छत्तीसगढ़ में कोरोना संक्रमण से जंग जीतने वालों की संख्या में हुआ इजाफा

कोरोना संक्रमण की स्थिति में आई थोड़ी बहुत सुधार

रायपुर | छत्तीसगढ़ में कोरोना संक्रमण को रोकने शासन स्तर पर कवायद जोर शोर से चल रही है। प्रदेश में संक्रमण की स्थिति से बेहतर, कोरोना से जंग लड़कर वापस घर लौटने वालों की स्थिति मजबूत हुई है।

14519 नए संक्रमितों की पुष्टि

छत्तीसगढ़ में 24 घंटे में 14519 नए संक्रमितों की पुष्टि स्वास्थ्य विभाग ने की है, तो वही एक ही दिन में 16188 मरीज स्वस्थ होकर घर भी लौटे हैं।  डिस्चार्ज का आंकड़ा कोरोना से जंग लड़ने के लिए ताकत पैदा करता हुआ दिखाई दे रहा है। हालांकि मौत का तांडव अभी भी जारी है, जहां 1 दिन में 183 संक्रमित मरीजों की प्रदेश भर में मौत हुई है, जो चिंता का विषय बना हुआ है। बीते 24 घंटे में 45765 लोगों ने कोरोना की जांच भी करवाई है। माना जा रहा है कोविड की जांच में वृद्धि होने के कारण ही पॉजिटिव मरीजों की संख्या में बढ़त दिखाई दे रही है। ऐसे में विशेषज्ञों की मलबे तो पॉजिटिव मरीजों की ट्रेसिंग जल्द से जल्द होने के कारण संक्रमित मरीजों का इलाज संभव हो सकेगा। यही कारण है कि शासन स्तर पर भी कोरोना जांच की संख्या बढ़ाए जाने पर जोर दिया जा रहा है।

रायपुर अभी भी टॉप 

इधर जिले भर के आंकड़ों पर ध्यान दें तो प्रदेश के टॉप 5 जिलों में आज भी रायपुर जिले में सबसे अधिक पॉजिटिव मरीज की पुष्टि हुई है। रायपुर जिले में बीते दिनों की अपेक्षा 24 घंटे में मरीजों की संख्या बढ़ते हुए 3081 पहुंच चुकी है। वहीं दुर्ग में 1659 , बिलासपुर में 1260, राजनंदगांव में 885 और रायगढ़ में 855 संक्रमित मरीज मिले हैं। इससे जाहिर हो रहा है कि इन जिलों में कोरोना का दायरा बढ़त की ओर है।

सक्रीय मरीज भी हुए कम 

बीते 24 घंटों में संक्रमित मरीजों की पुष्टि के बाद अब प्रदेश भर में पॉजिटिव प्रकरण की संख्या 588818 पहुंच चुकी है। वहीं अब तक 459600 मरीज स्वस्थ होकर घर लौटे हैं और कुल मौत का आंकड़ा 6467 पार हो चुका है। इन आंकड़ों के मुताबिक अब वर्तमान में 122751 मरीज एक्टिव है।

क्या कहते हैं विशेषज्ञ 

कोरोना के लक्षण का आभास होते ही सबसे पहले टेस्ट करवाएं। यदि रिपोर्ट पॉजिटिव आता है तो घबराये नहीं बल्कि डॉक्टर की सलाह लेकर उपचार शुरू कर दें। इसके बाद गंभीर होने लगे तो तुरंत अस्पताल भर्ती हो जाएँ। ऐसा करने पर कोरोना से हो रही मौतों को रोका जा सकता है।

-डॉ.आर.के.पंडा, सदस्य, कोरोना कोर कमेटी

मरीज जिन्हे सांस लेने में तकलीफ है। जिन्हें दूसरी बीमारी नहीं है,वो लापरवाही न बरतें। ऐसे मरीज गंभीर स्थिति में पहुंच रहे हैं। इसलिए सर्दी, खांसी या बुखार होते ही काेरोना जांच करवाएं। कोरोना को हल्के में न लें। उचित समय पर चिकित्सा मिलने पर यह जानलेवा नहीं होती। 

-डॉ.युसूफ मेमन, डायरेक्टर,संजीवनी कैंसर हॉस्पिटल

 

संबंधित पोस्ट

छत्तीसगढ़ में संक्रमण की रफ्तार को रोकने में दवा किट बनी मददगार

छत्तीसगढ़ में कोरोना संक्रमण की स्पीड में आई कमी, मिले 12 हजार

छत्तीसगढ़ में कोरोना संक्रमण हुआ कम, 22.57 फीसदी है संक्रमण दर

छत्तीसगढ़ में कोरोना संक्रमण का दर हुआ 25.3 फीसदी,रफ्तार में आई कमी

छत्तीसगढ़ में कोरोना संक्रमण का सिलसिला बरकरार,वर्चुअल ओपीडी शुरू

छत्तीसगढ़ में कोरोना संक्रमण रफ्तार कम, रिकवरी रेट में इजाफा

छत्तीसगढ़ में कोरोना संक्रमण के रफ्तार में आई तेजी,मिले 16750 नए संक्रमित

CORONA:लॉकडाउन के बावजूद अब तक नहीं टूटी कोरोना संक्रमण की चेन

नवजात शिशु, युवा इस नई लहर के कोरोना संक्रमण से ग्रसित!

कोरोना संक्रमण की नई लहर और लॉकडाउन की चिंताएं

COVID-19 : कोरोना संक्रमण के बढ़ते भोपाल में धरना, प्रदर्शन पर रोक

WHO:सुरक्षा के उपाय नही अपनाने से कोरोना संक्रमण अधिक फैल रहा है