Video:छत्तीसगढ़ में फिलहाल लाॅकडाउन नहीं,रात 9 के बाद शहरों में “नो मैन्स लैंड” होगा लागू

कलेक्टरों पर छोड़ा नाईट कर्फ्यू का अधिकार

रायपुर | मुख्यमंत्री निवास में आज करीब डेढ़ घंटे तक चली मैराथन बैठक में कोरोरना संक्रमण सही कई विकल्पों पर गहन मंथन किया गया। मुख्यमंत्री भूपेश बघेल अपने मंत्रिमंडल सही विभागीय अधिकारीयों के साथ जिलेवार कोरोना की समीक्षा की। जिसमे प्रदेश के अस्पतालों में बिस्तरों की सुचारु व्यवस्था के साथ ही आपात स्थिति से निपटने दिशा निर्देश भी दिए हैं। 

टीकाकरण पर दिया जोर 

मुख्यमंत्री ने कहा कि कोरोना संक्रमण को रोकने में सबकी भागीदारी आवश्यक है। संक्रमण को रोकने में पहले की ही तरह हम सबको मिलकर काम करना होगा। उन्होंने दुर्ग, बिलासपुर और रायपुर के कलेक्टरों से भी वीडियो कॉन्फ्रेंसिंग के जरिए चर्चा कर कोरोना संक्रमण की स्थिति की समीक्षा की और कलेक्टरों को वहां की परिस्थिति के अनुरूप तत्काल आवश्यक निर्णय लेने के निर्देश दिए। उन्होंने कहा कि टीकाकरण केन्द्रों में हर दिन लक्ष्य के अनुरूप शत्-प्रतिशत टीकाकरण होना चाहिए। टीकाकरण केन्द्रों के सुचारू संचालन के लिए स्थानीय अधिकारियों तथा कर्मचारियों की भी आवश्यकता अनुसार ड्यूटी लगायी जाए, ताकि इन केन्द्रों में लगातार टीकाकरण की कार्रवाई सुनिश्चित हो सके। इन केन्द्रों में टीकाकरण दल द्वारा पूरी क्षमता से टीकाकरण कार्य होना चाहिए।

गाइडलाइन का कड़ाई से हो पालन 

मुख्यमंत्री ने कहा कि जिन स्थानों पर कोरोना संक्रमण का फैलाव तेजी से हो रहा है। उन स्थानों पर कंटेनमेंट जोन घोषित किया जाए। इसी प्रकार गांवों में भी कोरोना संक्रमण फैलने की स्थिति में कंटेनमेंट जोन बनाया जाए। उन्होंने कहा कि होम आईसोलेशन का कड़ाई से पालन कराया जाए। होम आईसोलेशन का पालन नहीं करने वालों पर कार्रवाई की जाए। उन्होंने कहा कि सभी सार्वजनिक स्थानों पर कोरोना गाईडलाईन का पालन करना सुनिश्चित कराया जाए। व्यापारिक और औद्योेगिक संस्थानों में काम करने वाले लोगों को विशेष ध्यान रखा जाए। उद्योगपति और व्यापारी यह सुनिश्चित करें कि वहां काम करने वाले सभी लोग मास्क लगाकर आए और सेनेटाईजर आदि का उपयोग करते रहें।

नाईट कर्फ्यू का निर्णय कलेक्टर लें-भूपेश 

मुख्यमंत्री भूपेश बघेल ने जिला कलेक्टरों को नाईट कर्फ्यू के लिए फ्री हैंड छोड़ दिया है। उनके मुताबिक जहां संक्रमण अनियंत्रित होता नजर आ रहा है ऐसे स्थानों के लिए कलेक्टर स्वविवेक से काम लें। हालाकि बैठक में ये तय हुआ है कि प्रदेशभर में रात 9 बजे के बाद दुकानें बंद कर दिये जायेंगे। मुख्यमंत्री ने वीडियो कोंफ्रेस्न्सिंग के माध्यम से व्यापारियों से चर्चा करते हुए ये बड़ा फैसला लिया है।

मंत्री चौबे ने दी जानकारी 

मुख्यमंत्री की बैठा के बाद कैबिनेट मंत्री रविंद्र चौबे ने मीडिया को जानकारी देते हुए बताया कि प्रदेश में सभी दुकानें, स्ट्रीट वेंडर सहित तमाम गतिविधियां रात 9 बजे के बाद बंद होंगी और शहरों में नो मैन्स लैंड होगा लागू रहेगा।  यानी सड़कों पर आवाजाही नहीं किये जा सकेंगे। केवल पार्सल के लिए होटल रेस्टोरेंट 10 बजे तक चालू रहेंगे। मंत्री चौबे ने कहा कि बैठक में इसके अलावा वैक्सीनेशन को तेज गति से बढ़ाने के साथ ही कॉरोअण प्रभावित जिलों में बजट और नयी नियुक्तियां की करने पर हामी भरी गई है। प्रदेश के ग्रामीण अंचलों में बढ़ते संक्रमण को देखते हुए कंटेनमेंट जोन को बनाने के निर्देश दिये गये हैं। इसके साथ-साथ व्यवस्था को बनाये रखने स्वास्थ्य विभाग में डाक्टर, पैरा मेडिकल स्टाफ, नर्स सहित अन्य पदों पर तत्काल भर्ती करने के निर्देश दिए गए हैं। होली के बाद फिर होगी बड़ी समीक्षा बैठक होगी,जिसमे प्रदेश के हित में बड़ा फैसला लिए जाने की बात भी मंत्री ने कही।

संबंधित पोस्ट

31 मई तक बढ़ा लॉकडाउन,तीन जिलों को मिला विशेष निर्देशों के साथ राहत

मुख्यमंत्री ने किया आंशिक लॉकडाउन की ओर इशारा, दुकानों के संचालन में मिलेगी छूट

‘नाइट कर्फ्यू’ में पूर्व विधायक की पार्टी में भोजपुरी अभिनेत्री ने लगाए ठुमके, FIR दर्ज

लॉकडाउन के बाद भी संक्रमण के खतरे से बाहर नहीं हुआ रायपुर

Video:राजधानी रायपुर में फिर शुरू हुआ 10 दिन का टोटल लॉकडाउन

Video:रायपुर 10 दिनों के लिए लॉकडाउन 9 अप्रैल से

भोपाल, इंदौर व जबलपुर में लॉकडाउन , सड़कों पर सन्नाटा

कम्पलीट लाॅकडाउन के साये में रायपुर जिला,राजधानी की सड़के हुई विरान

रायपुर जिला प्रशासन का लॉकडाउन पर बड़ा निर्णय,निर्धारित समय पर खुलेंगी दुकाने

रक्षाबंधन पर लॉक डाउन में मिली12 बजे तक छूट, खुली रहेंगी राखी और मिठाई दुकान

कोरोना के बढ़ते ग्राफ पर मुख्यमंत्री भूपेश ने लाॅकडाउन पर लिया निर्णय

लॉकडाउन के 74 दिनों में केंद्र सरकार की 10 इमारतें हुईं सील