कम्पलीट लाॅकडाउन के साये में रायपुर जिला,राजधानी की सड़के हुई विरान

शहर सील,चेकप्वाईंट में की जा रही है कड़ी निगरानी

रायपुर | कोरोना महामारी के बढ़ते संक्रमण को देखते हुए रायपुर जिला प्रशासन ने 22 सितंबर से लेकर 28 सितंबर तक कंप्लीट लॉकडाउन का निर्णय लिया, जिसका आज दूसरा दिन है। पहले दिन से ही पूरे शहर भर में पुलिसिया चाक-चैबंद दिखाई दी। राजधानी के सभी चैक चैराहों पर पुलिस ने चेकिंग पॉइंट बनाकर आवाजाही कर रहे वाहनों की सख्ती से चेकिंग भी की। लॉकडाउन के दौरान बेवजह घूमने वालों चार पहिया और दोपहिया वाहनों सहित पैदल चलने वालों पर भी पुलिस ने सख्ती बरती है। पुलिस ने ऐसे सभी लोगों को वापस घर में सुरक्षित रहने हिदायत दी है ताकि वे खुद भी सुरक्षित रहें और अपने परिवार को भी कोरोना संक्रमण से सुरक्षित रखें।

बनाये गए चेक पॉइंट्स
रायपुर जिले के सीमाओं को भी जिला प्रशासन ने पूरी तरह से सील कर दिया है ताकि जिले से बाहर ना कोई जा सके और ना ही जिले के भीतर प्रवेश कर सके। इससे माना जा रहा है कि बढ़ते हुए संक्रमण पर रोक लग सकती है। शहर में करीब 40 चेकप्वाइंट बनाया गया है। जहां पुलिस का बल पूरी तरह से 24 घंटे मुस्तैद नजर आ रही है। चेकप्वाइंट से गुजरने वाले सभी वाहनों की मुस्तैदी से चेकिंग की जा रही है जिससे बेवजह घूमने वालों पर नकैल कसा जा सके।

शहर की सड़कें सुनी
लॉकडाउन की सख्ती के कारण शहर के सभी व्यवसायिक प्रतिष्ठान पूरी तरह से बंद हैं। पेट्रोल पंप में भी शासन के नियमों के अनुसार ही उचित व्यक्ति को ही पेट्रोल दिया जा रहा है। वही मिल्क पार्लर, दूधवाले और मेडिकल स्टोर को भी नियमों के तहत खुले रखने की इजाजत दी गई है। इस बार लॉकडाउन में जिला प्रशासन ने पहले की अपेक्षा काफी सख्ती बरती है।लाॅकडाउन मे कड़ाई के कारण शहर में पूरी तरह से सन्नाटा पसरा हुआ है। कुछ गिने-चुने ही वाहन सड़कों पर नजर आ रहे हैं। यह भी वह वाहन है जिन्हें बहुत ही जरूरी काम से घर से निकलना पड़ रहा है। शंकर नगर चेकप्वाइंट पर खम्हारडीह थाना प्रभारी ममता अली स्वयं चेकिंग के दौरान कई गाड़ियों को रोक कर पूछताछ की। जिसमें अधिकतर लोग मेडिकल से संबंधित मिले। किसी को हॉस्पिटल जाना था तो किसी को दवाई दुकान जाकर अपने परिवार के लिए दवाई लेना था। हालांकि टीआई ममता अली ने कहा कि लोग कई बार मेडिकल के बहाने घूमने भी निकलते हैं, लेकिन मेडिकल पर्ची दिखाने के बाद उन्हें छोड़ना भी पड़ता है। इसके बाद भी थाना प्रभारी ने सभी को चेतावनी देते हुए जल्द घर लौटने की हिदायत दी है।

आपको बता दें कि इस बार लॉकडाउन के दौरान पूरे रायपुर जिले को कंटेंटमेंट एरिया घोषित किया गया है। जिसके चलते काफी कड़ाई प्रशासन ने कर रखी है। रायपुर में बीते 2 माह से लगातार कोरोना संक्रमण के बढ़ती संख्या को देखते हुए यह 8 दिनों का लॉकडाउन किया गया है।

जिला प्रशासन की अपील
जिला प्रशासन ने आम लोगों से अपील करते हुए सभी लोगों को घर पर ही रहने की बात कही है क्योंकि कोरोना वायरस का एंटीडोज अब तक नहीं निकल पाया है। इसलिए हमारी सुरक्षा ही इस वायरस से निपटने के लिए माकूल होगी। कोरोना वायरस को यदि हमें दूर रखना है तो शासन प्रशासन के नियमों का पालन करना जरूरी है। इसका इलाज हमें स्वयं करना है यानी हमें इस संक्रमण से बचने के लिए सावधानी बरतनी होगी। जिला प्रशासन पूरी तरह से कोरोनावायरस को मिटाने के लिए पूरी कोशिश कर रही है, लेकिन आम आम जनों को भी इस कोशिश में हाथ से हाथ मिला कर आगे चलना है। इस तरह ही छत्तीसगढ़ में संक्रमण के बढ़ते रफ्तार को रोका जा सकेगा और तभी जाकर हम कोरोना संक्रमण को पूरी तरह से मात दे सकेंगे।

संबंधित पोस्ट

31 मई तक बढ़ा लॉकडाउन,तीन जिलों को मिला विशेष निर्देशों के साथ राहत

मुख्यमंत्री ने किया आंशिक लॉकडाउन की ओर इशारा, दुकानों के संचालन में मिलेगी छूट

लॉकडाउन के बाद भी संक्रमण के खतरे से बाहर नहीं हुआ रायपुर

Video:राजधानी रायपुर में फिर शुरू हुआ 10 दिन का टोटल लॉकडाउन

Video:रायपुर 10 दिनों के लिए लॉकडाउन 9 अप्रैल से

Video:छत्तीसगढ़ में फिलहाल लाॅकडाउन नहीं,रात 9 के बाद शहरों में “नो मैन्स लैंड” होगा लागू

भोपाल, इंदौर व जबलपुर में लॉकडाउन , सड़कों पर सन्नाटा

वैक्सीन लगवाने के बाद बुखार की चपेट में आई आंध्र की महिला ने तोड़ा दम

रायपुर जिला प्रशासन का लॉकडाउन पर बड़ा निर्णय,निर्धारित समय पर खुलेंगी दुकाने

रक्षाबंधन पर लॉक डाउन में मिली12 बजे तक छूट, खुली रहेंगी राखी और मिठाई दुकान

लॉकडाउन के 74 दिनों में केंद्र सरकार की 10 इमारतें हुईं सील

लॉकडाउन के बाद शूटिंग करने के लिए तैयार है बॉलीवुड