2 साल पहले छेड़छाड़ में जेल गया छूटा तो अगवा कर रेप,फिर फांसी पर लटका दिया और….

मनेंद्रगढ़ की इस घटना से दहला लोगो का दिल

मनेन्द्रगढ़। 2 बरस पहले युवती से छेड़छाड़ की थी, मामले में उसे 3 माह की जेल काटनी पड़ी। जब जेल से छूटा तो उस युवती को अगवा कर बलात्कार किया और उसे निर्वस्त्र कर उसके कपड़े से फांसी का फंदा बना लटका दिया। फंदा कमजोर होने से वह नीचे गिर पड़ी और किसी तरह अपनी जान बचाई। सूचना मिलने पर झगराखंड पुलिस ने आज दोनों आरोपियों को हिरासत में ले लिया है। इधर पीडि़ता का सामुदायिक स्वास्थ्य केंद्र मनेन्द्रगढ़ में उपचार चल रहा है। घटना छत्तीसगढ़ के कोेरिया जिले की है।
झगराखंड थाना क्षेत्र के गांव में दो युवकों ने एक युवती को उसके घर से उठाकर दूर जंगल में ले जाकर मारपीट की। इस दौरान एक युवक ने युवती के साथ बलात्कार किया। जब युवती ने इसका विरोध किया तो आरोपियों ने उसके साथ मारपीट की और फिर युवती को निर्वस्त्र कर उसके ही कपड़े से फांसी का फंदा लगाकर पेड़ पर टांग दिया और भाग गए। फंदा कमजोर होने से वह नीचे गिर पड़ी और किसी तरह अपनी जान बचाई। सूचना मिलने पर झगराखण्ड पुलिस ने दोनों आरोपियों को हिरासत में ले लिया है। इधर पीडि़ता का सामुदायिक स्वास्थ्य केंद्र मनेन्द्रगढ़ में उपचार चल रहा है।


पुलिस के मुताबिक झगराखंड थाना क्षेत्र के कोड़ा चौकी अंतर्गत गांव में 19 वर्षीय युवती अपने घर पर अकेली थी। इसकी जानकारी लगने पर गांव के ही विनोद उरांव और सूरज पनिका ने उसके घर में घुसकर उसे जबरिया अगवा कर लिया और फिर दूर जंगल में ले गए। यहां विनोद उरांव ने युवती के साथ अनाचार किया और उसके बाद अपना अपराध छुपाने की नीयत से युवती का सलवार फाड़ कर उसी से फांसी का फंदा लगाकर पेड़ में टांग दिया। इसके बाद दोनों युवक वहां से भाग निकले।

इस बीच किसी तरह युवती की फांसी का फंदा छूट गया और युवती नीचे गिर गई। रात में युवती किसी तरह जंगल में भटकटर हुए मरवाही थाना क्षेत्र के अंतर्गत आने वाले डोंगराटोला गांव पहुंचीं और गांव वालों को अपने साथ हुई घटना के बारे में जानकारी दी। पीडि़ता की बातों को सुनने के बाद ग्रामीण तत्काल उसे लेकर पीडि़ता के गांव पहुंचे और उसके बाद झगराखण्ड पुलिस को इस बात की जानकारी दी गई।

                   झगराखंड थाना प्रभारी ने इस वारदात की जानकारी पुलिस अधीक्षक विवेक शुक्ला को दी। पुलिस अधीक्षक के निर्देश पर टीम बनाकर आरोपियों की तलाश शुरू कीगई। इस टीम ने आज दोनों ही आरोपियों को तत्काल हिरासत में ले लिया। फिलहाल पीडि़ता का सामुदायिक स्वास्थ्य केंद्र में उपचार चल रहा है।

इस बारे में पीडि़ता के पिता ने बताया कि 2 वर्ष पूर्व आरोपी विनोद द्वारा उसकी बेटी से छेड़छाड़ की गई थी। इस मामले में आरोपी को 3 महीने की जेल भी हुई थी। जेल से छूट कर आने के बाद पूरे परिवार से आरोपी रंजिश रखता था और आज उसने इस वारदात को अंजाम दिया। इस कार्रवाई में थाना प्रभारी देवेंद्र देवांगन, एएसआई ओ पी दुबे, आरक्षक शम्भू यादव, कमलेश साहू शामिल रहे।

इधर घटना की जानकारी मिलने के बाद सरगुजा विकास प्राधिकरण के उपाध्यक्ष विधायक गुलाब कमरो तत्काल अस्पताल पहुंचे और वहां पीडि़ता के स्वास्थ्य की जानकारी ली। उन्होंने कहा कि ऐसी घटनाएं स्वस्थ समाज के लिए कलंक है ऐसे आरोपियों को कड़ा से कड़ा दंड मिलना चाहिए। वहीं उन्होंने अस्पताल में मौजूद डॉक्टरों से पीडि़ता के त्वरित उपचार के भी निर्देश दिए।