जानिए क्यों है ‘देव डीडी 2’ इतना खास? ये रहे 5 कारण

मुंबई | ऑल्ट बालाजी पर सबसे पसंदीदा वेब सीरीज ‘देव डीडी 2’ दर्शकों को काफी पसंद आ रहा है। इस बेब सीरीज में बाई सेक्सुअल, होमो सेक्सुलअल, लेस्बियन, गे आदि मुद्दों को काफी करीबी से दर्शाया गया है। वेब सीरीज ‘देव डीडी 2’ को देखने के लिए यह 5 कारण काफी हैं, जिससे आप काफी प्रभावित होंगे।

इसे देवदास के मॉर्डन वर्जन की तरह पेश किया गया है।

देव डीडी और देव डीडी 2 देवदास का ही मॉर्डन वर्जन हैं। जो समाज में दबे हुए अहम मुद्दे को उठाता है, जिसमें नारीवाद, लिंगभेद, होमोफोबिया जैसे अहम विषय शामिल हैं। शो विक्की (देविका) के इर्द गिर्द घूमती है। वह एक बिंदास लड़की है, जो कि समाज की सोच से विपरीत सोच रखती है, विक्की को आजादी पसंद है और वह स्वतंत्र सोच रखती है। विक्की की मानें तो, शराब पीना या स्मोक करना कोई गलत काम नहीं है। उन्हें यह बताने में भी कोई शर्म नहीं है, वह इन चीजों के लिए कभी शर्मिदा भी नहीं होती है। उन्हें सच बोलना पसंद है। सबसे खास बात यह है कि वह अपने पिता की शान हैं।

विक्की की मुलाकात पारो उर्फ पार्थ से होती है, जिससे उन्हें प्यार हो जाता है और बाद में फिर उनका दिल टूट जाता है। यह देवदास का अत्यधिक बेहतर और वास्तविक वर्जन है। दिल का टूटना, फिर प्यार में पड़ना, अपने माता-पिता के साथ, रिश्तों में ताल-मेल बिठाना और भी बहुत कुछ। यह सब कुछ शो को वास्तविक जीवन से जोड़ते हैं।

सच्चाई से परे भी एक दुनिया

आमतौर पर हमने ऐसे शोज देखे हैं, कई बार आपको वास्तविकता से दूर भी ले जाते हैं और एक अलग दुनिया की सैर कराते हैं। देव डी आपको कुछ ऐसा ही करने पर मजबूर करती है। आप कुछ समय के लिए एक दूसरी ही दुनिया में चले जाते हैं। एक ऐसी दुनिया जहां कई संभावनाएं हैं। कई चीजें आपको तोड़ती हैं। इस सीरीज में कई हास्य पल भी हैं, जो आपको खूब गुदगुदाएंगे। देव डीडी 2 सीरीज में हास्य अंदाज में कई ऐसे महत्वपूर्ण संदेश भी शामिल हैं जो आपको मन में हमेशा के लिए छाप छोड़ जाएगा।

देविका का अंदाज डबल बिंदास, बेफिक्र और निडर

इस शो में अभिनेत्री देविका ने अपना मनमौजी अवतार दिखाया है, जो अपने दोस्तों, घरवालों की मदद के लिए हमेशा खड़ी रहती हैं। और हमेशा सच के तरफ अपना झुकाव रखते हुए उन्हें सपोर्ट करती हैं। इसमें वह एक दिलेर और बहादुर लड़की की भूमिका में हैं, जो निडर होकर अपनी जीवन को अपने तरीके से जीती हैं।

शो में ‘क्वीर विवाह’ पर भी फोकस किया गया है, जानिए क्या होता है.

जिनको अपना सेक्सुअल ओएंटेशन नहीं पता है, उन्हें क्वीर कहते हैं। इस शो में क्वीर विवाह पर भी विशेष रूप से प्रकाश डाला गया है। हमारे कानून में क्वीर विवाह को सामान्य युगलों के विवाह की तरह समान दर्जा मिला तो है, लेकिन इसे अभी भी सामाजिक कलंक के रूप में ही माना जाता है। इस सीरीज की खास बात है कि इसमें काफी विविधता के रंग हैं और जिसकी वजह से इस सीरीज में कई आइकोनिक मोमेंट्स दिखाई देंगे।

बीएफएफ गोल

महिलाओं को हमेशा आगे की ओर बढ़ते देखना सुखदायक होता है। जब वह खुद की निडरता दिखाती हैं, अपने लिए लड़ाई लड़ती हैं और अपने हक के लिए खड़ी होती हैं। इस सीरीज में देविका धरम द्विवेदी में सारे गुण हैं। इस वह बीएफएफ गोल को बखूबी निभाती हैं, क्योंकि वह अपने सबसे अच्छे दोस्त को आगे बढ़ने के लिए प्रोत्साहित करती हैं, सही, गलत के बीच में फर्क सीखाती हैं।

देव डीडी 2 ऑल्ट बालाजी पर 21 फरवरी से प्रसारित हो रहा है।

–आईएएनएस

शेयर
प्रकाशित
Nirmalkumar Sahu

This website uses cookies.