Big News : हिरासत में नवजात को फेंकने वाली कुआरी माँ…

भागने की फिराक में था परिवार , ग्रामीणों ने किया पुलिस के हवाले

बेमेतरा। अपनी नवजात बच्ची को फेंकने वाली बिन ब्याही माँ को ग्रामीणों की सूचना के बाद पुलिस ने ग्राम कोदवा से हिरासत में लिया है। इधर उसने बच्ची को अपनाने से इंकार कर दिया है। हालांकि उसने बच्ची की माँ होना स्वीकार कर लिया है। फिलहाल उसे सखी सेन्टर में रखा गया है। पुलिस का कहना है कि अवैध संतान का मामला है। पुलिस के अनुसार 19 वर्षीय बिन ब्याही इस मांं ने बच्ची को जिला अस्पताल में एक अक्टूबर को जन्म दिया था। हिरासत में लेने के बाद पुलिस उसे जिला अस्पताल लेकर पहुंची थी, जहां उसने बच्ची से मिलने व देखने की बिल्कुल भी रुचि नहीं दिखाई। पुलिस ने कार्यवाही करते हुए पहले मां को बाल कल्याण समिति के पास भेजा था। इसके बाद भी वह बच्ची को अपने पास रखने के लिए तैयार नहीं हुई।

पुलिस ने बताया कि मां और उसके परिजन मूलत: उत्तरप्रदेश के रहने वाले हैं। वे लोग फेरी का काम करते है। जगह-जगह घूम-घूम कर सामान बेचते है। यह परिवार कोदवा गाँव में रुका हुआ था। सोमवार को किराए के वाहन से सपरिवार जाने की तैयारी में थे। तभी गांव वालों ने शक के आधार पर उन लोगों को पकड़ लिया। इसके बाद पुलिस को सूचना दी। सिटी कोतवाली पुलिस ने गिरफ्तार कर लिया। बताया गया की घूम-घूम कर कारोबार करने के दौरान किसी लडक़े से उसके अवैध संबंध बन गए थे, जिससे वह गर्भवती हो गई थी। इसके बाद परिजन ने बच्ची के जन्म के बाद उसे कहीं छोड़ देने पर सहमति बनाई। 4 अक्टूबर को बच्ची को फेंक दिया गया।

फ़र्ज़ी बताया पति का नाम
लडक़ी की डिलीवरी जिला अस्पताल बेमेतरा में हुई, लेकिन अविवाहित होने के कारण उसने पति का फर्जी नाम दर्ज करवाया था। वह 1 से लेकर 3 अक्टूबर तक अस्पताल में भर्ती थी। अस्पताल से छुट्टी के बाद बच्ची को फेक दिया। जब उसके पहचान वालों ने उसको बच्चे के बारे में पूछा तो बता दिया कि बच्चा मृत पैदा हुआ था, जिसे दफन कर दिया गया है। लेकिन लावारिस बच्ची की खबर मिलने से ग्रामीणों को इस पर शक हुआ। जब वे सोमवार को सपरिवार जाने की तैयारी में थे, उन्हें पकडक़र पुलिस के हवाले कर दिया।