अनलॉक 2 में प्रधानमंत्री मोदी का गरीब परिवारों के लिए बड़ा ऐलान

मिलेगा नवंबर तक 80 करोड़ गरीबों को मुफ्त अनाज

नई दिल्ली / रायपुर | प्रधानमंत्री ने राष्ट्र के नाम संबोधन में कहा कि सभी भारतवासी अपना अपना ख्याल रखें। भारत में अभी भी कोरोना संक्रमणका खतरा टला नहीं है। उन्होंने कहा कि समय पर किये गए लॉकडाउन और केंद्र सरकार के अन्य फैसलों ने भारत में लाखों लोगों के जीवन को बचाने में सफलता मिली है। उन्होंने कहा कि जब से देश में अनलॉक वान की स्थिति लागू की गई है, तब से आम जनजीवन में लापरवाही की स्थिति ज्यादा देखी जा रही है। जबकि ऐसा नहीं होना चाहिए और उन्होंने कहा कि लोग मास्क नहीं पहने हुए दिखाई दे रहे हैं और हाथ धोने में भी लापरवाही बरत रहे हैं। जो कोरोना संक्रमण को और फैलाने में सार्थक हो सकती है।

उन्होंने कहा कि लॉकडाउन में जिस तरह नियमों का कड़ाई से पालन किया गया उसी तर्ज पर अब भी राज्य सरकार और स्थानीय निकायों को सतर्कता दिखाने की जरूरत है। मोदी ने कंटेनमेंट जोन पर काफी जोर दिया है उनका कहना है जो नियमों का पालन नहीं कर रहे हैं उन पर सख्ती बरतनी होगी लेकिन समझा-बुझाकर। प्रधानमंत्री मोदी ने कहा कि नियम के पालन में चाहे वह नेता हो या स्थानीय नागरिक हो नियम तोड़ने में स्थिति में कभी ना आएा। समय किस

प्रधानमंत्री गरीब कल्याण योजना के तहत देश भर में पौने 2 लाख का पैकेज दिया गया है। बीते 3 महीनों में जनधन खाते में 31 हजार करोड रुपए जमा कराए गए हैं। वहीँ 9 हजार किसानों को 18 हजार करोड रुपए की राशि उनके खातों में जमा की गई है। सरकार ने 50 हजार करोड रुपए खर्च कर देशवासियों को बचाने की कोशिश में लगी हुई है। पीएम ने कहा की दूसरे देशों की अपेक्षा करीब दोगुना मुफ्त अनाज भारत के आम जनता को दिया गया है।

भारत में वर्षा ऋतु के दौरान सर्दी-जुखाम, खांसी-बुखार के मामले बढ़ जाते हैं। साइज़ में सभी को काफी ध्यान रखना होगा ताकि संक्रमण से दूर रहा जा सके।

प्रधानमंत्री ने कहा की कृषि क्षेत्र में ज्यादा धान की उपज होती है अन्य दूसरे क्षेत्रों में सुस्ती रहती है। वहीँ जुलाई से त्योहारों का भी माहौल बनना शुरू भी हो जाता है। ऐसी बातों को ध्यान में रखते हुए केंद्र सरकार ने यह फैसला लिया है कि प्रधानमंत्री गरीब कल्याण अन्न योजना का विस्तार अब दिवाली और छठ पूजा तक कर दिया जाएगा। जिसमे 80 करोड़ लोगों को मुफ्त दी जाने वाली योजना जुलाई से लेकर नवंबर तक जारी रहेगी। केंद्र सरकार द्वारा इन 5 महीनों में हर परिवार के हर सदस्य को 5 किलो गेहूं या 5 किलो चावल मुफ्त मुहैया कराया जाएगा और साथ ही प्रत्येक परिवार को हर महीने 1 किलो चना भी मुफ्त दिया जाएगा। प्रधानमंत्री गरीब कल्याण अन्न योजना के विस्तार में 90 हजार करोड़ से ज्यादा खर्च हो चुके हैं और उसमें भी 3 महीनों का खर्च जोड़ा जाए तो करीब डेढ़ लाख रुपए खर्च हो चुके है। लेकिन सरकार कभी पीछे नहदी हटेगी।

प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने कहा कि प्रदेश के किसानों और आयकर दाताओं के कारण ही आज गरीब परिवार का घर सरकार चला पा रही है। किसानों ने अपना दायित्व निभा कर अनाज पैदा किया है तो वही इमानदार करदाताओं ने कर की राशि को जमा कर देश को सफल बनाया।