि सीपीआई माओवादी संगठन का खात्मा करने का हमारा संकल्प और मजबूत होगा।