बांग्लादेश को तस्करी हो रहे 8.53 करोड़ रुपये के ड्रग्स त्रिपुरा में जब्त

अगरतला। भारत-बांग्लादेश सीमा से सटे एक ठिकाने से बांग्लादेश तक तस्करी कराये जा रहे 8.53 करोड़ रुपये मूल्य के ड्रग सीमा सुरक्षा बल (बीएसएफ) ने जब्त कर लिया। सीमा सुरक्षा बल (बीएसएफ) और राजस्व खुफिया निदेशालय (डीआरआई) के अधिकारियों ने अर्ध-सैनिक टुकड़ी के साथ मिलकर पश्चिमी त्रिपुरा के सिपाहीजला जिले के अंतर्गत सीमावर्ती गांव माटीनगर-रायमुरा में स्थित एक घर से दो कार्टन में रखे गए लगभग 1,68,500 याबा टैबलेट (ड्रग्स) जब्त किया।

बीएसएफ के उप महानिरीक्षक (डीआईजी) सी एल बेलवा ने आईएएनएस से कहा, “एक खुफिया सूचना के आधार पर हमने डीआरआई अधिकारियों के साथ मिलकर इशान भुइयां के घर की घेराबंदी की और बाद में दो कार्टन जब्त किए, जिसमें याबा टैबलेट रखी हुई थी।”

उन्होंने कहा कि 8.53 करोड़ रुपये का यह ड्रग सीमा के उस पार भेजा जा रहा था। इससे ठीक पहले बीएसएफ और डीआरआई के अधिकारियों ने इन्हें जब्त कर लिया।

डीआईजी व बीएसएफ के जनसंपर्क अधिकारी बेलवा ने आगे कहा, “बीएसएफ के जवानों और अन्य अधिकारियों के सीमावर्ती गांव में पहुंचने से पहले ही घर का मालिक इशान भुइयां अपने दो सहयोगियों टुन्नू मिया और सोयन मिया के साथ भागने में सफल रहा।”

हालांकि, डीआरआई के अधिकारियों ने उन्हें पकड़ने के लिए खोजी अभियान चला रखा है। इशान भुइयां के घर से दो छोट्टी कारों को भी जब्त किया गया। इनका प्रयोग सालों से भारत से बांग्लादेश तस्करी के लिए किया जाता था।

याबा टैबलेट्स मेथैम्फेटामाइन और कैफीन का एक खतरनाक रासायनिक यौगिक मिश्रण होता है। इसका इस्तेमाल भारत, बांग्लादेश और अन्य पड़ोसी देशों में ज्यादातर युवाओं द्वारा किया जाता है। यह उच्च स्तर का ड्रग्स होता है।