Corona Update : कटघोरा बना कोरोना हब,सैम्पल लेने का दौर जारी

पहले चरण में पाए गए निगेटिव अब दुसरे पर नजर

रायपुर/कोरबा | छत्तीसगढ़ कोरोना मुक्त होने की कागार पर था,लेकिन अचानक कटघोरा में एक दिन में ही 8 केस मिलने से छत्तीसगढ़ कोरोना मुक्त होने से वंचित रह गया। ऐसे में राज्य सरकार के माथे पर चिंता की लकीरें खीचना तो स्वभाविक ही है। इसीलिए सरकार ने कटघोरा के सभी लोगो का टेस्ट कराने के त्वरित निर्देश दिया।

जाँच टीम पहुंची कटघोरा
मुख्यमंत्री के निर्देश के बाद जांच के लिए रायपुर एम्स से डॉक्टरों की एक टीम कटघोरा पहुंची और जिला स्वास्थ्य विभाग को जरूरी निर्देश दिए। साथ ही शुक्रवार शाम तक बिलासपुर, रायगढ़, जांजगीर और कोरिया जिलों से 7 लैब टेक्निशियन का एक दल कटघोरा पहुंचा। जहा टीम ने एक दिन में कटघोरा के लगभग 192 लोगो के लिए गए सैम्पल लिये। लैब टेक्नीशियनों ने मौके पर ही उनका टेस्ट किया। मिली जानकारी के अनुसार अब तक 50 से ज्यादा सैंपल निगेटिव मिले है लेकिन अभी शेष बचे सैंपल पर सभी की निगाहें टिकी हुई है।

दो खेप में होती है सैंपल टेस्ट
कोरबा के सीएमएचओ डाॅ.बी.बी.बोर्डे ने कहा की कटघोरा में सैंपल कलेक्शन का काम जारी है। पूरे मोहल्ले के निवासियों का सैंपल लिया गया है, जिसमें करीब 192 लोगों का सैंपल लेकर एम्स भेज दिया गया है। सीएमएचओ ने कहा कि 2 खेप में सैंपल की जांच एम्स में की जाती है,पहला सुबह और दूसरा शाम को। कोशिश यह रहती है कि पहले ही खेप में सभी जानकारियां मिल जाए ताकि रिपोर्ट के आधार पर पॉजिटिव मरीजों को क्वॉरेंटाइन किया जा सके। साथ ही उन्होंने कहा दूसरे राज्यों से पहुंचे तबलीगी समाज के जमातियों को चिन्हित कर लिया गया है। पुलिस प्रशासन के सहयोग से उनकी खोज कर ली गई है और चिन्हीत कर उन्हें क्वॉरेंटाइन कर दिया गया है और उन्होंने कहा कि फिलहाल डर की कोई बात नहीं है

पुलिस ने बरती सख्ती
इधर कोरबा पुलिस कप्तान अभिषेक मीणा ने भी अपने पुरे टीम को सख्ती बरतने के निर्देश दिए हैं,ताकि कोई बेवजह घर से बहार न निकल सके। जिला प्रशासन और पुलिस द्वारा इस संक्रमण को रोकने के लिए हर संभव प्रयास किया जा रहा है और कटघोरा को जहां सील किया गया है वहीं कटघोरा को जोड़ने वाले पड़ोसी जिलों को भी पूरी तरह से बंद कर दिया है। किसी के भी आने जाने पर पूर्ण रूप से पाबंदी लगा दी गई है। पुलिस चप्पे-चप्पे में तैनात किए गए हैं। कोरबा के एसपी अभिषेक मीणा ने बताया कि पुलिस ने 5 ड्रोन कैमरों से इलाके की निगरानी भी शुरू कर दी है। पुलिस की अलग-अलग टीमें बनाकर शहरभर में पैदल मार्च दिन में किया जा रहा है,जबकि रात में पैदल के साथ ही बाइक पेट्रोलिंग शुरू की गई है। हर बारीकी पर प्रशासन की टीम नजर जमाए हुए है।

कटघोरा बना कोरोना हब
कटघोरा एका एक कोरोना हब बन जाने से जहा सभी के माथे पर बल डाल दिया, तो वही एक राहत भरी खबर ये है कि 4 अप्रेल को 16 वर्षीय नाबालिग जो कोरोना पाजिटिव मिला था वह अब पुरी तरह से स्वस्थ्य हो चुका है। उसका रिपोर्ट निगेटिव आने के बाद रायपुर एम्स ने उसे डिस्चार्ज भी कर दिया है। हालाकि प्रशासन इसे अभी भी 28 दिन के लिए होम आइसोलेट करके रखेगी। बहरहाल कोरबा जिले के कोरोना हब होने के बाद सभी की निगाहें कटघोरा पर ही टिकी हुई है। हालाकि सैंपल रिपोर्ट निगेटिव आने से सरकार के साथ ही क्षेत्रिय लोगों को भी थोड़ी राहत जरूर मिली है।