अज़ीम प्रेमजी फ़ाउंडेशन ने मेकाहारा को उपलब्ध कराया RNA और RT-PCR जाँच उपकरण

कोरोना जाँच के लिए ये है टेस्टिंग प्रोसेस

रायपुर | छत्तीसगढ़ में कोविड-19 का ग्राफ लगातार बढ़ता जा रहा है। बढ़ते पॉज़िटिव मरीजों की संख्या को देखते हुए जाँच की प्रक्रिया को तेजी से आगे बढ़ाना महत्वपूर्ण कदम है। इसके बिना, न हम आगे की जरूरतों के बारे मैं योजना बना सकते और न ही संक्रमण फैलने की गति के ऊपर लगाम लगाया जा सकता है।

जाँच की प्रक्रिया को तेजी से आगे बढ़ाने के लिए राज्य द्वारा RNA एक्सट्रेकसन व RT-PCR उपकरण की ज़रूरत महसूस की गई थी। अज़ीम प्रेमजी फ़ाउंडेशन द्वारा इन दोनों उपकरणों की आपूर्ति राज्य सरकार को की गयी है। उम्मीद है कि इस महत्व पूर्ण पहल से जाँच की प्रक्रिया में काफी तेजी आएगी। इस से 45 मिनट में 24 सैंपल की जांच हो पाएगी. जिस के बाद RT-PCR मशीन से ढाई से साढे 3 घंटे में 90 रिपोर्ट के रिजल्ट दे सकती है।

कोविड-19 टेस्टिंग प्रोसेस
नोवल कोरोना वायरस ( 2019-n Cov) रियल-टाइम RT-PCR डायग्नोस्टिक पैनल
स्टेप-1: सैंपल कलेक्शन: वायरल ट्रांसपोर्ट मीडियम या स्टेराइल सलाईन में नाक या गले की सूजन या फेफड़ों से बलगम या नमूना लिया जाता है।
नमूना 72 घंटों तक 2-8 डिग्री सेल्सियस में संग्रहित किया जाता है। यदि जांच के लिए बाहर ले जाना शामिल है, तो नमूने को -70 डिग्री सेल्सियस या उस से निचे संग्रहित किये जाते हैं।

स्टेप-2: जीन के हिस्सों को अलग किया जाता है: एकत्र किये गए नमूने से, जीन के भाग ( RNA राइबोन्यूक्लिक एसिड जो DNA की तरह है, लेकिन संरचना में थोड़ा अलग है। वे हमारे जीन या जीन के बिल्डिंग ब्लाक DNA या RNA से बने हुए होते हैं) अलग हैं। इस कदम को RNA निष्कर्षण कहा जाता है। यह कदम एकत्रित नमूनों से जीन के कुछ हिस्सों को अलग करना है।

यह दो तरह से किया जाता है-
(i). मैन्युअल रूप से : यहाँ हमें रसायनों की आवश्यकता होती है ( वे RNA निष्कर्षण किट में शामिल हैं)। भंडारण के लिए पिपेट्स,सेंटीफ्यूज, थर्मामीटर, डीप फ्रीजर।
(ii) एक मशीन ( RNA निष्कर्षण उपकरण ) के माध्यम से: मशीन अधिकांश काम करती है लेकिन हमें भंडारण के लिए रसायन, पिपेट, डीप फ्रीजर की आवश्यकता होती है।

स्टेप 3: कोविड-19 जीन ( या DNA) की उपस्थिति के लिए जांच नमूने से अलग किये गए जीन (RNA) के कुछ हिस्सों की मात्रा वायरस की उपस्थिति की जांच करने के लिए बहुत कम है तो मात्रा बढाई जानी चाहिए ( मात्रा बढाने के लिए इस्तेमाल की जानेवाली प्रक्रिया को RT-पीसीआर कहा जाता है)। इस चरण के दौरान
i. जीन की मात्रा ( RNA) बढ़ जाती है।
ii. एक ही समय में यह उपस्थिति कोविद-19 जीन की तलाश करता है। यदि कोविद-19 जीन मौजूद हैं, तो इस चरण के अंत तक प्राप्त अंतिम उत्पाद उज्जवल प्रतिदीप्ति देता है, जो सकारात्मक परिणाम दर्शाता है। कोई प्रतिदीप्ति नकारात्मक परिणाम नहीं दिखाती है।

स्टेप 4 : एक मशीन (RT-पीसीआर मशीन) में किया जाता है। कोविड-19 परिक्षण किट में चरण-३ के लिए आवश्यक सभी रसायन शामिल हैं।

स्टेप 5: इसलिए कोविड़-19 परिक्षण करने के लिए प्रयोगशालाओं की आवश्यकता होती है।
(i) मैन्युअल निष्कर्षण- स्टेप-2 के लिए सभी रसायनों के साथ RNA निष्कर्षण किट और प्रयोगशाला प्रणाली
(ii). RNA निष्कर्षण मशीन अगर स्वचालित है – स्टेप-2 के लिए
(iii).RT-PCR मशीन-चरण 3 के लिए
(iv) कोविड-19 परिक्षण किट – चरण 3 के लिए