रिश्वत लेते महिला क्लर्क रंगे हाथों गिरफ्तार

एंटी करप्शन ब्यूरो की कार्यवाही

बिलासपुर । एंटी करप्शन ब्यूरो ने शुक्रवार दोपहर करी तहसील ऑफिस के एक लिपिक को दस हजार रुपये रिश्वत लेते गिरफ्तार किया है। बता दें कि हाल ही में रतनपुर में भी एक पटवारी को रिश्वत लेते एसीबी ने गिरफ्तार किया था।
सूत्रों के अनुसार परसदा निवासी ब्रह्मानंद साहू नामक किसान अपनी पैतृक संपत्ति का रिकार्ड दुरुस्त कराने के लिए पिछले कई माह से तहसील ऑफिस सकरी आ रहा था पर उसका काम नहीं हो रहा था। ऑफिस की मिहला क्लर्क मंजू ने उससे रिकॉर्ड दुरुस्त करने के लिए 10 हजार रुपये की मांग की थी।

इसकी शिकायत ब्रह्मानंद साहू ने अक्टूबर में एसीबी से की थी। साहू ने एसीबी के कहे अनुसार महिला क्लर्क के साथ रिश्वत के लिए हुई बातचीत की रिकॉर्डिंग को एसीबी को सौंप दी। शुक्रवार को लेन-देन की तारीख तय की गई।आज दोपहर जैसे ही किसान ने क्लर्क को पैसे दिये वहां सादे वेश में मौजूद एसीबी की टीम ने रंगे हाथों हिरासत में ले लिया।
उल्लेखनीय है कि रिकॉर्ड दुरुस्त करने का काम नायब तहसीलदार अथवा तहसीलदार के निर्देश पर पटवारी द्वारा किया जाता है। इसमें क्लर्क की भूमिका सिर्फ फाइल को अपने पास संभाल कर रखने और आवश्यकतानुसार अधिकारी को देने की होती है। क्लर्क ने यह रिश्वत किसके लिये मांगी, इस पर एसीबी की पूछताछ से पता चलेगा। बीते माह 18 अक्टूबर को ही एसीबी ने रतनपुर में भी एक पटवारी अमर दहायत को चार हजार रुपये की रिश्वत लेते रंगे हाथों पकड़ा था।